• ट्राई ने लोगों से ऑड कॉन्फ्रेंस प्लेटफॉर्म से जुड़ने के दौरान सावधानी बरतने की अपील की है।

  • लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में भारी इजाफा देखने को मिला है

दैनिक भास्कर

12 मई, 2020, 07:29 बजे IST

लॉकडाउन के दौरान वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में भारी इजाफा देखने को मिला है। वर्क फ्राॅम होम से लेकर एनल क्लासेज सबकुछ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हो रहा है। बढ़ती डिमांड को देखते हुए ही टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (TRAI) ने एक एड्वजरी की है। ट्राई ने लोगों से ऑड कॉन्फ्रेंस प्लेटफॉर्म से जुड़ने के दौरान सावधानी बरतने की अपील की है। बता दें कि हाल ही में कुछ लोगों ने वीडियो कॉलिंग और ऑफलाइन अडियो कॉलिंग को लेकर शिकायत की थी जिसमें उन्होंने कहा था कि कॉलिंग के बाद उन्हें भारी भरकम रकम चुकाना चाहिए पड़ी है। शिकायत के बाद ट्राई ने अपनी एडवाइजरी में कहा है कि किसी भी ऑफ़लाइन वीडियो या ऑड कॉल को जवावाइन करने से पहले उसकी शर्तों और शुल्क के बारे में जानकारी प्राप्त करें।

AUD कॉन्फ्रेंसिंग जॉइन करने से पहले नियम की शर्तों को जांच लें
ट्राई ने कहा है कि उपभोक्ता ऑड कॉल्स से ऑफलाइन कॉन्फ्रेंसिंग जॉइन करने से पहले उन नंबरों और हेल्पलाइंस पर कॉल सर्फ जांच लें। प्राधिकरण ने एडवाइजरी में कहा है, ‘ट्राई के संज्ञान में आया है कि कुछ उपभोक्ताओं को उस वक्त भारी बिल का सामना करना पड़ा, जब उन्होंने कॉल्स के जरिए किसी भी ऑनलाइन कॉन्फ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म को ज्वॉइन किया और अंजाने ने उन्हें कोई इंटरनेशनल फोन नंबर या प्रीमियम नहीं दिया। नंबर डायल हो गया। ‘

कॉल टर्मिनेशन चार्ज 35-65 पैसे प्रति मिनट किया गया है
बता दें कि पिछले महीने ही ट्राई ने आंतरिक कॉल को सिग्नल पर पहुंचाने के शुल्क (कॉल टर्मिनेशन चार्ज) में शुक्रवार को एक गुंजाइश में बढ़ोत्तरी करने की छूट दी थी। पहले यह 30 पैसे प्रति मिनट था जो अब 35-65 पैसे प्रति मिनट कर दिया गया है। इससे दूरसंचार कंपनियों को लाभ की उम्मीद है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *