लॉकडाउन में मोदी सरकार बेच रही बाजार भाव पर सस्ता सोना, सोमवार से मौका मिलेगा- लॉकडाउन के दौरान सस्ते दाम पर सोना खरीदें गोल्ड बॉन्ड इश्यू की कीमत 4590 रुपये प्रति ग्राम तय नवाचार – समाचार हिंदी में


मोदी सरकार बेच रही बाजार भाव से सस्ता सोना

देश में जारी लॉकडाउन के बीच केंद्र सरकार (भारत सरकार) सस्ता सोना (सस्ती कीमत पर सोना खरीदें) की नई स्कीम लाई है। 11 मई से इसकी शुरुआत होगी।

नई दिल्ली। कोरोना के इस संकट (कोरोनवायरस वायरस) के बीच सोने की कीमतों में तेजी का दौर जारी है। सोने की बढ़ती कीमतों के बीच (सोने की कीमतें) मोदी सरकार (भारत सरकार) सस्ते सोने की नई स्कीम लाई है। सरकार ने सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड 2020-21 (सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम) के अगले चरण की कीमत ,5 4,590 प्रति ग्राम की गई तय की गई है। सॉवरन गोल्ड बॉन्ड स्कीम 2020-21 की सीरीज -2 की सब्सक्रिप्शन के लिए 11 मई 2020 से 15 मई 2020 तक खुला रहेगा। इसके पहले सीरीज का इश्यू क्वालिटी 4,639 रुपये प्रति ग्राम था। सोवरन गोल्ड बॉन्ड का पहला इस्सू 20 अप्रैल से 24 अप्रैल 2020 तक खुला था। आपको बता दें कि घरेलू सर्राफा बाजार लॉकडाउन की वजह से बंद है। लेकिन फ्यूचर में सोने की दुकानें 50 हजार रुपये प्रति दस ग्राम के करीब पहुंच गई हैं।

सोना कैसे खरीद सकते हैं- सॉवरन गोल्ड बॉन्ड स्कीम के निवेश करने वाला व्यक्ति एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 500 ग्राम सोने के बॉन्ड खरीद सकता है। न्यूनतम निवेश एक ग्राम का होना आवश्यक है। इस स्कीम में निवेश करने पर आप टैक्स बचा सकते हैं। स्कीम के तहत निवेश पर 2.5 प्रतिशत का सालाना ब्याज मिलेगा।

आरबीआई ने अपने इस बयान में कहा है कि गोल्ड बॉन्ड की इश्यू क्वालिटी 90 4,590 प्रति ग्राम तय किया गया है, लेकिन गोल्ड बॉन्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन और पेमेंट करने वालों को प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट मिलेगी।नगर में डिजिटल मोड में पेर्ड डू हैं। तो 50 रुपये प्रति ग्राम की छूट मिलेगी। छूट के साथ बॉन्ड का इश्यू क्वालिटी 4,540 रुपये प्रति ग्राम होगा। इस स्कीम के तहत सबसे छोटे बॉन्ड 1 ग्राम के सोने के बराबर होगा।

कोई भी व्यक्ति या एचयूएफ एक वित्तीय वर्ष में अधिकतम 4 किलो ग्राम सोने का बाडंड खरीद सकता है। कुल मिलाकर व्यक्तिगत तौर पर बॉन्ड खरीदने की सीमा 4 किलो है, इसमें ट्रस्ट या संगठन के लिए 20 किलोग्राम तय की गई है। योजना की परिपक्वता अवधि 8 साल है। लेकिन अगर फिर भी बॉन्ड बेचना चाहते हैं तो कम से कम 5 साल का इंतजार करना होगा। इसी अवधि के बाद सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड को बाजार की कीमतों पर भुनाया जा सकता है। इस बॉन्ड को सिर्फ कोई व्यक्ति या एचयूएफ, ट्रस्ट, यूनिवर्सिज और कलर्सफुल संस्थाएं ही खरीद सकती हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम क्या है? – इस योजना की शुरुआत नवंबर 2015 में हुई थी। इसका मकसद फिजिकल गोल्ड की मांग में कमी लाना और सोने की खरीद में उपयोग होने वाली घरेलू बचत का इस्तेमाल वित्तीय बचत में करना है। घर में सोने की खरीद कर रखने की बजाय अगर आप सॉवरेन गोल्ड बॉनीड में निवेश करते हैं, तो आप टैक्स भी बचा सकते हैं।

यहाँ से सोना सस्ता होना चाहिए- सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड की बिक्री बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कोर्प ऑफ इंडिया लिमिटेड, चुने गए पोस्ट ऑफिस और एनएसई और बीएसई के माध्यम से होती है। आप इन सभी में से किसी भी एक स्थान पर बॉन्ड स्कीम में शामिल हो सकते हैं। आपको बता दें कि भारत बुलियन एंड ज्वैलर्स एसोसिएशन लिमिटेड की ओर से पिछले 3 दिन 999 प्योरिटी वाले सोने की दी गई कीमतों के आधार पर इस टेबल की कीमत रुपये में तय होती है।

कैपिटल गेन टैक्स की बचत होगी- बॉन्ड की मशीनों सोने की कीमतों में अस्थिरता पर निर्भर करती है। सोने की कीमतों में गिरावट गोल्ड बॉन्ड पर नकारात्मक बढ़त देती है। इस अस्थिरता को कम करने के लिए सरकार लंबी अवधि वाले गोल्ड बॉन्ड जारी कर रही है। इसमें निवेश की अवधि 8 साल होती है, लेकिन आप 5 साल के बाद भी अपने पैसे निकाल सकते हैं। पांच साल के बाद पैसे निकालने पर कैपिटल गेन टैक्स भी नहीं लगाया जाता है।

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए इनोवेशन से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 9 मई, 2020, 10:30 पूर्वाह्न IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। सिर्फ 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *