• किसी भी कंपनी का कार्यकाल इंश्योरेंस ले सकते हैं, साथ ही एमडब्ल्यूपी एक्ट के तहत अनलिमिटेड प्लानिंग भी की जा सकती है।
  • एमडब्ल्यूपी एक्ट के तहत ली गई टर्म पॉलिसी को ट्रस्ट माना जाता है। पॉलिसी की लाभ राशि पर केवल ट्रस्टियों का ही अधिकार होता है।

दैनिक भास्कर

04 मई, 2020, दोपहर 12:31 बजे IST

नई दिल्ली। पूरे देश में कोरोनावायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। अगर आपके पास इंश्योरेंस कवर है तो कोरोनावायरस का इलाज इसमें कवर किया जा रहा है। वहीं टर्म इंश्योरेंस में भी कोरोना से होने वाली मौत कवर होगी और परिवार को बीमा राशि मिलेगी। लेकिन हो सकता है कि क्लेम का पैसा नॉमिनी या बेनिफिशियरी (लाभार्थी) को मिले ही न। यह भी हो सकता है कि बीमा का पैसा किसी रिश्तेदार को या पति ने जहां से लोन या उधार लिया हो, उसे मिल जाए। इन स्थितियों से बचने के लिए पुरुष बीमाधारकों को ‘मैरिड वुमन्स प्रॉपर्टी एक्ट, 1874 (एमडब्ल्यूपी एक्ट) के तहत टर्म इंश्योरेंस प्लान लेना चाहिए।

एमडब्ल्यूपी एक्ट के तहत कैसे ले सकते हैं नीति

  • कोई भी किसी भी कंपनी का कार्यकाल इंश्योरेंस ले सकता है, साथ ही एमडब्ल्यूपी एक्ट के तहत अनलिमिटेड प्लानिंग भी की जा सकती है। जब पति या आपके परिवार में कोई भी योजना खरीदने के लिए फॉर्म भरा है तो उसमें यह प्रश्न देखा जाता है: मैं मैरिड वुमन्स प्रॉपर्टी एक्ट (1874) के तहत यह पॉलिसी खरीदना चाहती हूं।
  • इस सवाल के जवाब में ‘हां’ चुनें। इसके बाद बेनिफिशियरी या ट्रस्टी की परिवर्तन देनी होगी। जैसे नाम, संबंध, जन्मतिथि, लाभ के हिस्से का प्रतिशत आदि। पति में अपनी पत्नी, बच्चों के नाम दे सकती है। एक साथ कई लाभार्थी जोड़े जा सकते हैं।
  • बीमा की नीति जो किसी विवाहशुदा पुरुष ने अपने जीवन पर ली है, उसका लाभ उसकी पत्नी और बच्चों या उन्हें से किसी भी एक को मिलना सुनिश्चित करना चाहिए। उनके अलावा पति के किसी भी क्रेडिटर (लोन या उधार देने वाले) का इसपर कोई अधिकार नहीं होगा। ‘ यानी इस एक्ट के तहत पति के बीमा के ट्रस्टी उसकी पत्नी और बच्चे ही होते हैं।

इसके तहत ली गई नीति को मन जाता है ट्रस्ट है
एमडब्ल्यूपी एक्ट के तहत ली गई टर्म पॉलिसी को ट्रस्ट माना जाता है। पॉलिसी की लाभ राशि पर केवल ट्रस्टियों का ही अधिकार होता है। डेथ क्लेम होने की स्थिति में नीति से प्राप्त धन ट्रस्ट को मिलता है, जिसे ट्रस्टी ही क्लेम कर सकता है। यह कोई भी संचालक या सहयोगी क्लेम नहीं कर सकता। ट्रस्ट पत्नी और / या बच्चों के लिए ही क्लेम राशि को सुरक्षित रखता है। इस तरह एमडब्ल्यूपी एक्ट पत्नी और बच्चों का भविवि सुरक्षित करता है।

ऐसे लोगों के लिए बहुत उपयोगी हैं एमडब्ल्यूपी एक्ट
ऐसे बिजनेसमैन और सैलेरी पाने वाले लोग जिनके ऊपर लोन या अन्य भुगतानदारियां हैं। ऐसे लोग जो अपनी पत्नी और बच्चों को ऐसे क्रेडिटर्स / रिश्तेदारों से बचाना चाहते हैं जिनकी मंशा धोखा देने वाली हो सकती है। टर्म लाइफ इंश्योरेंस से मिलने वाली राशि बड़ी हो सकती है, जो पति के न रहने पर परिवार का भविष्य बचा सकता है। इसलिए एमडब्ल्यूपी एक्ट के तहत टर्म लाइफ इंश्योरेंस लेना हर किसी के लिए एक अच्छा फैसला साबित हो सकता है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *