ख़बर सुनता है

ट्रम्प प्रशासन में दक्षिण और मध्य एशिया से जुड़े मामलों की प्रमुख और भारत और अमेरिका के बीच प्रगाढ़ सामरिक संबंधों की पक्षधर एलिस जी वेल्स इस महीने की समीक्षा बन रहे हैं।

विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने यह जानकारी दी थी कि अन्य देशों के साथ अमेरिका के द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के लिए उनकी समझदारी भरे परामर्श और समर्पित प्रयासों के लिए उनका आभार व्यक्त किया गया।

वेल्स विदेश मंत्रालय में दक्षिण और मध्य एशियाई मामलों के कार्यकारी सहायक मंत्री हैं। साथ ही वह भारत और पाकिस्तान में अमेरिकी दूतावास में राजनीतिक अधिकारी के तौर पर भी सेवाएं दे चुके हैं। इसके लिए उन्होंने हिंदी और उर्दू का अध्ययन भी किया।

पोम्पियो ने रविवार को ट्वीट करते हुए लिखा कि ’31 साल की समर्पित सेवा के बाद राजनयिक एलिस जी वेल्स इस महीने विदेश मंत्रालय से रिक्तियों हो रहे हैं। दक्षिण और मध्य एशिया के देशों के साथ संबंध बनाने और आने वाली चुनौतियों को दूर करने में एलिस के समझदारी भरे परामर्श और मेरे द्वारा किए गए अंतिम प्रयास को पूरा किया गया। ‘

एलिस का स्थान टॉमज़्लारा लेगा। वह विदेश सेवा के अधिकारी हैं और मुंबई में अमेरिकी महावन सामान राज्य रहे हैं।

अमेरिका और भारत के संबंधों को मजबूती प्रदान करने में वेल्स की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। जिस समय चीन हिंद प्रशांत क्षेत्र में और हिंद महासागर में अपनी शक्ति बढ़ रही थी कि वह अमेरिका और भारत के बीच सहकारी सहयोग बढ़ाने की पक्षधर थी। इसके अलावा वह दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र और सबसे पुराने लोकतंत्र के बीच समानताएं को भी लगातार उजागर करती रही।

उन्होंने भारत और अमेरिका के बीच संबंधों को ‘’ ’अटूट नहीं किया था और कहा था कि दोनों देशों के बीच करीबी साझेदारी है जो दिन-ब-दिन और मजबूत हो रही है।

ट्रम्प प्रशासन में दक्षिण और मध्य एशिया से जुड़े मामलों की प्रमुख और भारत और अमेरिका के बीच प्रगाढ़ सामरिक संबंधों की पक्षधर एलिस जी वेल्स इस महीने की समीक्षा बन रहे हैं।

विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने यह जानकारी दी थी कि अन्य देशों के साथ अमेरिका के द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के लिए उनकी समझदारी भरे परामर्श और समर्पित प्रयासों के लिए उनका आभार व्यक्त किया गया।

वेल्स विदेश मंत्रालय में दक्षिण और मध्य एशियाई मामलों के कार्यकारी सहायक मंत्री हैं। साथ ही वह भारत और पाकिस्तान में अमेरिकी दूतावास में राजनीतिक अधिकारी के तौर पर भी सेवाएं दे चुके हैं। इसके लिए उन्होंने हिंदी और उर्दू का अध्ययन भी किया।

पोम्पियो ने रविवार को ट्वीट करते हुए लिखा कि ’31 साल की समर्पित सेवा के बाद राजनयिक एलिस जी वेल्स इस महीने विदेश मंत्रालय से रिक्तियों हो रहे हैं। दक्षिण और मध्य एशिया के देशों के साथ संबंध बनाने और आने वाली चुनौतियों को दूर करने में एलिस के समझदारी भरे परामर्श और मेरे द्वारा किए गए अंतिम प्रयास को पूरा किया गया। ‘

एलिस का स्थान टॉमज़्लारा लेगा। वह विदेश सेवा के अधिकारी हैं और मुंबई में अमेरिकी महावन सामान राज्य रहे हैं।

अमेरिका और भारत के संबंधों को मजबूती प्रदान करने में वेल्स की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। जिस समय चीन हिंद प्रशांत क्षेत्र में और हिंद महासागर में अपनी शक्ति बढ़ रही थी कि वह अमेरिका और भारत के बीच सहकारी सहयोग बढ़ाने की पक्षधर थी। इसके अलावा वह दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र और सबसे पुराने लोकतंत्र के बीच समानताएं को भी लगातार उजागर करती रही।

उन्होंने भारत और अमेरिका के बीच संबंधों को ‘’ ’अटूट नहीं किया था और कहा था कि दोनों देशों के बीच करीबी साझेदारी है जो दिन-ब-दिन और मजबूत हो रही है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *