• एचडीएफसी, बजाज और महिंद्रा फाइनेंस की एफडी पर ज्यादा ब्याज
  • इस तरह की बड़ी एनबीएफसी को मिली एएई की सर्वोच्च रेटिंग है

दैनिक भास्कर

11 मई, 2020, रात 02:14 बजे IST

मुंबई। एचडीएफसी, बजाज फाइनेंस और महिंद्रा फाइनेंस जैसी टॉप की रेटिंग वाली कंपनियों की फंसी हुई डिपोजिट आजकल लोकप्रिय हो रही हैं। निवेशक धीरे-धीरे डेट म्यूचुअल फंड से दूर रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि फ्रैंकलिन टेंम्पल्टन की घटना के बाद निवेश की रणनीति में बदलाव आ रहा है।

अन्य डाट प्रोडक्ट की तुलना में यह सुरक्षित प्रोडक्ट है

हाल के दिनों में डेट म्यूचुअल फंड जोखिम वाली सिक्योरिटीज में निवेश पर निवेशकों को भारी भरकम नुकसान हुआ है। मई महीने में ब्याज दरों में 0.20 से 0.40 प्रतिशत तक की कटौती की गई है। इससे निवेशक इस तरह की डिपॉजिट में अच्छे रिटर्न पाने के लिए निवेश कर रहे हैं। साथ ही विभिन्न डेटा प्रोडक्ट की तुलना में यह सुरक्षित लग रहे हैं। सकारात्मक बाजार भी इस समय उतार-चढ़ाव से भरा है। सबसे उच्च एएए रेटिंग वाले महिंद्रा फाइनेंस और बजाज फाइनेंस इस बार पांच साल की एफडी पर 7.8 और 7.9 प्रतिशत ब्याज दे रहे हैं।

कंपनी 1 वर्ष की एफडीआई (प्रतिशत में) 2 साल की एफडीआई (प्रतिशत में) 3 साल की एफडीआई (प्रतिशत में)
महिंद्रा फाइनेंस 7.20 7.50 7.60
एचडीएफसी 7.10 7.10 7.10
बजाज ने बाजी मारी 7.40 7.45 7.50
पीएनबी हाउसिंग 7.20 7.30 7.60

छोटी ब्याज दरों में कटौती हुई है

इसी तरह एचडीएफसी द्वारा 7.1 प्रतिशत ब्याज दिया जा रहा है। हालांकि यह पहले की तुलना में 20 बीपीएस कम है। डिस्ट्रीब्यूटों के मुताबिक यह कंपनियां इसलिए ब्याज दरों में कटौती की हैं, क्योंकि हाल में सरकार ने छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों मे एक प्रतिशत की कटौती की है। फ्रैंक के इस समय फ्रैंकलिन टेंम्पल्टन के डेट फंड की 6 स्कीम्स बंद होने और सुरक्षा में निवेश पर उतार-चढ़ाव और कुछ असेट क्लास में खराब रिटर्न से निवेश करने वाले दूर हो रहे हैं।

बैंकों की तुलना में 1.6 प्रतिशत ज्यादा मिल रही है

अभी निवेश एफडी की ओर से किया जा रहा है, जहां सुरक्षा और ज्यादा ब्याज मिल रहा है। निवेशक कंपनी की डिपॉजिट को पसंद कर रहे हैं। ये डिपोजिट में बैंकों की डिपॉजिट की तुलना में 1.6 से 1.9 प्रतिशत ज्यादा ब्याज मिल रहा है। सबसे अधिक उच्च रेटिंग वाले एसबीआई की डिपोजिट में अधिकतम 5.7 प्रतिशत ब्याज मिल रहा है। इसी तरह निजी बैंकों में एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक 6 प्रतिशत ब्याज डिपॉजिट पर दे रहे हैं।

नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनियों (एनबीएफसी) हाल के समय में पुनर्विक्रय बैंकों की तुलना में ज्यादा जोखिम वाली हो गई हैं। लेकिन निवेशक बड़े एनबीएफसी पर अभी भी निर्भरता जताए हैं। विशेष रूप से वे एनबीएफसी जो बड़े व्यावसायिक घरानों से हैं। बजाज कैपिटल के वाइस प्रेसीडेंट मोहित मित्तल ने कहा कि हाल की स्थितियों में निवेश को डाइवर्सिफाइ जरूरी है। किसी एक कंपनी में निवेश का 10 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सा नहीं होना चाहिए।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *