संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरेस
– फोटो: सोशल मीडिया

ख़बर सुनता है

बुद्ध पूर्णिमा के दिन संयुक्त राष्ट के प्रमुख एंटोनियो गुटेरेश ने पूरी दुनिया से बुद्ध के दिए गए संदेश के पालन करने की अपील की है। यूएन प्रमुख एंटोनियो गुटेरेश ने कहा कि कोरोनावायरस के प्रकोप को रोकने के लिए बुद्ध के ज्ञान को ध्यान में रखना होगा।

एंटोनियो गुटेरेश ने अपने संदेश में कहा कि आज के पैटर्नेक्ष में कोरोना से लड़ने के लिए भगवान बुद्ध के एकता, दूसरों की सेवा के भाव को आपकीाना होगा और दुनिया भर में इन योजनाओं को फैलाना होगा। इन्हीं के माध्यम से कोरोना पर जीत हासिक की जा सकती है।

वेसाक यानि कि वैशाख को गौतम बुद्ध के जन्म, ज्ञानोदय और मृत्यु को दर्शाता है। वेसाक बुद्ध पूर्णिमा के तौर पर मनाया जाता है, यह दुनिया में बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों के लिए सबसे पवित्र दिन होता है। कई हिंदू भी इस दिन को पवित्र मानते हैं।

एंटोनियो गुटेरेश ने संदेश दिया कि भगवान बुद्ध का जन्म, ज्ञानोदय और उनकी मृत्यु हम सबके लिए सौभाग्य से कम नहीं है, हम सभी को भगवान बुद्ध के ज्ञान से प्रेरित होना चाहिए। कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है, ऐसे में अगर कोई परिवार बीमार है तो उसकी मदद करनी चाहिए।

दुनिया में बौद्ध धर्म को मानने वाले करोड़ों लोग वैशाख के पवित्र दिन को मनाएंगे, यूएन प्रमुख ने कहा कि इस दिन पूरी दुनिया भगवान बुद्ध के ज्ञान को खुद पर लागू करे और एक दुनिया के निर्माण में अपना सहयोग दे।

मई के महीने में पूरे चांद वाले दिन वैशाख मनाया जाता है, 623 ईसा पूर्व इसी दिन गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था, ठीक उसी दिन भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था और ठीक उसी दिन 80 वें वर्ष में भगवान बुद्ध ने अपना शरीर त्याग दिया था। । वर्ष 1999 ने संयुक्त राष्ट्र ने इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय दिवस घोषित किया था।

बुद्ध पूर्णिमा के दिन संयुक्त राष्ट के प्रमुख एंटोनियो गुटेरेश ने पूरी दुनिया से बुद्ध के दिए गए संदेश के पालन करने की अपील की है। यूएन प्रमुख एंटोनियो गुटेरेश ने कहा कि कोरोनावायरस के प्रकोप को रोकने के लिए बुद्ध के ज्ञान को ध्यान में रखना होगा।

एंटोनियो गुटेरेश ने अपने संदेश में कहा कि आज के पैटर्नेक्ष में कोरोना से लड़ने के लिए भगवान बुद्ध के एकता, दूसरों की सेवा के भाव को आपकीाना होगा और दुनिया भर में इन योजनाओं को फैलाना होगा। इन्हीं के माध्यम से कोरोना पर जीत हासिक की जा सकती है।

वेसाक यानि कि वैशाख को गौतम बुद्ध के जन्म, ज्ञानोदय और मृत्यु को दर्शाता है। वेसाक बुद्ध पूर्णिमा के तौर पर मनाया जाता है, यह दुनिया में बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों के लिए सबसे पवित्र दिन होता है। कई हिंदू भी इस दिन को पवित्र मानते हैं।

एंटोनियो गुटेरेश ने संदेश दिया कि भगवान बुद्ध का जन्म, ज्ञानोदय और उनकी मृत्यु हम सबके लिए सौभाग्य से कम नहीं है, हम सभी को भगवान बुद्ध के ज्ञान से प्रेरित होना चाहिए। कोरोनावायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है, ऐसे में अगर कोई परिवार बीमार है तो उसकी मदद करनी चाहिए।

दुनिया में बौद्ध धर्म को मानने वाले करोड़ों लोग वैशाख के पवित्र दिन को मनाएंगे, यूएन प्रमुख ने कहा कि इस दिन पूरी दुनिया भगवान बुद्ध के ज्ञान को खुद पर लागू करे और एक दुनिया के निर्माण में अपना सहयोग दे।

मई के महीने में पूरे चांद वाले दिन वैशाख मनाया जाता है, 623 ईसा पूर्व इसी दिन गौतम बुद्ध का जन्म हुआ था, ठीक उसी दिन भगवान बुद्ध को ज्ञान प्राप्त हुआ था और ठीक उसी दिन 80 वें वर्ष में भगवान बुद्ध ने अपना शरीर त्याग दिया था। । वर्ष 1999 ने संयुक्त राष्ट्र ने इस दिन को अंतर्राष्ट्रीय दिवस घोषित किया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *