न्यूज डेस्क, अमर उजाला, कोलकाता
Updated Sat, 23 May 2020 07:01 PM IST

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़
– फोटो : एएनआई

ख़बर सुनें

चक्रवात अम्फान से बुरी तरह प्रभावित हुए राज्य पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा है उनका इस संबंध में राज्य सरकार से कोई चर्चा नहीं हुई। घनखड़ ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। 

धनखड़ ने कहा, ‘मेरी राज्य सरकार से कोई बात नहीं हुई। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी भारतीय तटरक्षक बल और बीएसएफ से विस्तृत चर्चा हुई, उन्होंने बेहतरीन कार्य किया है। मैंने सेना से बात की, वे राहत कार्य के लिए तैयार थे। कोलकाता नगर निगम ने क्या किया?’
 

उन्होंने सवाल किया, ‘उन्होंने पहले तैयारी क्यों नहीं की? अधिकतर मौतें पेड़ों के गिरने से हुई। ऐसे में पहले से कोई आकस्मिक योजना क्यों नहीं बनाई गई। पहले से व्यवस्था क्यों नहीं की गई?’
 

बता दें कि पश्चिम बंगाल में चक्रवात के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 85 हो गई है। तीन दिन बाद भी सामान्य स्थिति बहाल करने में प्रशासन की विफलता को लेकर लोगों ने कोलकाता के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया। 

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के लगभग 1.5 करोड़ लोग चक्रवात के कारण सीधे प्रभावित हुए हैं और 10 लाख से अधिक घर नष्ट हो गए हैं।

चक्रवात अम्फान से बुरी तरह प्रभावित हुए राज्य पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा है उनका इस संबंध में राज्य सरकार से कोई चर्चा नहीं हुई। घनखड़ ने इसे दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। 

धनखड़ ने कहा, ‘मेरी राज्य सरकार से कोई बात नहीं हुई। यह दुर्भाग्यपूर्ण है। मेरी भारतीय तटरक्षक बल और बीएसएफ से विस्तृत चर्चा हुई, उन्होंने बेहतरीन कार्य किया है। मैंने सेना से बात की, वे राहत कार्य के लिए तैयार थे। कोलकाता नगर निगम ने क्या किया?’

 

उन्होंने सवाल किया, ‘उन्होंने पहले तैयारी क्यों नहीं की? अधिकतर मौतें पेड़ों के गिरने से हुई। ऐसे में पहले से कोई आकस्मिक योजना क्यों नहीं बनाई गई। पहले से व्यवस्था क्यों नहीं की गई?’
 

बता दें कि पश्चिम बंगाल में चक्रवात के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 85 हो गई है। तीन दिन बाद भी सामान्य स्थिति बहाल करने में प्रशासन की विफलता को लेकर लोगों ने कोलकाता के विभिन्न हिस्सों में विरोध प्रदर्शन किया। 

आधिकारिक सूत्रों के अनुसार, राज्य के लगभग 1.5 करोड़ लोग चक्रवात के कारण सीधे प्रभावित हुए हैं और 10 लाख से अधिक घर नष्ट हो गए हैं।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *