न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
अपडेटेड शुक्र, 08 मई 2020 05:39 अपराह्न IST

सुप्रीम कोर्ट (फाइल फोटो)
– फोटो: एएनआई

ख़बर सुनता है

सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद ट्रायल कोर्ट के न्यायाधीश एस के यादव के कार्यकाल को 31 अगस्त तक बढ़ा दिया है। उन्हें सीबीआई द्वारा बाबरी मस्जिद के विध्वंस के संबंध में दायर एक मामले में समय से निर्णय देने का निर्देश भी दिया गया है। जिसमें उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह आरोपी हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद विध्वंस के मामले में ट्रायल को पूरा करने के लिए 31 अगस्त, 2020 तक का समय दिया है। कोर्ट ने कहा कि लखनऊ में सीबीआई की विशेष अदालत के अंत तक मुकदमे को पूरा करे और फैसला दे। सीबीआई कोर्ट की समयसीमा का उल्लंघन ना करे। कोर्ट को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई करनी चाहिए।

भाजपा के दिग्गज नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह और अन्य के खिलाफ बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में ट्रायल चल रहा है जिसे पूरा करने का समय सुप्रीम कोर्ट ने दिया और उठाया है।

विशेष जज एस के यादव ने सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखकर और समय बढ़ाने की मांग की थी। 20 अप्रैल को ही नौ महीने की तय सीमा पूरी हो गई थी। पीठ ने कहा कि ये हाई प्रोफाइल मामला है और इस ट्रायल को उसी जज द्वारा पूरा किया जाना चाहिए। इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा आरोप मुक्त किए जाने के खिलाफ 19 अप्रैल 2017 को न्यायमूर्ति पीसी घोष और न्यायमूर्ति नारीमन की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने आरोप बहाल किया था। इसके लिए उन्होंने सीबीआई द्वारा दायर अपील की अनुमति ली थी।

सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद ट्रायल कोर्ट के न्यायाधीश एस के यादव के कार्यकाल को 31 अगस्त तक बढ़ा दिया है। उन्हें सीबीआई द्वारा बाबरी मस्जिद के विध्वंस के संबंध में दायर एक मामले में समय से निर्णय देने का निर्देश भी दिया गया है। जिसमें उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह आरोपी हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने बाबरी मस्जिद विध्वंस के मामले में ट्रायल को पूरा करने के लिए 31 अगस्त, 2020 तक का समय दिया है। कोर्ट ने कहा कि लखनऊ में सीबीआई की विशेष अदालत के अंत तक मुकदमे को पूरा करे और फैसला दे। सीबीआई कोर्ट की समयसीमा का उल्लंघन ना करे। कोर्ट को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई करनी चाहिए।

भाजपा के दिग्गज नेताओं लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह और अन्य के खिलाफ बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में ट्रायल चल रहा है जिसे पूरा करने का समय सुप्रीम कोर्ट ने दिया और उठाया है।

विशेष जज एस के यादव ने सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखकर और समय बढ़ाने की मांग की थी। 20 अप्रैल को ही नौ महीने की तय सीमा पूरी हो गई थी। पीठ ने कहा कि ये हाई प्रोफाइल मामला है और इस ट्रायल को उसी जज द्वारा पूरा किया जाना चाहिए। इलाहाबाद हाईकोर्ट द्वारा आरोप मुक्त किए जाने के खिलाफ 19 अप्रैल 2017 को जस्टिस पीसी घोष और जस्टिस नारीमन की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने आरोप बहाल किया था। इसके लिए उन्होंने सीबीआई द्वारा दायर अपील की अनुमति ली थी।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *