कोरोना की वैक्सीन लगवाते स्वास्थ्य कर्मी
– फोटो : PTI

ख़बर सुनें

मध्य प्रदेश में जबलपुर के सरकारी गांधी मेडिकल कॉलेज की एक वरिष्ठ महिला डॉक्टर कोविड-19 के टीके की दोनों खुराक लेने के बावजूद कोरोना वायरस से संक्रमित हो गई हैं। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी।

डॉक्टर के करीबी लोगों ने कहा कि डॉक्टर का मानना था कि टीके की दूसरी खुराक लेने के बाद मास्क पहनने की आवश्यकता नहीं है और संभवत: इसी लापरवाही के चलते उन्हें टीका लगाने के बावजूद संक्रमण हुआ है।

उन्होंने बताया कि 48 वर्षीय डॉक्टर को कोरोना टीके के पहली खुराक 16 जनवरी को मिली थी जबकि दूसरी खुराक एक मार्च को मिली। उन्होंने बताया कि 10 मार्च को जांच में डॉक्टर को कोरोना संक्रमित पाया गया और इसके चलते उन्हें 14 दिनों तक पृथक-वास की सलाह दी गई है।

मध्य प्रदेश में जबलपुर के सरकारी गांधी मेडिकल कॉलेज की एक वरिष्ठ महिला डॉक्टर कोविड-19 के टीके की दोनों खुराक लेने के बावजूद कोरोना वायरस से संक्रमित हो गई हैं। अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी।

डॉक्टर के करीबी लोगों ने कहा कि डॉक्टर का मानना था कि टीके की दूसरी खुराक लेने के बाद मास्क पहनने की आवश्यकता नहीं है और संभवत: इसी लापरवाही के चलते उन्हें टीका लगाने के बावजूद संक्रमण हुआ है।

उन्होंने बताया कि 48 वर्षीय डॉक्टर को कोरोना टीके के पहली खुराक 16 जनवरी को मिली थी जबकि दूसरी खुराक एक मार्च को मिली। उन्होंने बताया कि 10 मार्च को जांच में डॉक्टर को कोरोना संक्रमित पाया गया और इसके चलते उन्हें 14 दिनों तक पृथक-वास की सलाह दी गई है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *