• आरआईएल ने 10 दिन से बहुत कम समय में रिलायंस जियो की 13.46 प्रति शेयर बेची
  • जियो की भागीदारी बेचने से रिलायंस इंडस्ट्रीज को अब तक 60,597 करोड़ रुपये मिले

दैनिक भास्कर

08 मई, 2020, 09:01 AM IST

नई दिल्ली। अमेरिका की केंद्रीय फर्म फर्म विस्टा इंडिया पार्टनर्स ने रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) के डिजिटल प्लेटफॉर्म जियो प्लेटफॉर्म में 2.32 प्रतिशत भागीदारी है। यह निर्णय 11,367 करोड़ रुपये में हुआ है। यह निवेश जियो प्लेटफॉर्म्स के इक्विटी मूल्य 4.91 लाख करोड़ रुपये और इंटर्जे वेल्यू 5.16 लाख करोड़ रुपये पर किया गया था। एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई है। रिलायंस जियो में हिस्सा खरीदने वाली विस्टा अब दूसरी बड़ी कंपनी बन गई है।

प्रौद्योगिकी की परिवर्तनीय ताकत बेहतर भविष्य की चाभी: मुकेश अंबर्न
रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन ने कहा कि विस्टा का एक महत्वपूर्ण साझेदार के रूप में स्वागत करते हुए मुझे खुशी हो रही है। यह दुनिया भर के बड़े विशिष्ट टेकर्स में से एक है। हमारे अन्य भागीदारों की तरह विस्टा भी हमारे साथ समान विज़न साझा करती है। जो सभी भारतीयों के लाभ के लिए भारतीय डिजिटल ईको सिस्टम को विकसित करने और ट्रांसफॉर्मेशन का विजन है। मुकेश का कहना है कि प्रौद्योगिकी की परिवर्तनकारी ताकत सभी के लिए एक बेहतर भविष्य की चाभी है।

विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी मौजूदा उद्यम सॉफ्टवेयर कंपनी विस्टा है
विस्टा विविधता पार्टनर्स के पास 57 बिलियन डॉलर से ज्यादा का प्रो कैपिटल कमिटमेंट्स हैं। इसका ग्लोबल नेटवर्क इसे विश्व की पांचवीं सबसे बड़ी इंटरप्राइज सॉफ्टवेयर कंपनी बनाता है। मौजूदा समय में विस्टा के पोर्टफोलियो की कंपनी भारत में कारोबार कर रहे हैं जिसमें 13 हजार से ज्यादा कर्मचारी कार्यरत हैं।

10 दिन से भी कम समय में बेचैनी 13.46 प्रति भाग
मुकेश अंबानी आरआईएल को कर्ज मुक्त कंपनी बनाना चाहते हैं। इसी के तहत रिलायंस जियो की पार्ट बेची जा रही है। मुकेश अंबानी ने 10 दिन से बहुत कम समय में रिलायंस जियो की 13.46 प्रति शेयर बेच दी है। सबसे पहले 30 अप्रैल को फेसबुक के साथ बिक्री की घोषणा की गई थी। अब तक की भाग बिक्री से रिलायंस इंडस्ट्रीज को 60,597 करोड़ रुपए मिले हैं। आपको बता दें कि रिलायंस जियो, रिलायंस इंडस्ट्रीज की सब्सिडियरी कंपनी है।

पिछले महीने ही फेसबुक ने 43,574 करोड़ रुपये का निवेश किया था
पिछले महीने ही दिग्गज सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने जियो प्लेटफॉर्म में 43,574 करोड़ रुपये का निवेश किया था। इस निवेश के बाद जियो प्लेटफॉर्म में फेसबुक की 9.99 प्रति भाग हो गई है। 22 अप्रैल को रिलायंस इंडस्ट्रीज और फेसबुक ने इस निवेश की घोषणा की थी। यह भारत में अब तक का सबसे बड़ा विदेशी निवेश था।

सिल्वर होल्डिंग ने 5656 करोड़ रुपये का निवेश किया
अमेरिकी की निजी निवेश कंपनी सिल्वर लेक ने रिलायंस जियो में 5656 करोड़ रुपये का निवेश किया है। इस निवेश के बाद जियो में सिल्वर लेक की 1.15 फीसदी हिस्सेदारी हो जाएगी। 4 मई को रिलायंस इंडस्ट्रीज ने इस निवेश की घोषणा की थी। यह निवेश जियो प्लेटफॉर्म की इक्विटी वेल्यू 4.90 लाख करोड़ रुपए और इंटर्सेज वेल्यू 5.15 लाख करोड़ रुपए पर किया गया था। सिल्वर होल्डिंग कंपनियों की टेक कंपनियों में निवेश करती है। इनमें एयरबीएनबी, आईएएनएस, आंट फाइनेंशियल, अल्फाबेट की वैरिली और वायमो यूनिट्स, डेल टेक्नोलॉजीज और ट्वीटर प्रमुख कंपनियां हैं।

पहली तिमाही में 1 लाख करोड़ से ज्यादा प्रोत्साहन का लक्ष्य
रिलायंस इंडस्ट्रीज ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) के मध्य में 1 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा प्रोत्साहन का लक्ष्य रखा है। इसमें फेसबुक, सउदी अरैमको और बीपी का निवेश शामिल है। अब सिल्वर होल्डिंग का निवेश भी शामिल हो गया है। इसके अलावा रिलायंस ने हाल ही में 53,125 करोड़ रुपये का राजस्व जारी करने की घोषणा भी की है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed