न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
अपडेटेड शुक्र, 08 मई 2020 10:47 PM IST

ख़बर सुनता है

सरकार ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 के लिए बाजार उधार सीमा में भारी-भरकम 4.2 लाख करोड़ रुपये की वृद्धि कर इसे 12 लाख करोड़ रुपये दिए हैं।]कोविद -19 परिस्थिति की वजह से अर्थव्यस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है। ऐसे में राजस्व में कमी की भरपाई के लिए सरकार ने बाजार से कर्ज बढ़ाने की भविष्यवाणी की को सीमा दी है।

सरकार अपनी आमदनी और खर्च के अंतर को पूरा करने के लिए बाजार से कर्ज जुटाती है। वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि 2020-21 में अनुमानित सकल बाजार उर्ड 12 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। बजट अनुमान 2020-21 में यह 7.80 लाख करोड़ रुपये रखा गया था। कोविड -19 परिस्थिति की वजह से बाजार कर्ज के अनुमान में वृद्धि जरूरी हो गई थी।

सरकार ने साप्ताहिक उधारी हासिल को भी बढ़ाकर 30,000 करोड़ रुपये कर दिया है। इससे पहले 31 मार्च को साप्ताहिक उर्ड को 21,000 करोड़ रुपये तय किया गया था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020-21 के बजट में वित्त वर्ष के दौरान सकल उधारी अनुमान 7.8 लाख करोड़ रुपये रखा था। इससे पहले 2019-20 में यह अनुमान 7.1 लाख करोड़ रुपये पर था।

बाजार ऋण अनुमान में वृद्धि के बाद अब सरकार को चालू वित्त वर्ष के लिए राजकोषीय योजनाओं के लक्ष्य को भी बढ़ाना होगा। चालू वित्त वर्ष के बजट में राजकोषीय घाटे, सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

सरकार ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 के लिए बाजार उधार सीमा में भारी-भरकम 4.2 लाख करोड़ रुपये की वृद्धि कर इसे 12 लाख करोड़ रुपये दिए हैं।]कोविद -19 परिस्थिति की वजह से अर्थव्यस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है। ऐसे में राजस्व में कमी की भरपाई के लिए सरकार ने बाजार से कर्ज बढ़ाने की भविष्यवाणी की को सीमा दी है।

सरकार अपनी आमदनी और खर्च के अंतर को पूरा करने के लिए बाजार से कर्ज जुटाती है। वित्त मंत्रालय ने शुक्रवार को जारी बयान में कहा कि 2020-21 में अनुमानित सकल बाजार उर्ड 12 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। बजट अनुमान 2020-21 में यह 7.80 लाख करोड़ रुपये रखा गया था। कोविड -19 परिस्थिति की वजह से बाजार कर्ज के अनुमान में वृद्धि जरूरी हो गई थी।

सरकार ने साप्ताहिक उधारी हासिल को भी बढ़ाकर 30,000 करोड़ रुपये कर दिया है। इससे पहले 31 मार्च को साप्ताहिक उर्ड को 21,000 करोड़ रुपये तय किया गया था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2020-21 के बजट में वित्त वर्ष के दौरान सकल उधारी अनुमान 7.8 लाख करोड़ रुपये रखा था। इससे पहले 2019-20 में यह अनुमान 7.1 लाख करोड़ रुपये पर था।

बाजार ऋण अनुमान में वृद्धि के बाद अब सरकार को चालू वित्त वर्ष के लिए राजकोषीय योजनाओं के लक्ष्य को भी बढ़ाना होगा। चालू वित्त वर्ष के बजट में राजकोषीय घाटे, सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का 3.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *