कोरोना वायरस जांच (फाइल फोटो)
– फोटो : PTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

देश में सीएए विरोध प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर एक आतंकी हमले की योजना बनाने  के आरोप में गिरफ्तार की गई कश्मीरी महिला की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बता दें की महिला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की हिरासत में है।

न्यायाधीश ने एनआईए को हिना बशीर बेघ को तत्काल प्रभाव से लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल (एलएनजेपी ) में भर्ती कराने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने उनके पति जहानजीब सामी और एक अन्य आरोपी अब्दुल बासित को इस मामले में न्यायिक हिरासत में भेज दिया, क्योंकि एजेंसी ने उनकी और रिमांड मांग नहीं की थी।

महिला के वकील एम एस खान ने उनके लिए दो महीने के लिए अंतरिम जमानत की मांग करते हुए एक अर्जी दायर की थी। जिसमें कहा गया था कि दिल्ली में कोरोनो वायरस के मामलों की संख्या बढ़ती जा रही है और सरकार को इससे निपटने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। अर्जी में आगे कहा गया था कि सरकारी अस्पतालों में उचित उपचार सुविधाओं की कमी है।

एजेंसी के मुताबिक महिला को इस्लामिक स्टेट की विचारधारा को बढ़ावा देने और नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। सभी आरोपियों की कोरोना जांच 6 जून को अदालत के निर्देश पर कराई गई थी, जबकि उनका 10 दिन के रिमांड की अवधि रविवार को समाप्त हो गई है।

एनआईए ने अदालत को सूचित किया कि आरोपी जहानजीब सामी और मोहम्मद अब्दुल्ला बासित की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है, लेकिन हिना बशीर बेघ की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है।

देश में सीएए विरोध प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर एक आतंकी हमले की योजना बनाने  के आरोप में गिरफ्तार की गई कश्मीरी महिला की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। बता दें की महिला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की हिरासत में है।

न्यायाधीश ने एनआईए को हिना बशीर बेघ को तत्काल प्रभाव से लोक नायक जय प्रकाश अस्पताल (एलएनजेपी ) में भर्ती कराने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने उनके पति जहानजीब सामी और एक अन्य आरोपी अब्दुल बासित को इस मामले में न्यायिक हिरासत में भेज दिया, क्योंकि एजेंसी ने उनकी और रिमांड मांग नहीं की थी।

महिला के वकील एम एस खान ने उनके लिए दो महीने के लिए अंतरिम जमानत की मांग करते हुए एक अर्जी दायर की थी। जिसमें कहा गया था कि दिल्ली में कोरोनो वायरस के मामलों की संख्या बढ़ती जा रही है और सरकार को इससे निपटने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। अर्जी में आगे कहा गया था कि सरकारी अस्पतालों में उचित उपचार सुविधाओं की कमी है।

एजेंसी के मुताबिक महिला को इस्लामिक स्टेट की विचारधारा को बढ़ावा देने और नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के लिए उकसाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। सभी आरोपियों की कोरोना जांच 6 जून को अदालत के निर्देश पर कराई गई थी, जबकि उनका 10 दिन के रिमांड की अवधि रविवार को समाप्त हो गई है।

एनआईए ने अदालत को सूचित किया कि आरोपी जहानजीब सामी और मोहम्मद अब्दुल्ला बासित की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है, लेकिन हिना बशीर बेघ की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *