ख़बर सुनकर

यूपी में 17 मई के बाद लॉकडाउन दो हफ्तों के लिए और बढ़ सकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ हुई बैठक में ज्यादातर मंत्रियों ने यह सुझाव दिया। साथ ही आर्थिक गतिविधियों पर भी ध्यान देने पर जोर दिया गया, ताकि लोगों को अधिकाधिक रोजगार मिल सके।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि महामारी से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाते हुए आर्थिक गतिविधियों पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा। स्थानीय उद्यमों पर भी अधिकाधिक ध्यान केंद्रित किया जाएगा, ताकि प्रदेश का प्रत्येक गांव और जिला आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ सके।

कोरोना परिस्थिति और लॉकडाउन को लेकर मुख्यमंत्री और मंत्रियों की बैठक लगभग डेढ़ घंटे तक चली। इसमें प्रतिभागियों ने लॉकडाउन बढ़ाने के साथ आर्थिक गतिविधियों के लिए अधिक से अधिक अनुमति देने की बात कही।

कोविड -19 प्रोटोकॉल के पालन के साथ शादी-ब्याह की अनुमति भी देने का सुझाव दिया। इस दौरान सीएम ने प्रभारी मंत्रियों से कहा कि वे अपने-अपने जिलों पर लगातार ध्यान दें। बाहर से आने वाले प्रवासी श्रमिकों की निगरानी रखें। उनकी समस्याओं को प्राथमिकता के साथ हल करवाने में मदद करें।

सीएम ने कहा कि लॉकडाउन के तीसरे चरण की समाप्ति से पहले केंद्र को सुझाव देने हैं। इसलिए यह बैठक की जा रही है। लॉकडाउन का चौथा चरण लागू होता है, तो उसका क्या स्वरूप होगा, इस संबंध में विस्तृत सुझाव देना होगा। भारत सरकार चाहती है कि लॉकडाउन के संबंध में राज्य सरकार स्वयं निर्णय लें।

कार्यकर्ताओं के कई प्रकार के होने की आशंका
मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी 10 दिन बहुत चुनौतीपूर्ण होंगे। इस लिहाज से विशेष सतर्कता बरतने की जरूरत है। आने वाले श्रमिकों में से कई प्रकार के होंगे। उत्तर प्रदेश में प्रवासी श्रमिकों को प्रेषक के अन्य राज्य लगातार दबाव बना रहे हैं।

दिल्ली से साढ़े चार लाख श्रमिक अभी और आने को आतुर हैं। यदि अगले 10 दिनों तक संक्रमण को नियंत्रित कर लिया जाए तो कोरोना उत्तर प्रदेश में नियंत्रित होगा।

यूपी में 17 मई के बाद लॉकडाउन दो हफ्तों के लिए और बढ़ सकता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ हुई बैठक में ज्यादातर मंत्रियों ने यह सुझाव दिया। साथ ही आर्थिक गतिविधियों पर भी ध्यान देने पर जोर दिया गया, ताकि लोगों को अधिकाधिक रोजगार मिल सके।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि महामारी से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाते हुए आर्थिक गतिविधियों पर भी ध्यान केंद्रित किया जाएगा। स्थानीय उद्यमों पर भी अधिकाधिक ध्यान केंद्रित किया जाएगा, ताकि प्रदेश का प्रत्येक गांव और जिला आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ सके।

कोरोना परिस्थिति और लॉकडाउन को लेकर मुख्यमंत्री और मंत्रियों की बैठक लगभग डेढ़ घंटे तक चली। इसमें प्रतिभागियों ने लॉकडाउन बढ़ाने के साथ आर्थिक गतिविधियों के लिए अधिक से अधिक अनुमति देने की बात कही।

कोविड -19 प्रोटोकॉल के पालन के साथ शादी-ब्याह की अनुमति भी देने का सुझाव दिया। इस दौरान सीएम ने प्रभारी मंत्रियों से कहा कि वे अपने-अपने जिलों पर लगातार ध्यान दें। बाहर से आने वाले प्रवासी श्रमिकों की निगरानी रखें। उनकी समस्याओं को प्राथमिकता के साथ हल करवाने में मदद करें।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed