वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषित किया 20 लाख करोड़ का आर्थिक पैकेज गोलमाल – आर्थिक पैकेज: पहले हो चुके हैं ये घोषणाएं, आज होंगे 13.56 लाख करोड़ के नए एलएएन

Bytechkibaat7

May 13, 2020 , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,


बिज़नेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
अपडेटेड बुध, 13 मई 2020 12:10 PM IST

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
– फोटो: हॉलीवुड

ख़बर सुनकर

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज शाम चार बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आर्थिक पैकेज की घोषणा करेंगी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए वो बताएगी कि 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का इस्तेमाल किन-किन क्षेत्रों में किया जाएगा और कितनी रकम मिलेगी।

इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1.70 लाख रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की थी। इसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने भी बहुत वृद्धि के कई उपायों की घोषणा की थी। इस तरह सरकार और केंद्रीय बैंक अब तक लगभग 6.44 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा हो चुकी है। अब वित्त मंत्री द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये में से सिर्फ 13.56 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का एलान बाकी है, जो सरकार आगे कई टुकड़ों में कर सकती है।

यह भी पढ़ें: आर्थिक पैकेज में किस सेक्टर को कितना फायदा मिलेगा, आज शाम 4 बजे बताएंगे वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने की 1.70 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राष्ट्रपति कॉन्फ्रेंस में लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए बड़े एलान किए थे। उन्होंने एक लाख 70 हजार करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी। इसके तहत किसानों, मनरेगा मजदूर, महिलाओं, पीएफ खाताधारकों, आदि को लाभ मिल रहा है।

27 मार्च को RBI ने एलएएन किया था
इसके बाद 27 मार्च को भारतीय रिजर्व बैंक ने कई महत्वपूर्ण एलएएन किए। आरबीआई ने सीआरआर में कटौती के अतिरिक्त टारगेट लावग टर्म रेपो ऑपरेशन (टीएलटीआरओ) की घोषणा की थी, जिससे सिस्टम में 3.74 लाख करोड़ रुपये की रुपये की वसूली आने की बात कही गई थी। भारतीय रिजर्व बैंक ने टीएलटीआरओ 1 के तहत एक लाख करोड़ रुपये की वित्तीय बैंकिंग प्रणाली में डालने का एलान किया था।

17 अप्रैल को फिर से महत्वपूर्ण घोषणा की थी
इसके बाद 17 अप्रैल को फिर आरबीआई ने कई एलएएन किए थे। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने TLTRO 2.0 के जरिए अतिरिक्त 50,000 करोड़ रुपये की राशि उपलब्ध कराने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि यह काम उसस्तों में किया जाएगा। इसके अतिरिक्त उन्होंने नाबार्ड को 25 हजार करोड़ रुपये, सिडबी को 15 हजार करोड़ रुपये और नेशनल हाउसिंग बैंक (एनएचबी) को 10 हजार करोड़ रुपये की सहायता देने की भी घोषणा की।

सार

  • सरकार और केंद्रीय बैंक अब तक लगभग 6.44 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा हो चुकी है।
  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1.70 लाख रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की थी।
  • आज 13.56 लाख करोड़ के नए एलान संभव हैं।

विस्तार

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण आज शाम चार बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आर्थिक पैकेज की घोषणा करेंगी। प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए वो बताएगी कि 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज का इस्तेमाल किन-किन क्षेत्रों में किया जाएगा और कितनी रकम मिलेगी।

इससे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 1.70 लाख रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की थी। इसके बाद भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने भी बहुत वृद्धि के कई उपायों की घोषणा की थी। इस तरह सरकार और केंद्रीय बैंक अब तक लगभग 6.44 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा हो चुकी है। अब वित्त मंत्री द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये में से सिर्फ 13.56 लाख करोड़ रुपये के पैकेज का एलान बाकी है, जो सरकार आगे कई टुकड़ों में कर सकती है।

यह भी पढ़ें: आर्थिक पैकेज में किस सेक्टर को कितना फायदा मिलेगा, आज शाम 4 बजे बताएंगे वित्त मंत्री

वित्त मंत्री ने की 1.70 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राष्ट्रपति कॉन्फ्रेंस में लड़खड़ाती अर्थव्यवस्था को बचाने के लिए बड़े एलान किए थे। उन्होंने एक लाख 70 हजार करोड़ के आर्थिक पैकेज की घोषणा की थी। इसके तहत किसानों, मनरेगा मजदूर, महिलाओं, पीएफ खाताधारकों, आदि को लाभ मिल रहा है।

27 मार्च को RBI ने एलएएन किया था
इसके बाद 27 मार्च को भारतीय रिजर्व बैंक ने कई महत्वपूर्ण एलएएन किए। आरबीआई ने सीआरआर में कटौती के अतिरिक्त टारगेट लावग टर्म रेपो ऑपरेशन (टीएलटीआरओ) की घोषणा की थी, जिससे सिस्टम में 3.74 लाख करोड़ रुपये की रुपये की वसूली आने की बात कही गई थी। भारतीय रिजर्व बैंक ने टीएलटीआरओ 1 के तहत एक लाख करोड़ रुपये की वित्तीय बैंकिंग प्रणाली में डालने का एलान किया था।

17 अप्रैल को फिर से महत्वपूर्ण घोषणा की थी
इसके बाद 17 अप्रैल को फिर आरबीआई ने कई एलएएन किए थे। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने TLTRO 2.0 के जरिए अतिरिक्त 50,000 करोड़ रुपये की राशि उपलब्ध कराने की बात कही थी। उन्होंने कहा था कि यह काम उसस्तों में किया जाएगा। इसके अतिरिक्त उन्होंने नाबार्ड को 25 हजार करोड़ रुपये, सिडबी को 15 हजार करोड़ रुपये और नेशनल हाउसिंग बैंक (एनएचबी) को 10 हजार करोड़ रुपये की सहायता देने की भी घोषणा की।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *