अस्पताल में भर्ती गैस की चपेट में आया बच्चा
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

राष्ट्रपति कोविंद ने ट्विटर पर संदेश लिखा, ‘विशाखापट्टनम के पास एक प्लांट में गैस रिसाव होने की घटना से बहुत दुखी हूं जिसमें कुछ लोगों की मौत हो गई है। पीड़ितों के परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। मैं बीमार लोगों के ठीक होने की और सभी की सुरक्षा की प्रार्थना करता हूं। ‘

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्थिति का जायजा लेते हुए बैठक की थी और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री को हर संभव मदद उपलब्ध कराने का प्रयास किया था। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट करते हुए कहा था, ‘मैं विशाखापट्टनम में सभी लोगों की सुरक्षा और बेशरी के साथ प्रार्थना कर रहा हूं।’

राहुल ने कांग्रस कार्यकर्ताओं से की पीड़ितों की मदद करने की अपील की

वहीं, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस घटना पर दुख जताते हुए कहा, ‘मेरी संवेदनाएं मृतकों के परिजनों के साथ हैं।’ मैं सभी की बेहतरी की कामना करता हूं। मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से अनुरोध करता हूं कि वह प्रशासन के साथ मिलकर सभी स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए हर संभव सहायता उपलब्ध करवाएं। ‘

गृह मंत्री शाह ने कहा, स्थिति पर लगातार नजर बनाए रखी गई है

केंद्री गृह मंत्री अमित शाह ने इस घटना को बेहद दुखद कहा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की स्थिति पर नजर रखी गई हैं। शान ने कहा कि वह विशाखापट्टनम के लोगों की बेहतरी के लिए प्रार्थना करते हैं।

TN के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने घटना पर शोक व्यक्त किया

टीएम के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने आंध्र प्रदेश में गैस टिप की घटना में हुई आठ लोगों की मौत पर बृहस्पतिवार को दुख प्रकट किया और पीड़ितों के जल्दी स्वस्थ होने की कामना की।

पलानीस्वामी ने कहा कि विशाखापट्टनम के पास एक पॉलीमर संयंत्र से रसायन के भरने के कारण कई लोगों की मौत से उन्हें गहरा दुख पहुंचा। मुख्यमंत्री ने एक आधिकारिक विज्ञप्ति जारी कर कहा कि वह ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि अस्पताल में भर्ती पीड़ित शीघ्र स्वस्थ हों।

सीपीआई नेता सीताराम येचुरी ने की घटना की जांच कराने की मांग की

सीपीआई (एम) के नेता सीताराम येचुरी ने इस घटना की विस्तृत जांच कराने की मांग की। उन्होंने कहा, ‘विजाग औद्योगिक हाडसे ने डरावने भोपाल गैस रिसाव घटना की याद दिला दी। मेरी संवेदनाएं मृतकों के परिजनों और पीड़ितों के साथ हैं। हम इस मामले की जांच और हलनों को उचित मुआवजा दिए जाने की मांग करते हैं। ‘

गैसिंग की घटना से स्तब्ध और दुखी: दक्षिण कोरियाई राजदूत

दक्षिण कोरिया के राजदूत शिन बोंग-किल ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह इस घटना को लेकर स्तब्ध और दुखी हैं जिसमें लगभग 11 व्यक्तियों की मौत हो गई और लगभग 1000 बीमार हैं। बता दें कि पौधे का स्वामित्व दक्षिण कोरियाई पेट्रोकैमिकल कंपनी के केम। के पास है।

शिन ने कहा, कट वेंकटपुरम में कई पॉलीमर प्लांट में हुए हादसे की खबर से मैं स्तब्ध और दुखी हूं, जिसमें कई लोगों की मौत हुई और कई बीमार पड़ गए। ’उन्होंने एक बयान में कहा, एक यह एक बेहद खतरनाक घटना थी और इस तरह दुखद घटना से प्रभावित लोगों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है। हम बीमार हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करते हैं।)

पॉलीमर ने कहा- अब गैस टिप कंट्रोल में, हो रही है जांच

कंपनी केम लिमिटेड ने कहा कि गैस टिप को नियंत्रित कर लिया गया है और कंपनी की की जांच कर रही है। उन्होंने एक बयान में कहा, रिसाव गैस टिप अब नियंत्रण में है लेकिन बाघ हुई गैस से लोगों को मिचली आने और चक्कर आने की दिक्कत हो सकती है। इसलिए हम यह सुनिश्चित करते हुए कि प्रत्येक प्रयास कर रहे हैं कि उचित उपचार तेजी से मुहैया कराया जाए। ‘

उन्होंने कहा, कहा हम इसकी जांच कर रहे हैं कि बहुत नुकसान हुआ है और बाघ और मौतों का असली कारण क्या है। ’कंपनी की वेबसाइट के अनुसार संयंत्र की स्थापना 1961 में हिंदुस्तान पॉलिमर्स के रूप में की गई थी। इसे जुलाई 1997 में नियंत्रण केम द्वारा नियंत्रण में ले लिया गया था और पॉलिमर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (पीपीपीआई) नाम से फिर से शुरू किया गया था।

सार

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में हुई गैस रिसाव की घटना को लेकर राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और दक्षिण कोरिया के राजदूत सहित तमाम विपक्षी दलों ने शोक जताया है और बीमार हुए लोगों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की। यहां के एक रसायनल प्लांट में स्टाइरीन गैस रिसाव हुआ जिसके संपर्क में आने से 11 लोगों की मौत हो गई है और एक हजार से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं।

विस्तार

राष्ट्रपति कोविंद ने ट्विटर पर संदेश लिखा, ‘विशाखापट्टनम के पास एक प्लांट में गैस रिसाव होने की घटना से बहुत दुखी हूं जिसमें कुछ लोगों की मौत हो गई है। पीड़ितों के परिवारों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। मैं बीमार लोगों के ठीक होने की और सभी की सुरक्षा की प्रार्थना करता हूं। ‘

इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्थिति का जायजा लेते हुए बैठक की थी और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री को हर संभव मदद उपलब्ध कराने का प्रयास किया था। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट करते हुए कहा था, ‘मैं विशाखापट्टनम में सभी लोगों की सुरक्षा और बेशरी के साथ प्रार्थना कर रहा हूं।’

राहुल ने कांग्रस कार्यकर्ताओं से की पीड़ितों की मदद करने की अपील की

वहीं, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस घटना पर दुख जताते हुए कहा, ‘मेरी संवेदनाएं मृतकों के परिजनों के साथ हैं।’ मैं सभी की बेहतरी की कामना करता हूं। मैं पार्टी कार्यकर्ताओं से अनुरोध करता हूं कि वह प्रशासन के साथ मिलकर सभी स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करते हुए हर संभव सहायता उपलब्ध करवाएं। ‘

गृह मंत्री शाह ने कहा, स्थिति पर लगातार नजर बनाए रखी गई है

केंद्री गृह मंत्री अमित शाह ने इस घटना को बेहद दुखद कहा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की स्थिति पर नजर रखी गई हैं। शान ने कहा कि वह विशाखापट्टनम के लोगों की बेहतरी के लिए प्रार्थना करते हैं।

TN के मुख्यमंत्री पलानीस्वामी ने घटना पर शोक व्यक्त किया

टीएम के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने आंध्र प्रदेश में गैस टिप की घटना में हुई आठ लोगों की मौत पर बृहस्पतिवार को दुख प्रकट किया और पीड़ितों के जल्दी स्वस्थ होने की कामना की।

पलानीस्वामी ने कहा कि विशाखापट्टनम के पास एक पॉलीमर संयंत्र से रसायन के भरने के कारण कई लोगों की मौत से उन्हें गहरा दुख पहुंचा। मुख्यमंत्री ने एक आधिकारिक विज्ञप्ति जारी कर कहा कि वह ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि अस्पताल में भर्ती पीड़ित शीघ्र स्वस्थ हों।

सीपीआई नेता सीताराम येचुरी ने की घटना की जांच कराने की मांग की

सीपीआई (एम) के नेता सीताराम येचुरी ने इस घटना की विस्तृत जांच कराने की मांग की। उन्होंने कहा, ‘विजाग औद्योगिक हाडसे ने डरावने भोपाल गैस रिसाव घटना की याद दिला दी। मेरी संवेदनाएं मृतकों के परिजनों और पीड़ितों के साथ हैं। हम इस मामले की जांच और हलनों को उचित मुआवजा दिए जाने की मांग करते हैं। ‘

गैसिंग की घटना से स्तब्ध और दुखी: दक्षिण कोरियाई राजदूत

दक्षिण कोरिया के राजदूत शिन बोंग-किल ने बृहस्पतिवार को कहा कि वह इस घटना को लेकर स्तब्ध और दुखी हैं जिसमें लगभग 11 व्यक्तियों की मौत हो गई और लगभग 1000 बीमार हैं। बता दें कि प्लांट का स्वामित्व दक्षिण कोरियाई पेट्रोकैमिकल कंपनी केम के पास है। के पास है।

शिन ने कहा, कट वेंकटपुरम में कई पॉलीमर प्लांट में हुए हादसे की खबर से मैं स्तब्ध और दुखी हूं, जिसमें कई लोगों की मौत हुई और कई बीमार पड़ गए। ’उन्होंने एक बयान में कहा, एक यह एक बेहद खतरनाक घटना थी और इस तरह दुखद घटना से प्रभावित लोगों के प्रति हमारी गहरी संवेदना है। हम बीमार हुए लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रार्थना करते हैं।)

आलू पोलीमर ने कहा- अब गैस टिप कंट्रोल में, हो रही है जांच

ग्रुप केम लिमिटेड ने कहा कि गैस टिप को नियंत्रित कर लिया गया है और कंपनी की की जांच कर रही है। उन्होंने एक बयान में कहा, रिसाव गैस टिप अब नियंत्रण में है लेकिन बाघ हुई गैस से लोगों को मिचली आने और चक्कर आने की दिक्कत हो सकती है। इसलिए हम यह सुनिश्चित करते हुए कि प्रत्येक प्रयास कर रहे हैं कि उचित उपचार तेजी से मुहैया कराया जाए। ‘

उन्होंने कहा, कहा हम इसकी जांच कर रहे हैं कि बहुत नुकसान हुआ है और बाघ और मौतों का असली कारण क्या है। ’कंपनी की वेबसाइट के अनुसार संयंत्र की स्थापना 1961 में हिंदुस्तान पॉलिमर्स के रूप में की गई थी। इसे जुलाई 1997 में नियंत्रण केम द्वारा नियंत्रण में ले लिया गया था और पॉलिमर्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (पीपीपीआई) नाम से फिर से शुरू किया गया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *