अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली  
Updated Mon, 08 Jun 2020 04:19 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें

शराब पीने के शौकीन लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब उन्हें शराब की खरीद पर 70 प्रतिशत अतिरिक्त कोरोना सेस नहीं देना होगा। दिल्ली सरकार ने कोरोना सेस को वापस लेने का निर्णय ले लिया है। दरअसल शराब की बिक्री में कमी को ध्यान में रख सरकार को यह निर्णय लेना पड़ा है, जो कि 10 जून से लागू होगा। लेकिन इसके साथ ही जनता को शराब की खरीदारी पर 5 प्रतिशत वैट अधिक चुकाना होगा। 

पिछले महीने की शुरुआत में केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के दौरान शराब की दुकानें खोलने की अनुमति दे दी थी। राजधानी में 4 मई को जब शराब की दुकानें खुली तो भीड़ उमड़ पड़ी। सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ीं तो दुकानें बंद तक करानी पड़ी। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने शराब पर 70 प्रतिशत कोरोना सेस लगाने का आदेश दे दिया। इसका उद्देश्य राजस्व बढ़ाना भी थी। 

हालांकि कोरोना सेस लगने से दिल्ली में 100 रुपये की शराब की बोतल 170 रुपये में बिकने लगी। इसका असर शराब की बिक्री केंद्रों पर दिखा। भीड़ अचानक से नदारद हो गई। ना केवल अंग्रेजी शराब बल्कि बीयर और देसी शराब की बिक्री भी प्रभावित होने लगी। गर्मी के दिनों में तो बीयर की बिक्री में 60-80 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। 

शराब के एक विक्रेता ने बताया कि महंगी शराब होने के कारण लोगों ने ठेके से दूरी बना ली। एक तो वैसे ही लॉकडाउन व कोरोना महामारी की वजह से शराब पीने से लोग कतरा रहे हैं ऊपर से कोरोना सेस के कारण बिक्री ही चौपट हो गई थी। उम्मीद है कि 10 जून के बाद बिक्री कुछ हद तक बढ़ेगी। 

शराब की बिक्री पर वैट पांच प्रतिशत बढ़ाने का निर्णय
कोविड-19 की वजह से दिल्ली में नई आबकारी पॉलिसी आने में देरी संभव है। हालांकि इस बीच दिल्ली सरकार ने शराब की बिक्री पर वैट बढ़ाने का निर्णय ले लिया है। शराब केंद्रों पर बिक्री की जाने वाली शराब 5 प्रतिशत महंगी हो जाएगी। 

सरकार ने एक तरफ कोरोना सेस को वापस लेने का निर्णय लिया है, तो वहीं वैट 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर दिया है। 10 जून से 70 प्रतिशत कोरोना टैक्स हटने से शराब सस्ती होगी। हालांकि पूर्व में निर्धारित दर में पांच प्रतिशत की बढ़ोतरी हो जाएगी। 100 रुपये वाली शराब की बोतल 105 रुपये में मिलेगी। यह निर्णय रविवार को दिल्ली कैबिनेट ने लिया। 

सार

  • 10 जून से सस्ती हो जाएगी शराब और बीयर
  • शराब पर लगाया 70 फीसदी कोरोना सेस हटाया
  • 70 प्रतिशत महंगी होने से शराब की बिक्री कम हो गई थी 

विस्तार

शराब पीने के शौकीन लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब उन्हें शराब की खरीद पर 70 प्रतिशत अतिरिक्त कोरोना सेस नहीं देना होगा। दिल्ली सरकार ने कोरोना सेस को वापस लेने का निर्णय ले लिया है। दरअसल शराब की बिक्री में कमी को ध्यान में रख सरकार को यह निर्णय लेना पड़ा है, जो कि 10 जून से लागू होगा। लेकिन इसके साथ ही जनता को शराब की खरीदारी पर 5 प्रतिशत वैट अधिक चुकाना होगा। 

पिछले महीने की शुरुआत में केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के दौरान शराब की दुकानें खोलने की अनुमति दे दी थी। राजधानी में 4 मई को जब शराब की दुकानें खुली तो भीड़ उमड़ पड़ी। सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ीं तो दुकानें बंद तक करानी पड़ी। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए सरकार ने शराब पर 70 प्रतिशत कोरोना सेस लगाने का आदेश दे दिया। इसका उद्देश्य राजस्व बढ़ाना भी थी। 

हालांकि कोरोना सेस लगने से दिल्ली में 100 रुपये की शराब की बोतल 170 रुपये में बिकने लगी। इसका असर शराब की बिक्री केंद्रों पर दिखा। भीड़ अचानक से नदारद हो गई। ना केवल अंग्रेजी शराब बल्कि बीयर और देसी शराब की बिक्री भी प्रभावित होने लगी। गर्मी के दिनों में तो बीयर की बिक्री में 60-80 प्रतिशत तक की गिरावट आई है। 

शराब के एक विक्रेता ने बताया कि महंगी शराब होने के कारण लोगों ने ठेके से दूरी बना ली। एक तो वैसे ही लॉकडाउन व कोरोना महामारी की वजह से शराब पीने से लोग कतरा रहे हैं ऊपर से कोरोना सेस के कारण बिक्री ही चौपट हो गई थी। उम्मीद है कि 10 जून के बाद बिक्री कुछ हद तक बढ़ेगी। 

शराब की बिक्री पर वैट पांच प्रतिशत बढ़ाने का निर्णय
कोविड-19 की वजह से दिल्ली में नई आबकारी पॉलिसी आने में देरी संभव है। हालांकि इस बीच दिल्ली सरकार ने शराब की बिक्री पर वैट बढ़ाने का निर्णय ले लिया है। शराब केंद्रों पर बिक्री की जाने वाली शराब 5 प्रतिशत महंगी हो जाएगी। 

सरकार ने एक तरफ कोरोना सेस को वापस लेने का निर्णय लिया है, तो वहीं वैट 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर दिया है। 10 जून से 70 प्रतिशत कोरोना टैक्स हटने से शराब सस्ती होगी। हालांकि पूर्व में निर्धारित दर में पांच प्रतिशत की बढ़ोतरी हो जाएगी। 100 रुपये वाली शराब की बोतल 105 रुपये में मिलेगी। यह निर्णय रविवार को दिल्ली कैबिनेट ने लिया। 

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *