सचिन और गांगुली का विकेट लेने वाला गेंदबाज आज है योग गुरु

एक ऐसा खिलाड़ी जिसने सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar), सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ जैसे महान बल्लेबाजों के विकेट लिये हैं वो आज योग गुरु बन चुका है, जानिए उसकी दिलचस्प कहानी

नई दिल्ली. क्रिकेट एक ऐसा खेल है जो किसी खिलाड़ी की जिंदगी बदलकर रखता है. कोई खिलाड़ी फर्श से अर्श तक पहुंच जाते हैं, तो किसी के साथ इसका उलट भी होता है. आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे खिलाड़ी की कहानी जो सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) और राहुल द्रविड़ जैसे बल्लेबाजों के विकेट ले चुका है. ये गेंदबाज सौरव गांगुली के विकेट उड़ा चुका है लेकिन इस गेंदबाज का करियर रातोंरात तबाह हो गया. ये क्रिकेटर बेरोजगार हो गया और उसे जेल में भी डाल दिया गया. यही नहीं ये खिलाड़ी डिप्रेशन का भी शिकार हो गया और उसने खुदकुशी करने तक की कोशिश की. लेकिन फिर योग ने उसकी जान बचाई और आज वो एक योग गुरु है.

ब्रायन स्ट्रैंग की कहानी
हम बात कर रहे हैं जिम्बाब्वे के पूर्व तेज गेंदबाज ब्रायन स्ट्रैंग (Bryan Strang) की जो आज एक योग गुरु हैं. वो लोगों को योग के साथ-साथ मार्शल आर्ट्स भी सिखाते हैं. वो दुनियाभर में सफर कर लोगों को योग पर लैक्चर भी देते हैं. आखिर ब्रायन स्ट्रैंग कैसे एक क्रिकेटर से योग गुरु बन गए? ये आपको आगे बताएंगे लेकिन सबसे पहले बताते हैं ब्रायन स्ट्रैंग के करियर के बारे में.

ब्रायन स्ट्रैंग बाएं हाथ के तेज गेंदबाज थे, उन्होंने जिम्बाब्वे के लिए 26 टेस्ट में 56 विकेट झटके और वनडे में उनके नाम 49 मैचों में 46 विकेट थे. फर्स्ट क्लास करियर में स्ट्रैंग के नाम कुल 252 विकेट हैं. ब्रायन स्ट्रैंग के भाई पॉल स्ट्रैंग और पिता रोनाल्ड स्ट्रैंग भी जिम्बाब्वे के लिए खेले हैं और वो अंपायर भी रह चुके हैं. बता दें ब्रायन स्ट्रैंग ने अपनी स्विंग के दम पर सचिन, राहुल द्रविड़ और गांगुली जैसे बल्लेबाजों के विकेट लिये हैं. यही नहीं ब्रायन ने इंजमाम उल हक और आमिर सोहेल जैसे बल्लेबाजों को भी पैवेलियन की राह दिखाई लेकिन साल 2001 में उनका करियर रातों-रात खत्म हो गया. दरअसल ब्रायन स्ट्रैंग ने जिम्बाब्वे के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे के कोटा सिस्टम का विरोध किया था जिसके बाद उन्हें जेल में डाल दिया गया.

ब्रायन स्ट्रैंग थे जिम्बाब्वे के थे तेज गेंदबाज, आज हैं योग गुरु

योग गुरु बने ब्रायन
जेल से छूटने के बाद उन्होंने क्रिकेट से संन्यास ले लिया और वो लंदन चले गए. लंदन में स्ट्रैंग (Bryan Strang) डिप्रेशन के शिकार हो गए और वहां उन्होंने खुदकुशी की भी कोशिश की. स्ट्रैंग ने लंदन की ट्यूब के आगे कटकर जान देने का मन बना लिया था लेकिन उन्होंने अपना इरादा बदल लिया. इसके बाद ब्रायन स्ट्रैंग भारत आए और उन्होंने योग की शिक्षा ली. योग की शिक्षा (Bryan Strang Yoga Guru) लेने के बाद जैसे ब्रायन की जिंदगी ही बदल गई. उन्होंने अपना एक बिजनेस खोला जिसमें वो लोगों को जीने का तरीका बताने लगे. आज ब्रायन स्ट्रैंग दुनियाभर में घूमकर योग की शिक्षा देते हैं. यही नहीं आज वो मार्शल आर्ट्स ट्रेनर भी हैं. ब्रायन स्ट्रैंग का मानना है कि क्रिकेट भी एक योग की तरह है क्योंकि वो आपको इसी पल में जीना सिखाता है. क्रिकेट खेलते हुए आप सबकुछ भूल जाते हैं.

सुरेश रैना का बड़ा बयान- रोहित शर्मा की कप्तानी एमएस धोनी जैसी, विराट कोहली अलग हैं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 22, 2020, 9:41 PM IST

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *