बिज़नेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Mon, 11 मई 2020 02:02 PM IST

ख़बर सुनता है

रेलवे के बाद अब भारत में हवाई सेवा शुरू करने की तयारी चल रही है। इसके लिए आज नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA), सिविल ऑफ सिविल एविएशन सिक्योरिटी ऑफिस, भारतीय हवाई अड्डा, दिल्ली इंटर्नेशनल लिमिटेड और एसएसएसएफ की संयुक्त टीम ने दिल्ली टर्मिनल का दौरा किया।

लॉकडाउन के बाद किस तरह से तमाम बंद सेवाएं सामान्य होंगी और किस तरह से लोग सामान्य रूप से यात्राएं कर रहे होंगे इसके लिए सरकार और संबद्ध प्राधिकरणों ने तेजी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसमें से एक घरेलू हवाई सेवा जो शुरू करने के लिए विभिन्न टर्मिनल अथॉरिटी तेजी से तैयारियों में जुटी हैं।

दिल्ली हवाई अड्डे की संचालक संस्था दिल्ली इंटरनेशनल इंजन लिमिटेड सहित तमाम टर्मिनल प्राधिकारियों ने अंतर को रोकने के लिए योजना तैयार की है। इसके तहत हवाई अड्डों की उन जगहों की पहचान की गई है, जहां कर्मचारी से लेकर यात्रियों तक की सहुलियतों से जुड़ी चीजें एक-दूसरे के संपर्क में आती हैं। ताकि इन चीजों को हर बार संक्रमण रहित किया जा सके और कोरोना के संक्रमण को फैलाने से रोका जा सके।

प्रवेश के समय से ही बरती सटीकता होगी
हवाई अड्डों पर संक्रमण फैलने की सबसे बड़ी आशंका प्रवेश के समय ही रहती है। ऐसे में टर्मिनल अथॉरिटीज ने यहीं पर संक्रमण रोकने के लिए योजना तैयार की है। प्रवेश के दौरान कॉन्टैक्टलेस सिस्टम तैयार किया गया है ताकि कोई यात्री एक-दूसरे के संपर्क में न आए। पासपोर्ट पहुंचने के बाद यात्री सबसे पहले बैगेज ट्रॉली के संपर्क में आते हैं। इसलिए सबसे पहले ट्रॉली के हैंडल से अंतर एक यात्री से दूसरे में फैलने की आशंका होती है। इस समस्या के निराकरण के लिए फोरकोर्ट क्षेत्र में एक कीटाणुनाशक टंकी बनाई गई है।

सामाजिक दूरी का भी ध्यान रखा जाएगा
यात्रियों के बीच सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए मार्किंग की इच्छा। दस्तावेजों की जांच से पहले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा, टर्मिनल गेट पर दस्तावेजों की जांच कर रहे यात्रियों को सैनिटाइजर उपलब्ध कराया जाएगा। टिकट और आईडी प्रूफ की है बिना छुए की जाएगी।

यात्रियों की संख्या में 30 प्रतिशत की कटौती संभव है
हाल ही में कैर रेटिंग्स ने कहा था कि कोरोनावायरस महामारी के नेतृत्व में चालू वित्त वर्ष के दौरान विमान यात्रियों के कथा में 30 प्रति तक की कमी आ सकती है, जबकि इससे पहले उसका अनुमान था कि ये आंकड़ा 20 से 25 प्रति के बीच रहेगा। इसके साथ ही रेटिंग एजेंसी ने यह अनुमान भी लगाया था कि सामाजिक दूरी के नियमों के तहत हवाई यात्रा की घबराहट होगी।

रेलवे के बाद अब भारत में हवाई सेवा शुरू करने की तयारी चल रही है। इसके लिए आज नागर विमानन महानिदेशालय (DGCA), सिविल ऑफ सिविल एविएशन सिक्योरिटी ऑफिस, भारतीय हवाई अड्डा, दिल्ली इंटर्नेशनल लिमिटेड और एसएसएसएफ की संयुक्त टीम ने दिल्ली टर्मिनल का दौरा किया।

लॉकडाउन के बाद किस तरह से तमाम बंद सेवाएं सामान्य होंगी और किस तरह से लोग सामान्य रूप से यात्राएं कर रहे होंगे इसके लिए सरकार और संबद्ध प्राधिकरणों ने तेजी से तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसमें से एक घरेलू हवाई सेवा जो शुरू करने के लिए विभिन्न टर्मिनल अथॉरिटी तेजी से तैयारियों में जुटी हैं।

दिल्ली हवाई अड्डे की संचालक संस्था दिल्ली इंटरनेशनल इंजन लिमिटेड सहित तमाम टर्मिनल प्राधिकारियों ने अंतर को रोकने के लिए योजना तैयार की है। इसके तहत हवाई अड्डों की उन जगहों की पहचान की गई है, जहां कर्मचारी से लेकर यात्रियों तक की सहुलियतों से जुड़ी चीजें एक-दूसरे के संपर्क में आती हैं। ताकि इन चीजों को हर बार संक्रमण रहित किया जा सके और कोरोना के संक्रमण को फैलाने से रोका जा सके।

प्रवेश के समय से ही बरती सटीकता होगी

हवाई अड्डों पर संक्रमण फैलने की सबसे बड़ी आशंका प्रवेश के समय ही रहती है। ऐसे में टर्मिनल अथॉरिटीज ने यहीं पर संक्रमण रोकने के लिए योजना तैयार की है। प्रवेश के दौरान कॉन्टैक्टलेस सिस्टम तैयार किया गया है ताकि कोई यात्री एक-दूसरे के संपर्क में न आए। पासपोर्ट पहुंचने के बाद यात्री सबसे पहले बैगेज ट्रॉली के संपर्क में आते हैं। इसलिए सबसे पहले ट्रॉली के हैंडल से अंतर एक यात्री से दूसरे में फैलने की आशंका होती है। इस समस्या के निराकरण के लिए फोरकोर्ट क्षेत्र में एक कीटाणुनाशक टंकी बनाई गई है।

सामाजिक दूरी का भी ध्यान रखा जाएगा
यात्रियों के बीच सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए मार्किंग की इच्छा। दस्तावेजों की जांच से पहले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा, टर्मिनल गेट पर दस्तावेजों की जांच कर रहे यात्रियों को सैनिटाइजर उपलब्ध कराया जाएगा। टिकट और आईडी प्रूफ की है बिना छुए की जाएगी।

यात्रियों की संख्या में 30 प्रतिशत की कटौती संभव है
हाल ही में कैर रेटिंग्स ने कहा था कि कोरोनावायरस महामारी के चलते चालू वित्त वर्ष के दौरान विमान यात्रियों के भाषण में 30 प्रति तक की कमी आ सकती है, जबकि इससे पहले उसका अनुमान था कि ये आंकड़ा 20 से 25 प्रति के बीच रहेगा। इसके साथ ही रेटिंग एजेंसी ने यह अनुमान भी लगाया था कि सामाजिक दूरी के नियमों के तहत हवाई यात्रा की घबराहट होगी।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *