तीन मार्च को प्रदर्शन में शरीक काले टी-शर्ट में एंजल
– फोटो : social media

ख़बर सुनें

म्यांमार की सैन्य सरकार प्रदर्शनकारियों पर कितने जुल्म ढा रही है, यह इस खबर से पता चल जाएगा। प्रदर्शनारियों के खिलाफ सेना आए दिन गोलीबारी कर रही है। चार मार्च को ऐसी गोलीबारी की शिकार 19 साल की एक लड़की हुई। मे क्याल सिन नाम की इस लड़की को दफना दिया गया। हद तब हो गई जब पोस्टमॉर्टम के नाम पर कब्र खोदकर एंजल का शव निकाला गया और कब्र में रखे फूलों को हटाकर सीमेंट व मलबे से उसे भर दिया गया। 

टूटी-फूटी कब्र पर डाले सर्जिकल गाउन व खून से सने दस्ताने
म्यांमार की सेना जिंदा लोगों पर ही नहीं मृतकों के साथ भी हैवानियत भरा सलूक कर रही है। सिन, जिसे एंजल कहा जा रहा है, की पार्थिव देह की दुर्दशा तो की ही गई, उसकी कब्र पर सर्जिकल गाउन व खून से सने दस्ताने डालकर क्रूरता का परिचय दिया गया। 

यूएन ने कहा- मानवता पर अपराध कर रही सेना
म्यांमार की सेना के इसी रवैये को संयुक्त राष्ट्रसंघ ने मानवता के प्रति अपराध करार दिया है। फरवरी में हुए तख्ता पलट के बाद से अब तक 70 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को गोलियों से भूना जा चुका है। 

लोकतंत्र के लिए आंदोलन की प्रतीक बनी एंजल
म्यांमार की सेना प्रदर्शनकारियों का चाहे जितना दमन करे, लेकिन क्रूरता की शिकार हुई एंजल अब देश में लोकतंत्र बहाली के लिए चलाए जा रहे आंदोलन की प्रतीक बन गई है। तीन मार्च को जब वह प्रर्दशन में शामिल हुई थी तो उसकी टी-शर्ट पर लिखा था ‘एवरीथिंग विल बी ओके’ यानी सब कुछ ठीक होगा। बता दें, फरवरी में म्यांमार की सेना ने विद्रोह करते हुए चुनी हुई लोकतांत्रिक सरकार का तख्ता पलट कर दिया। 

चार और की मौत
म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर सुरक्षा बलों की कार्रवाई में शनिवार को चार प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई। सैन्य सरकार अपने खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों का लगातार दमन कर रही है। म्यांमार के दूसरे सबसे बड़े शहर मांडले में तीन जबकि देश के दक्षिण-मध्य में स्थित प्याय कस्बे में एक व्यक्ति की मौत होने की खबर है। दोनों स्थानों पर लोगों की मौत होने के बारे में सोशल मीडिया पर कई खबरें देखने को मिली हैं। 

म्यांमार की सैन्य सरकार प्रदर्शनकारियों पर कितने जुल्म ढा रही है, यह इस खबर से पता चल जाएगा। प्रदर्शनारियों के खिलाफ सेना आए दिन गोलीबारी कर रही है। चार मार्च को ऐसी गोलीबारी की शिकार 19 साल की एक लड़की हुई। मे क्याल सिन नाम की इस लड़की को दफना दिया गया। हद तब हो गई जब पोस्टमॉर्टम के नाम पर कब्र खोदकर एंजल का शव निकाला गया और कब्र में रखे फूलों को हटाकर सीमेंट व मलबे से उसे भर दिया गया। 

टूटी-फूटी कब्र पर डाले सर्जिकल गाउन व खून से सने दस्ताने

म्यांमार की सेना जिंदा लोगों पर ही नहीं मृतकों के साथ भी हैवानियत भरा सलूक कर रही है। सिन, जिसे एंजल कहा जा रहा है, की पार्थिव देह की दुर्दशा तो की ही गई, उसकी कब्र पर सर्जिकल गाउन व खून से सने दस्ताने डालकर क्रूरता का परिचय दिया गया। 

यूएन ने कहा- मानवता पर अपराध कर रही सेना

म्यांमार की सेना के इसी रवैये को संयुक्त राष्ट्रसंघ ने मानवता के प्रति अपराध करार दिया है। फरवरी में हुए तख्ता पलट के बाद से अब तक 70 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को गोलियों से भूना जा चुका है। 

लोकतंत्र के लिए आंदोलन की प्रतीक बनी एंजल

म्यांमार की सेना प्रदर्शनकारियों का चाहे जितना दमन करे, लेकिन क्रूरता की शिकार हुई एंजल अब देश में लोकतंत्र बहाली के लिए चलाए जा रहे आंदोलन की प्रतीक बन गई है। तीन मार्च को जब वह प्रर्दशन में शामिल हुई थी तो उसकी टी-शर्ट पर लिखा था ‘एवरीथिंग विल बी ओके’ यानी सब कुछ ठीक होगा। बता दें, फरवरी में म्यांमार की सेना ने विद्रोह करते हुए चुनी हुई लोकतांत्रिक सरकार का तख्ता पलट कर दिया। 

चार और की मौत

म्यांमार में तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों पर सुरक्षा बलों की कार्रवाई में शनिवार को चार प्रदर्शनकारियों की मौत हो गई। सैन्य सरकार अपने खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों का लगातार दमन कर रही है। म्यांमार के दूसरे सबसे बड़े शहर मांडले में तीन जबकि देश के दक्षिण-मध्य में स्थित प्याय कस्बे में एक व्यक्ति की मौत होने की खबर है। दोनों स्थानों पर लोगों की मौत होने के बारे में सोशल मीडिया पर कई खबरें देखने को मिली हैं। 

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *