महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे
– फोटो: रेल

ख़बर सुनता है

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार कोरोनावायरस के रोगियों और संदिग्ध मामलों के लिए मौजूदा दिशा-निर्देशों के तहत आवश्यक 14 दिन के पृथक-वास (क्वारंटीन) की अवधि को कम करने के लिए आईसीएमआर के नए निर्देशों का इंतजार कर रही है। कर रहा है उन्होंने एक अध्ययन का हवाला दिया जिसमें कहा गया है कि सरकारी मरीजों को अस्पताल से छुट्टी देने से पहले दो बार जांच करने के बजाय केवल एक बार जांच करने के बाद घर भेजना पड़ सकता है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक टोपे ने एक मराठी समाचार चैनल से कहा, ‘मुझे उस नए अध्ययन की जानकारी है, जिसमें सरकारी केंद्रों में लोगों के लिए सात दिन की पृथक-वास अवधि का सुझाव दिया गया है।’ उन्होंने कहा कि मरीज को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी देने से पहले 24 घंटे के अंतराल में दो बार जांच की जाती है। उन्होंने कहा कि नए अध्ययन के अनुसार सरकार केवल एक बार जांच करने के बाद भी रोगी को छुट्टी दे सकती है।

टोपे ने कहा, ‘इससे ​​सरकार के पास और जांच किट उपलब्ध होगी और समय की बचत होगी। हम इस संबंध में नई दिल्ली स्थित भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) से आधिकारिक तौर पर प्रतीक्षा कर रहे हैं।) इस बीच, टोपे ने जानकारी दी कि राज्य सरकार प्रति दिन लगभग आठ हजार की जांच कर रही है, जिसके परिणामस्वरूप कोरोनावायरस संक्रमण के अधिक मामले सामने आ रहे हैं।

बता दें कि मंगलवार शाम से महाराष्ट्र में अभी तक कोरोनावायरस के 34 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां कुल मौतों का आंकड़ा 617 पहुंच गया है जो देश में किसी भी राज्य से ज्यादा है। कोरोना मामलों की संख्या भी यहां देश में सबसे ज्यादा है, यहां कोरोना संक्रमण के अभी तक 15,525 मामले सामने आ चुके हैं। पूरे देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 49,391 हो गई है और मृतकों की संख्या 1694 हो गई है।

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बुधवार को कहा कि राज्य सरकार कोरोनावायरस के रोगियों और संदिग्ध मामलों के लिए मौजूदा दिशा-निर्देशों के तहत आवश्यक 14 दिन के पृथक-वास (क्वारंटीन) की अवधि को कम करने के लिए आईसीएमआर के नए निर्देशों का इंतजार कर रही है। कर रहा है उन्होंने एक अध्ययन का हवाला दिया जिसमें कहा गया है कि सरकारी मरीजों को अस्पताल से छुट्टी देने से पहले दो बार जांच करने के बजाय केवल एक बार जांच करने के बाद घर भेजना पड़ सकता है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक टोपे ने एक मराठी समाचार चैनल से कहा, ‘मुझे उस नए अध्ययन की जानकारी है, जिसमें सरकारी केंद्रों में लोगों के लिए सात दिन की पृथक-वास अवधि का सुझाव दिया गया है।’ उन्होंने कहा कि मरीज को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी देने से पहले 24 घंटे के अंतराल में दो बार जांच की जाती है। उन्होंने कहा कि नए अध्ययन के अनुसार सरकार केवल एक बार जांच करने के बाद भी रोगी को छुट्टी दे सकती है।

टोपे ने कहा, ‘इससे ​​सरकार के पास और जांच किट उपलब्ध होगी और समय की बचत होगी। हम इस संबंध में नई दिल्ली स्थित भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) से आधिकारिक तौर पर प्रतीक्षा कर रहे हैं।) इस बीच, टोपे ने जानकारी दी कि राज्य सरकार प्रति दिन लगभग आठ हजार की जांच कर रही है, जिसके परिणामस्वरूप कोरोनावायरस संक्रमण के अधिक मामले सामने आ रहे हैं।

बता दें कि मंगलवार शाम से महाराष्ट्र में अभी तक कोरोनावायरस के 34 लोगों की मौत हो चुकी है। यहां कुल मौतों का आंकड़ा 617 पहुंच गया है जो देश में किसी भी राज्य से ज्यादा है। कोरोना मामलों की संख्या भी यहां देश में सबसे ज्यादा है, यहां कोरोना संक्रमण के अभी तक 15,525 मामले सामने आ चुके हैं। पूरे देश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 49,391 हो गई है और मृतकों की संख्या 1694 हो गई है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *