रिपोर्टर डेस्क, अमर उजाला, पंचकूला (हरियाणा)
अपडेटेड शुक्र, 08 मई 2020 12:27 AM IST

शहीद मेजर अनुज सूद के परिवार से सीएम मनोहर लाल ने की मुलाकात।
– फोटो: अमर उजाला

ख़बर सुनता है

हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुरुवार को शहीद मेजर अनुज सूद के निवास पर पहुंचे। उन्होंने परिवार के सदस्यों को सांत्वना देने के साथ सरकार की तरफ से 50 लाख रुपये की आर्थिक मदद और नौकरी देने का वादा किया। उन्होंने परिवार के सदस्यों से बातचीत करते हुए कहा कि देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान करने वाले अनुज सूद की शहादत को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। वह परिवार के साथ हमेशा खड़े रहते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें अपनी तीनों सेनाओं के जवानों पर अन्याय है, जो देश की सीमाओं की रक्षा के साथ-साथ आंतकवादियों की गतिविधियों का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सदैव तत्पर रहते हैं और अपनी सर्वोच्च बलिदान देने से पीछे नहीं हटते। उन्होंने कहा कि वह सभी ऐसे शहीद सैनिकों के सदैव ऋणी रहेंगे।

शहीदों की कमी को तो पूरा नहीं कर सकते लेकिन उनके परिवार के सदस्यों की हर प्रकार से सहायता उपलब्ध करवाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसी कड़ी में हरियाणा सरकार ने अलग से सैनिक और अर्धसैनिक कल्याण विभाग का गठन किया। उन्होंने कहा कि सरकार की नीति के अनुसार शहीद के परिवार को 50 लाख रुपये की राशि और सरकारी नौकरी प्रदान की जाती है।

मुख्यमंत्री ने शहीद के पिता ब्रिगेडियर चन्द्रकांत सूद, माता सुमन देवी, बहन कर्नल हर्षिता, पत्नी आकृति सिहं सहित पूरे परिवार को सांत्वना दी। मुख्यमंत्री के साथ शोक व्यक्त करने वालों में हरियाणा विधानसभा अध्यक्ष ज्ञानचद गुप्ता, पूर्व विधायक लतिका शर्मा, उपायुक्त मुकेश कुमार आहूजा, पुलिस उपायुक्त मोहित हांडा और भाजपा जिला अध्यक्ष दीपक शर्मा भी मौजूद थे।

कुरुक्षेत्र के सांसद और अंबाला विधायक ने शोक व्यक्त किया
जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में शहीद हुए मेजर अनुज सूद के निवास स्थान पर परिवार को सांत्वना देने के लिए कुरुक्षेत्र के सांसद नायब सिंह सैनी और अंबाला के विधायक असीम गोयल और हरियाणा एग्रो इंडस्ट्री के निदेशक श्याम लाल बंसल पहुंचे। सब ने मेजर अनुज सूद को श्रद्धांजलि अर्पित की। सांसद और विधायक ने गुरुवार को मेजर सूद के पिता रिटायर्ड ब्रिगेडियर चंद्रकांत सूद व परिवार के सदस्यों को सांत्वना दी और कहा कि यह बहुत बड़ी क्षति है, जिसे कभी पूरा नहीं किया जा सकता है।

इस दौरान शहीद मेजर अनुज सूद के पिता रिटायर्ड ब्रिगेडियर चंद्रकांत सूद कुछ भावुक हुए और कहा कि बेटे की शहादत पर उन्हें गर्व है। वह देश का बेटा था, देश के लिए शहीद हो गया था। सांसद ने कहा कि देश के लिए ऐसे शहीद वीरों की शहादत को कभी भी भुलाया नहीं जा सकता है। इस दुख की घड़ी में भारत सरकार और हरियाणा सरकार उनके परिवार के साथ है और हर संभव मदद को तैयार है।

हरियाणा मुख्यमंत्री मनोहर लाल गुरुवार को शहीद मेजर अनुज सूद के निवास पर पहुंचे। उन्होंने परिवार के सदस्यों को सांत्वना देने के साथ सरकार की तरफ से 50 लाख रुपये की आर्थिक मदद और नौकरी देने का वादा किया। उन्होंने परिवार के सदस्यों से बातचीत करते हुए कहा कि देश के लिए अपने प्राणों का बलिदान करने वाले अनुज सूद की शहादत को कभी भुलाया नहीं जा सकता है। वह परिवार के साथ हमेशा खड़े रहते हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हें अपनी तीनों सेनाओं के जवानों पर अन्याय है, जो देश की सीमाओं की रक्षा के साथ-साथ आंतकवादियों की गतिविधियों का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सदैव तत्पर रहते हैं और अपनी सर्वोच्च बलिदान देने से पीछे नहीं हटते। उन्होंने कहा कि वह सभी ऐसे शहीद सैनिकों के सदैव ऋणी रहेंगे।

शहीदों की कमी को तो पूरा नहीं कर सकते लेकिन उनके परिवार के सदस्यों की हर प्रकार से सहायता उपलब्ध करवाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। इसी कड़ी में हरियाणा सरकार ने अलग से सैनिक और अर्धसैनिक कल्याण विभाग का गठन किया। उन्होंने कहा कि सरकार की नीति के अनुसार शहीद के परिवार को 50 लाख रुपये की राशि और सरकारी नौकरी प्रदान की जाती है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *