• अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में 4.7 प्रतिशत थी जीडीपी
  • 2019 के पूरे साल के दौरान 6.1 प्रतिशत था यह आंकड़ा

दैनिक भास्कर

May 29, 2020, 05:54 PM IST

मुंबई. जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान देश का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) 3.1 प्रतिशत रहा है। जबकि अनुमान 2.2 प्रतिशत का था। हालांकि पूरे साल के दौरान जीडीपी की वृद्धि दर 4.2 प्रतिशत रही। जबकि अनुमान 4.4 प्रतिशत का था। इसी तरह ग्रास वैल्यू एडेड (जीवीए) 3.9 प्रतिशत रहा है जबकि इसका अनुमान 4.3 प्रतिशत का था। 

माइनिंग और कृषि में अच्छी रही विकास दर

माइनिंग ग्रोथ की बात करें तो यह चौथी तिमाही में 2.2 प्रतिशत से बढ़कर 5.2 प्रतिशत रही है। कृषि की विकास दर इसी अवधि में तिमाही आधार पर 3.6 प्रतिशत से बढ़कर 5.9 प्रतिशत पर रही है। इससे पहले अक्टूबर से दिसंबर की तिमाही में यह आंकड़ा 4.7 प्रतिशत था। जबकि 2019 के पूरे साल के दौरान यह आंकड़ा 6.1 प्रतिशत था। इससे पहले अप्रैल में 8 सेक्टर की वृद्धि दर 38.1 प्रतिशत गिरी। मार्च में इसमें 9 प्रतिशत की गिरावट आई थी। इलेक्ट्रिसिटी आउटपुट 22.8 प्रतिशत गिरा जबकि सीमेंट के आउटपुट में 86 प्रतिशत की गिरावट देखी गई थी।

कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार ने पहली बार सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) के आंकड़ों को शुक्रवार को जारी किया। नेशनल स्टेटेस्टिकल ऑफिस (एनएसओ) की ओर से जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है।

मार्च में एक हफ्ते की बंदी से ज्यादा असर नहीं

हालांकि इस आंकड़ें पर लॉकडाउन का ज्यादा असर इसलिए नहीं पड़ा है क्योंकि मार्च के अंतिम हफ्ते में लॉकडाउन शुरू हुआ था। इस तरह से देखा जाए तो महज एक हफ्ते के बंद का ही इस पर असर हुआ है। बीते वित्त वर्ष की पहली तीन तिमाहियों में विकास दर क्रमशः 5.1 फीसदी, 5.6 फीसदी और 4.7 फीसदी थी।  

तमाम एजेंसियों ने 2 प्रतिशत से नीचे का अनुमान लगाया था

बता दें कि इससे पहले तमाम एजेंसियों ने अपना-अपना अनुमान पेश किया था। ज्यादातर एजेंसियों ने मार्च तिमाही में 2 प्रतिशत से नीचे ही जीडीपी का अनुमान व्यक्त किया था। हालांकि पूरे साल के लिए यह आंकड़ा 5 प्रतिशत से नीचे का अनुमान लगाया गया था। इक्रा ने मार्च तिमाही के लिए 1.9 प्रतिशत, क्रिसिल ने 0.5 प्रतिशत, एसबीआई ने 1.2 प्रतिशत, केयर ने 3.6 प्रतिशत, आईसीआईसीआई बैंक ने 1.5 प्रतिशत और नोमुरा ने 1.5 प्रतिशत के जीडीपी का अनुमान लगाय था।  

पूरे साल के लिए 4 प्रतिशत से ऊपर का अनुमान था

जबकि पूरे साल के लिए इ्रक्रा ने 4.3 प्रतिशत, क्रिसिल ने 4, एसबीआई ने 4.2, केयर ने 4.7, आईसीआईसीआई बैंक ने 5.1 और फिच ने 5 प्रतिशत का अनुमान लगाया था। बता दें कि लॉकडाउन4.0 रविवार को समाप्त हो रहा है। जीडीपी का आंकड़ा इसलिए महत्वपूर्ण था क्योंकि कोविड-19 से लॉकडाउन के बाद यह पहली बार जारी हो रहा है।

लॉकडाउन से पहले देश की विकास दर 6 साल के निचले स्तर पर 

लॉकडाउन से पहले भारत की विकास दर पिछले छह साल में सबसे निचले स्तर पर थी। एसबीआई इकोरैप रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना वायरस संकट के कारण देश की अर्थव्यवस्था को भारी झटका लगने की आशंका है। देश की अर्थव्यवस्था को 1.4 लाख करोड़ रुपए का नुकसान होने की संभावना है। सरकार ने इस साल में पहले ही 12 लाख करोड़ रुपए की उधारी ले रखी है। इसका असर आनेवाले समय में आंकड़ों पर दिखेगा।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *