• घरेलू फंड के अलावा कई विदेशी फंड ने भी लगाए हैं क्यूआईपी मे पैसे
  • बैंक का शेयर मामूली बढ़त के साथ 1,227 रुपए पर कारोबार कर रहा था

दैनिक भास्कर

May 28, 2020, 01:23 PM IST

मुंबई. कोटक महिंद्रा बैंक द्वारा लांच किए गए क्यूआईपी में विदेशी फंड के साथ घरेलू फंड ने भी दांव लगाया है। यह क्यूआईपी तीन गुना भरा है। 7,500 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य इसके जरिए रखा गया था। घरेलू फंड की बात करें तो इसमें प्रमुख म्यूचुअल फंड में एसबीआई, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई म्यूचुअल फंड ने पैसा लगाया है। शेयर मामूली बढ़त के साथ 1,227 रुपए पर कारोबार कर रहा था।

विदेशी फंड ने भी लगाया पैसा

जानकारी के मुताबिक जिन अन्य फंड ने पैसा लगाया है उसमें आदित्य बिरला सन लाइफ म्यूचुअल फंड भी है। विदेशी फंड में सिंगापुर इनवेस्टमेंट कॉर्प, ओपेनहेनलर, कनाडा पेंशन प्लान इनवेस्टमेंट बोर्ड और कैपिटल इंटरनेशनल का समावेश था। इस क्यूआईपी से बैंक का कैपिटल बेस मजबूत होगा। इसके साथ ही आरबीआई के नियमों के अनुसार प्रमोटर उदय कोटक की हिस्सेदारी भी कम हो जाएगी।

75,00 करोड़ रुपए की तुलना में मिला 22,000 करोड़ रुपए

बैंक ने 7,500 करोड़ रुपए जुटाने के लिए मंगलवार को क्वालीफाइड इंस्टीट्यूशनल प्लेसमेंट (क्यूआईपी) लांच किया था। इसका मूल्य 1,147.75 रुपए प्रति शेयर तय किया गया था। मंगलवार को शेयर के बंद भाव की तुलना में यह आधा प्रतिशत नीचे था। हालांकि बुधवार को बैंक के शेयरों में 4 प्रतिशत तक का उछाल देखा गया। वैसे यह भाव बैंक के 52 हफ्तों के उच्च स्तर से 35 प्रतिशत नीचे है।

फरवरी में बैंक के शेयर का भाव 1,739 रुपए था

बता दें कि बैंक के शेयर का भाव इस साल 19 फरवरी को 1,739 रुपए था। हालांकि एक महीने बाद ही 19 मार्च को इसका भाव 1,000 रुपए पर पहुंच गया था। इस आधार पर क्यूआईपी का भाव 11 प्रतिशत ज्यादा है। यह इसका एक साल का उच्चतम भाव है। इस आधार पर तुलना करें तो मंगलवार को इसका भाव 35 प्रतिशत नीचे था। यानी उदय कोटक को कम भाव पर ज्यादा शेयर बैंक का देना होगा।

इस साल में अब तक 31 प्रतिशत शेयर टूटा

आरबीआई के अनुसार प्रमोटर की होल्डिंग कम करनी थी, इसलिए यह क्यूआईपी लाया गया है। बैंक इस जुटाए गए पैसे का उपयोग आर्गेनिक या अन आर्गेनिक तरीके से करेगा। बैंक को लगता है कि कोविड-19 में उसे कुछ अवसर मिल सकता है और इस पूंजी का उपयोग हो जाएगा। बैंक ने इस क्यूआईपी के लिए कोटक महिंद्रा कैपिटल, गोल्डमैन सैश, एसबीआई कैपिटल मार्केट और मोर्गन स्टेनली को बैंकर्स नियुक्त किया है। 18 फरवरी को आरबीआई ने बैंक को निर्देश दिया था कि प्रमोटर की होल्डिंग 6 महीने में कम करके 26 प्रतिशत तक लाई जाए। 

फिलहाल प्रमोटर उदय कोटक की होल्डिंग 29.92 प्रतिशत है। क्यूआईपी के जरिए 3.4 प्रतिशत हिस्सेदारी डाइल्यूट की जाएगी। यह भी संभावना है कि क्यूआईपी के बाद प्रमोटर 57 लाख शेयर्स की बिक्री पब्लिक को करेंगे। जिसके बाद प्रमोटर की हिस्सेदारी घटकर 26 प्रतिशत से नीचे आ जाएगी।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *