विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी की स्थिति दुनियाभर में बिगड़ रही है। डब्ल्यूएचओ ने कहा कि उसने एक दिन में सबसे ज्यादा मामले रिकॉर्ड किए हैं। साथ ही कहा कि अमेरिका में कोविड-19 खतरनाक होता जा रहा है। 

नस्लवाद के खिलाफ अमेरिका समेत दुनियाभर के प्रमुख शहरों में हो रहे प्रदर्शनों को देखते हुए संयुक्त राष्ट्र के स्वास्थ्य निकाय ने प्रदर्शनकारियों से आग्रह किया है कि वे खुद का ख्याल रखें, ताकि वायरस के प्रसार में तेजी ना आ पाए। 

पिछले साल दिसंबर में चीन के वुहान शहर में सामने आए कोरोना वायरस से दुनियाभर में 4,03,000 लोगों की मौत हुई है। वहीं, 70 लाख से ज्यादा लोग इस खतरनाक वायरस की चपेट में है। पूर्वी एशिया के बाद, यूरोप इस वायरस का केंद्र बनकर उभरा, लेकिन अब अमेरिका ने उसकी जगह ले ली है। 

यह भी पढ़ें: अमेरिका, रूस और ब्राजील में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले, पाकिस्तान में एक लाख का आंकड़ा पार

डब्लूएचओ प्रमुख टेड्रोस अधनोम ग्रेबेसियस ने जेनेवा में आयोजित एक वर्चुअल कॉन्फ्रेंस में कहा कि हालांकि, यूरोप में स्थिति सुधर रही है, लेकिन वैश्विक स्तर पर हालात बदतर होते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 10 दिनों में से नौ दिनों में हर रोज एक लाख मामले सामने आए हैं। कल 1,36,000 मामले सामने आए, जो एक दिन में सामने आई संक्रमितों की सबसे अधिक संख्या है। 

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि इन मामलों में से 75 फीसदी मामले 10 देशों में सामने आए, जिनमें से अधिकतर अमेरिका और दक्षिण एशिया में रिपोर्ट किए गए। उन्होंने आगे कहा कि दुनिया भर में अधिकांश लोग अभी भी संक्रमण के लिए अतिसंवेदनशील हैं।

टेड्रोस ने कहा कि इस महामारी को सामने आए छह महीने से अधिक का समय हो गया है। यह किसी भी देश के लिए महामारी रोकने के उपायों में कमी करने का समय नहीं है। 25 मई को अमेरिका में हुई जॉर्ज फ्लॉयह की हत्या को लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शनों को लेकर डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने कहा कि बड़े स्तर पर लोगों के इकट्ठा होने की वजह से वायरस की सक्रिय निगरानी की आवश्यक है, ताकि इसके प्रसार पर रोक लगाई जा सके।

उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ पूरी तरह से समानता और नस्लवाद के खिलाफ वैश्विक आंदोलन का समर्थन करता है। हम सभी प्रकार के भेदभाव को अस्वीकार करते हैं। हम दुनियाभर में विरोध कर रहे सभी लोगों को सुरक्षित रूप से ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

डब्ल्यूएचओ प्रमुख ने बताया कि संगठन ने 50 लाख पीपीई किट को 110 देशों में भेजा है। बता दें कि, वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने एक अरब 29 करोड़ पीपीई किट 126 देशों में भेजने का लक्ष्य रखा है।  

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *