न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
अपडेटेड बुध, 06 मई 2020 08:15 PM IST

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (फाइल फोटो)
– फोटो: एएनआई

ख़बर सुनता है

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग और जीएमएमई मंत्री नितिन गडकरी ने देश के बस और कार अधिकारियों को आश्वासन दिया है कि वह उनकी समस्याओं से पूरी तरह अवगत हैं और उनकी समस्याओं के निराकरण में पूरी मदद करेंगे। उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री और वित मंत्री के नियमित संपर्क में हैं जो को विभाजित -19 महामारी के इन कठिन दिनों के दौरान अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने के लिए दिन रात कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जल्द ही राजमार्ग और सड़क परिवहन आम जनता के लिए शुरू किया जा सकता है।

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बस और कार ऑपरेटर संजय के सदस्यों को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि परिवहन और राजमार्गों को खोलने से आम जनता के बीच आर्थिक रूप से विश्वास का संचार होगा। उन्होंने कहा कि कुछ दिशानिर्देशों के साथ जल्द ही सार्वजनिक परिवहन खुल दिया जा सकता है। हालांकि, उन्होंने कहा कि बसों और कारों के संचालन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने, हाथ धोने, सैनिटरीकरण करने और फेसपैक आदि जैसे सुरक्षा उपायों का अनुपालन करना अनिवार्य होगा।

बस और कार ऑपरेटर गंघ के सदस्यों की प्रतिक्रियाओं का जवाब देते हुए गडकरी ने कहा कि उनका मंत्रालय सार्वजनिक परिवहन के लंदन मॉडल का अनुसरण कर रहा है, जहां सरकारी वित्तपोषण न्यूनतम है और निजी निवेश को बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने भारतीय बसों व ट्रक बॉडी के सेल्स की ओर संकेत किया जो केवल 5-7 साल ही चल पाते हैं जबकि यूरोपीय मॉडल 15 साल तक चलते रहे हैं। गडकरी ने उन्हें अपनाने पर जोर दिया और कहा कि ये लंबे समय में स्वदेशी उद्योग के लिए भी बेहतर रहेंगे।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्होंने महामारी के दौरान भारतीय बाजार की कठिन वित्तीय स्थिति से अवगत हैं। उन्होंने कहा कि इसका मुकाबला करने के लिए सभी हितधारकों को एक साथ मिल कर काम करना होगा। उन्होंने विश्व उद्योग द्वारा प्रस्तुत किए जा रहे बहुत अच्छे व्यावसायिक अवसर की ओर संकेत किया जो चीनी बाजार से बाहर निकलने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय उद्योग को इस अवसर का उपयोग उन विदेशी कंपनियों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित करने के लिए करना चाहिए।

उन्होंने जताया कि देश और इसकी उद्योग दोनों ही लड़ाइयों में, एक कोरोना के खिलाफ और दूसरी आर्थिक मंदी के खिलाफ साथ मिल कर कर प्राप्त करेंगे। मेघ के सदस्यों ने सार्वजनिक परिवहन की स्थिति में सुधार लाने के लिए सुझाव दिया है जिसमें ब्याज भुगतान छूट को नियंत्रित करने, सार्वजनिक परिवहन को फिर से शुरू करने, आयु, जीवन की सीमा को बदलने, राज्य करों को आस्थावान करने, एमएसएमई में वृद्धि करने, बीमा पॉलिसी की वैधता आदि को सीमित करना शामिल है।

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग और जीएमएमई मंत्री नितिन गडकरी ने देश के बस और कार अधिकारियों को आश्वासन दिया है कि वह उनकी समस्याओं से पूरी तरह अवगत हैं और उनकी समस्याओं के निराकरण में पूरी मदद करेंगे। उन्होंने कहा कि वह प्रधानमंत्री और वित मंत्री के नियमित संपर्क में हैं जो को विभाजित -19 महामारी के इन कठिन दिनों के दौरान अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने के लिए दिन रात कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जल्द ही राजमार्ग और सड़क परिवहन आम जनता के लिए शुरू किया जा सकता है।

वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बस और कार ऑपरेटर संजय के सदस्यों को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि परिवहन और राजमार्गों को खोलने से आम जनता के बीच आर्थिक रूप से विश्वास का संचार होगा। उन्होंने कहा कि कुछ दिशानिर्देशों के साथ जल्द ही सार्वजनिक परिवहन खुल दिया जा सकता है। हालांकि, उन्होंने कहा कि बसों और कारों के संचालन के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने, हाथ धोने, सैनिटरीकरण करने और फेसपैक आदि जैसे सुरक्षा उपायों का अनुपालन करना अनिवार्य होगा।

बस और कार ऑपरेटर गंघ के सदस्यों की प्रतिक्रियाओं का जवाब देते हुए गडकरी ने कहा कि उनका मंत्रालय सार्वजनिक परिवहन के लंदन मॉडल का अनुसरण कर रहा है, जहां सरकारी वित्तपोषण न्यूनतम है और निजी निवेश को बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने भारतीय बसों व ट्रक बॉडी के सेल्स की ओर संकेत किया जो केवल 5-7 साल ही चल पाते हैं जबकि यूरोपीय मॉडल 15 साल तक चलते रहे हैं। गडकरी ने उन्हें अपनाने पर जोर दिया और कहा कि ये लंबे समय में स्वदेशी उद्योग के लिए भी बेहतर रहेंगे।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि उन्होंने महामारी के दौरान भारतीय बाजार की कठिन वित्तीय स्थिति से अवगत हैं। उन्होंने कहा कि इसका मुकाबला करने के लिए सभी हितधारकों को एक साथ मिल कर काम करना होगा। उन्होंने विश्व उद्योग द्वारा प्रस्तुत किए जा रहे बहुत अच्छे व्यावसायिक अवसर की ओर संकेत किया जो चीनी बाजार से बाहर निकलने की कोशिश कर रहा है। उन्होंने कहा कि भारतीय उद्योग को इस अवसर का उपयोग उन विदेशी कंपनियों को भारत में निवेश के लिए आमंत्रित करने के लिए करना चाहिए।

उन्होंने जताया कि देश और इसकी उद्योग दोनों ही लड़ाइयों में, एक कोरोना के खिलाफ और दूसरी आर्थिक मंदी के खिलाफ साथ मिल कर कर प्राप्त करेंगे। मेघ के सदस्यों ने सार्वजनिक परिवहन की स्थिति में सुधार लाने के लिए सुझाव दिया है जिसमें ब्याज भुगतान छूट को नियंत्रित करने, सार्वजनिक परिवहन को फिर से शुरू करने, आयु, जीवन की सीमा को बदलने, राज्य करों को आस्थावान करने, एमएसएमई में वृद्धि करने, बीमा पॉलिसी की वैधता आदि को सीमित करना शामिल है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *