नई दिल्ली: भारत (भारत) ने कहा पाकिस्तान (पाकिस्तान) K पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK) को खाली करने को कह दिया गया है। भारतीय विदेश मंत्रालय (MEA) ने कहा कि पाकिस्तान को बताया गया है कि गिलट-बाल्टिस्तान (गिलगित-बाल्टिस्तान) सहित पूरा जम्मू-कश्मीर (जम्मू-कश्मीर) और लद्दाख (लद्दाख) भारत के अभिन्न अंग हैं। पाकिस्तान को अपने अवैध कब्जे से इन क्षेत्रों को तुरंत मुक्त कर देना चाहिए।

भारत ने गिलट-बल्टिस्तान में आम चुनाव कराने के पाकिस्तान सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर इस्लामाबाद के समक्ष प्रकरण आपत्ति जताई है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान को बता दिया गया है कि गिल्ली-बल्टिस्तान सहित पूरा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख भारत का अभिन्न अंग है और पाकिस्तान को अपने अवैध कब्जे से इन क्षेत्रों को तुरंत मुक्त कर देना चाहिए।

ये भी पढ़ें- सड़कों पर उतरे गिलगिट बाल्टिस्तान के छात्र, पाकिस्तान सरकार के खिलाफ लगाए गए नारे

बता दें कि पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय ने हाल के अपने आदेश में, 2018 के ऑफ ग्वारमेंट ऑफ गिलिय्ट बल्टिस्तान की उपलब्धता ’में संशोधन की इजाजत दे दी ताकि क्षेत्र में आम चुनाव कराए जा सकें।

विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, ‘भारत ने पाकिस्तान के वरिष्ठ राजनयिक को आपत्ति पत्र जारी किया और पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर पाकिस्तान के सर्वोच्च न्यायालय के आदेश पर पाकिस्तान के समक्ष कड़ा विरोध दर्ज कराया है।’

ये भी पढ़ें- आतंकी कब्ज़े से पीओके की ‘आज़ादी’ का समय आ गया है? अबकी बार पीओके पर आर-पार?

बयान में कहा गया है, ‘यह स्पष्ट रूप से बता दिया गया है कि केंद्र शासित प्रदेश पूरा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख जिसमें गिलपत और बल्टिस्तान भी शामिल हैं, वह पूरी तरह से कानूनी और अपरिहार्य विलय के तहत भारत का अभिन्न अंग हैं।’

विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तानी सरकार या उसकी न्यायपालिका को उन क्षेत्रों पर हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं हैं जो उसने ‘अवैध तरीके से और जबरन कब्जाए’ हैं।

बयान में कहा गया है कि भारत इस तरह के कदमों को पूरी तरह से खारिज करता है और भारतीय जम्मू-कश्मीर के पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाकों की स्थिति में बदलाव लाने के जारी प्रयासों पर आपत्ति जताता है।

ये भी देखें-

विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तान के हालिया कदम केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के कुछ हिस्सों पर उसके ‘अवैध कब्जे’ को छुपा नहीं सकते हैं और न ही इस पर पर्दा डाल सकते हैं कि पिछले सात दशकों से इन क्षेत्रों में रहने वाले हैं। लोगों के ‘मानवाधिकारों का उल्लंघन किया गया, शोषण किया गया और उन्हें स्वतंत्रता से वंचित’ रखा गया।

(इनपुट भाषा से भी)





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *