वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों से वापस लाए गए भारतीय
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण दुनिया के विभिन्न देशों में फंसे भारतीयों को अपने देश वापस लाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए वंदे भारत मिशन के तहत अभी तक कुल 31 उड़ानों से 6037 भारतीयों को वापस लाया जा रहा है। है। वहीं, ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत भारतीय नौसेना के पोत ‘आईन्ट्स’ से 202 भारतीय नागरिक देश वापस लाए गए हैं। आयतों लेकिन केरल के कोच्चि हार्बर पर प्रवेश कर चुका है।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बताया कि सात मई 2020 से शुरू हुए मिशन के पहले चरण के तहत अब तक 31 उड़ानों के जरिए 6037 भारतीय नागरिकों को देश वापस लाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि पहले चरण में कुल 14,800 भारतीयों को वापस लाने की योजना है।

बता दें कि वंदे भारत मिशन के तहत एयर इंडिया और उसकी सहायक एयर इंडिया एक्सप्रेस 12 देशों में 64 उड़ानों का परिचालन कर रही है। इनमें से 42 उड़ानें का परिचालन एयर इंडिया और 24 उड़ानें का परिचालन एयर इंडिया एक्सप्रेस कर रही है। इन 12 देशों में अमेरिका, लंदन, बांग्लादेश, सिंगापुर, सऊदी अरब, कुवैत, महाराष्ट्र, यूएई और मलयेशिया शामिल हैं।

वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों में फंसे भारतीय नागरिकों को निकालने के अभियान के तहत, एयर इंडिया का एक विमान ब्रिटेन में फंसे 331 लोगों को लेकर यहां आंतरिक हवाईअड्डे पर पहुंचा। हवाईअड्डे के सूत्रों ने कहा कि बोइंग 773 विमान तड़के 2:21 बजे यहां पहुंचा। बाद में, कि विमान दिल्ली में 87 यात्रियों को लेकर अमेरिका गया है।

यात्रियों को मुख्य यात्री टर्मिनल के पूरी तरह स्वच्छ और रोग मुक्त आंतरिक आगमन स्थल से ले जा रहा है। यात्रियों की स्वास्थ्य जांच के बाद उभयलिंगी उपकरण पहने हुए सीएसएफ कर्मी यात्रियों के समूह को पुनर्भरण काउंटर तक ले जाया गया। यहाँ आगमन के बाद यात्रियों को निर्धारित स्थानों पर पृथक वास के लिए ले जाया गया।

सुबह में फंसे 139 भारतीय छात्र मनीला से एक विशेष विमान में मंगलवार सुबह अहमदाबाद हवाईअड्डे पर पहुंचे। गुजरात सरकार ने यह जानकारी दी। ये गुजराती छात्र उच्च शिक्षा के लिए गए थे और लॉकडाउन के चलते वहां फंस गए थे।

गुजरात सरकार ने कहा, एमबी की राजधानी मनीला से 139 छात्रों को निकाला गया। एक विशेष विमान से वे मंगलवार सुबह अहमदाबाद हवाईअड्डे पर पहुंचे। उनके आगमन के बाद, उन्हें उनके संबंधित जिलों में भेज दिया गया जहां उन्हें 14 दिनों के लिए पृथक-वास में रखा जाएगा। राज्य के अधिकारियों ने पहले घोषणा की थी कि गुजरात से 1,000 छात्रों को अलग-अलग देशों से लाया जाएगा।

कोरोनावायरस महामारी की वजह से लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों की वजह से अमेरिका में फंसे भारतीय छात्रों और लोगों की बड़ी संख्या को देखते हुए आने वाले हफ्तों में उड़ानों की संख्या को बढ़ाया जा सकता है। अमेरिका में भारतीय दूतावास और महावाण सामान दूतावासों ने हाल ही में स्वदेश प्रतीक्षा की योजना बनाने वाले भारतीयों की सूची बनाना शुरू की थी। यह फेहरिस्त ऑनलाइन पंजीकरण के माध्यम से निर्मित किया जा रहा है।

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस को रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन के कारण दुनिया के विभिन्न देशों में फंसे भारतीयों को अपने देश वापस लाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा शुरू किए गए वंदे भारत मिशन के तहत अभी तक कुल 31 उड़ानों से 6037 भारतीयों को वापस लाया जा रहा है। है। वहीं, ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत भारतीय नौसेना के पोत ‘आईन्ट्स’ से 202 भारतीय नागरिक देश वापस लाए गए हैं। आयतों लेकिन केरल के कोच्चि हार्बर पर प्रवेश कर चुका है।

नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने बताया कि सात मई 2020 से शुरू हुए मिशन के पहले चरण के तहत अब तक 31 उड़ानों के जरिए 6037 भारतीय नागरिकों को देश वापस लाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि पहले चरण में कुल 14,800 भारतीयों को वापस लाने की योजना है।

बता दें कि वंदे भारत मिशन के तहत एयर इंडिया और उसकी सहायक एयर इंडिया एक्सप्रेस 12 देशों में 64 उड़ानों का परिचालन कर रही है। इनमें से 42 उड़ानें का परिचालन एयर इंडिया और 24 उड़ानें का परिचालन एयर इंडिया एक्सप्रेस कर रही है। इन 12 देशों में अमेरिका, लंदन, बांग्लादेश, सिंगापुर, सऊदी अरब, कुवैत, महाराष्ट्र, यूएई और मलयेशिया शामिल हैं।


आगे पढ़ें

ब्रिटेन में फंसे 331 भारतीय हैदराबाद पहुंचे





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *