• ब्रिटिश सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग बढ़ाने और पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर भार कम करने के लिए नई पहल की
  • पाकिस्तान में मामला तेजी से बढ़ रहा है, लेकिन सरकार ने लॉकडाउन में ढील दी, डॉक्टर्स विरोध में

दैनिक भास्कर

10 मई, 2020, 11:37 AM IST

वॉशिंगटन। दुनिया में विविधों की संख्या 41 लाख से ज्यादा हो गई है। 2 लाख 80 हजार 431 की मौत हुई है। इसी प्रकार 14 लाख 41 लाख हजार 429 स्वस्थ भी हुए। ब्रिटेन की कोरोना टेस्ट करने वाली लैब्स में कुछ दिक्कतें आईं। इसकी वजह से यहां के स्वास्थ्य विभाग ने लगभग 50 हजार सैंपल जांच के लिए अमेरिका भेजे हैं। विभाग का कहना है कि इन परेशानियों को जल्द ठीक कर लिया जाएगा और आने वाले दिनों में टेस्ट कैपेसिटी एक लाख तक की जाएगी।
पाकिस्तान में बदलावों की तादाद 28 हजार से ज्यादा हो गई है। मृत्यु का आंकड़ा भी 700 से ज्यादा हो गया है। लेकिन, इमरान सरकार ने कथित लॉकडाउन में ढील दे दी। देश के डॉक्टर्स इसका विरोध कर रहे हैं।

कोरोनावायरस: सबसे ज्यादा 10 देश

देश र्ाणें र्ाणें बहुत मौत हो गई कितना ठीक है?
अमेरिका 13,47,309 80,037 2,38,078
स्पेन 2,62,783 26,478 1,73,157
इटली 2,18,268 30,395 1,03,031
ब्रिटेन 2,15,260 31,587 उपलब्ध नहीं है
रूस 1,98,676 1,827 31,916
फ्रांस 1,76,658 26,310 56,038
जर्मनी 1,71,324 7549 1,43,300
ब्राजील 1,56,061 10,656 61,685
तुर्की 1,37,115 3739 89,480
ईरान 1,06,220 6589 85,064

ये आंकड़े https://www.worldometers.info/coronavirus/ से लिए गए हैं।

ब्रिटेन: टेस्ट में अमेरिकी मदद
सीएनएन की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन के हेल्थ डिपार्टमेंट ने 50 हजार सैंपल जांच के लिए अमेरिका भेजे हैं। इसका कारणात्मक सिद्धांत इस्यूज बताई गया है। डिपार्टमेंट ऑफ हेल्थ एंड सोशल कैर ने कहा- सरकारी अस्पतालों में कुछ दिक्कतें पेश आईं थी। इसलिए, हमने लगभग 50 हजार सैम्पल जांच के लिए अमेरिका भेजे हैं। विभाग के प्रवक्ता ने कहा, “हमने इन परेशानियों से निपटने के लिए योजना तैयार रखी थी। इसलिए सैम्पल अमेरिका भेजे गए हैं। क्वॉलिटी से समझौता नहीं किया जा सकता है। ”

दक्षिण कोरिया: सियोल फिर बंद हो गया
दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में पिछले दिनों लॉकडाउन में ढील दी गई थी। नाइट क्लब, होटल, बार और डिस्को खुल गए थे। अब यहाँ संक्रमण के नए मामलों का पता लगाया गया है। इसके फौरन बाद सरकार ने इन सभी स्थानों को अगले आदेश तक के लिए फिर बंद कर दिया है। एक अधिकारी ने माना कि कुछ लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया। इसकी वजह से सभी को परेशानी होगी।

दक्षिण कोरिया की राजधानी सियोल में सरकार को लॉकडाउन में ज्यादा ढील देना भारी पड़ गया। यहां होटल, बार और नाइट क्लब्स में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं हुआ। नए मामले सामने आए तो सरकार ने यह छूट फौरन वापस ली और इन सभी स्थानों को अगले आदेश तक फिर बंद कर दिया। तस्वीर शुक्रवार को सियोल के एक बाजार की है। यहां लोग सकपकाए हुए हैं लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं कर रहे हैं।

चीन: 14 नए मामले
राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के मुताबिक, शनिवार को देश में 14 नए मामले सामने आए। 28 अप्रैल के बाद एक दिन में सामने आया पॉजिटिव मामलों की यह सबसे बड़ी संख्या है। शुक्रवार को 13 नए केस मिले। शनिवार को मिले 14 में से 2 चेता ऐसे हैं जो दूसरे देश से चीन लौटे थे। जुलिन प्रांत में 11 मामले सामने आए। सरकार अब इस राज्य पर पैनी नजर बनाए रख रही है। यहां पाबंदियां लागू कर दी गई हैं।

चीन में शनिवार को 14 पॉजिटिव मामले सामने आए। इनमें से सिर्फ दो आयाम ऐसे हैं जो दूसरे देश से चीन पहुंचे। यहां ज्यादातर स्कूल फिर से शुरू हो गए हैं। शनिवार को शेंडोंग राज्य के यांतेई स्कूल की छात्राओं होस्टल जाती हुईं।

जर्मनी: लॉकडाउन का विरोध
देश के तीन बड़े शहरों बर्लिन, मुनिख और फ्रेंकफर्ट में शनिवार को कुल सहित लगभग 10 हजार लोगों ने लॉकडाउन के विरोध में प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान कुछ लोगों ने पुलिसकर्मियों को फूल देकर उनकी व्यवस्थाएं बनाए रखने के लिए शुक्रिया अदा की। लोगों का कहना है कि सरकार हर महीने लॉकडाउन बढ़ाने की बजाए दूसरे विकल्प खोजे ताकि वे खुली हवा में सांस ले सकें। कुछ लोगों के अनुसार, सोशल डिस्टेंसिंग संक्रमण से बचने का सबसे सरल उपाय है।

जर्मनी में लॉकडाउन के विरोध में प्रदर्शन शुरू हो गए हैं। यहां लोगों का कहना है कि सरकार लॉकडाउन लगाकर कारोबार बंद करने के बजाए इसका विकल्प खोजे। शनिवार को बर्लिन में ऐसे ही एक विरोध प्रदर्शन के दौरान पुलिसकर्मी को फूलों की महिला।

जेसन: मुश्किल बढ़ी
यहां सरकार और विशेष तौर पर राष्ट्रपति बोल्सोनारो ने संक्रमण को गंभीरता से नहीं लिया। चेतावनी देने के साथ अपने सहयोगी को ही हटा दिया गया। अब मौतों का आंकड़ा 10 हजार के पार हो गया है। एक लाख 56 हजार लोग हैं। इसके बावजूद सरकार ने कड़े कदम नहीं उठाए हैं। करीबी देश वेनेजुएला और अमेजन जनजातियों तक संक्रमण फैल चुका है। डब्लूएचओ ने भी पत्र लिखा है। लेकिन, सरकार अब तक पाबंदियों को नहीं लगा पाई है।

जिम में मरने वालों का आंकड़ा 10 हजार से ज्यादा हो गया है। डेढ़ लाख से ज्यादा लोग प्रभावित हैं। शुक्रवार को रियो डी जेनेरियो में एक आश की मौत के बाद उसे दफनाया गया। इस दौरान उनका परिवार मौजूद था।

ब्रिटेन: सरकार की पहल
बोरिस जॉनसन सरकार ने सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के लिए एक नई पहल की है। सरकार यहां साइकल से चलने के लिए जागरुकता अभियान चलाएगी। इसके लिए 2.48 करोड़ डॉलर का बजट मंजूर किया गया है। परिवहन मंत्री ग्रांट शेप्स ने कहा- इससे पब्लिक ट्रांसपोर्ट सिस्टम को मदद मिलेगी। वहाँ भीड़ कम होगी और लोग शारीरिक रूप से बहुत मजबूत होंगे।

अमेरिका: दो अफसर क्वारंटाइन
राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कोरोना से सामना के लिए टास्क फोर्स बनाया था। इसके दो अफसर अब क्वारंटाइन हो गए हैं। डॉ। रॉबर्ट रेडपील सीडीएस के डायरेक्टर हैं। वह दो सप्ताह के घर से काम करेंगे। वे एक चेतन के संपर्क में आए थे। इनके अलावा एफडीए कमिश्नर स्टीफनांत भी दो सप्ताह के लिए क्वारंटाइन हो गए हैं। हालांकि, उनकी पहली टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आई है।

राष्ट्रपति ट्रम्प के साथ शुक्रवार को व्हाइट हाउस में मीडिया से बातचीत करते सीडीएस डायरेक्टर रॉबर्ट रेडफील्ड। रॉबर्ट एक किस्म के संपर्क में आए थे। इसके बाद वे शनिवार को दो सप्ताह के लिए क्वारंटाइन हो गए।

पाकिस्तान: संक्रमण बढ़ा, लेकिन लॉकडाउन में ढील
यहाँ 27 हजार से अधिक प्रकार हैं। 700 की मौत हो चुकी है। लेकिन, सरकार ने लॉकडाउन में ढील देना शुरू कर दिया है। शनिवार से देश के ज्यादातर हिस्सों में दुकानें और फैक्ट्रियां खुल गईं। हालांकि, लॉकडाउन का असर पहले भी नहीं था। मस्जिदों में सामूहिक नमाज पर शुरू होने से पहले ही हटा दिया गया था। डॉक्टर्स एसोसिएशन ने सरकार को चेस्ट भी किया था। लेकिन, उनकी सलाह और मांग पर प्रधानमंत्री इमरान ने कोई ध्यान नहीं दिया।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *