महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी पार्टी के नेताओं को संबोधित करते हुए इस बात का संकेत दिया कि राज्य के रेड जोन वाले क्षेत्रों में मई के अंत तक लॉकडाउन को बढ़ाया जा सकता है।

खासतौर पर मुंबई और पुणे जैसे बड़े शहरी इलाकों में जहां महाराष्ट्र के कुल मामलों के 90 प्रतिशत मामले सामने आए हैं। गौरतलब हो कि लॉकडाउन 3.0 की अवधि 17 मार्च को पूरी हो रही है।

सभी विपक्षी दलों के नेताओं ने पार्टी लाइन के उलट जाते हुए सरकार को इस बात पर सुझाव दिया कि कैसे स्थिति को और बेहतर ढंग से संभाला जा सकता है। विधानसभा में विपक्ष के नेता और भाजपा के नेता प्रवीण डारेकर और वंचित बहुजन अघाड़ी के नेता प्रकाश आंबेडकर ने कहा कि मुख्यमंत्री लॉकडाउन को बढ़ाना चाहते हैं।

डारेकर ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में हालात गंभीर है और मई के अंत तक मामलों में वृद्धि हो सकती है। उन्होंने इस बात की ओर इशारा किया कि लॉकडाउन को तब तक उठाया जा सकता है।

आंबेडकर ने कहा कि मुख्यमंत्री ने हमें राज्य द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे में बताया और कहा कि इस बात का अनुमान है कि मई के अंत तक कोरोना मामलों में वृद्धि हो सकती है। साथ ही इस बात की ओर इशारा किया कि लॉकडाउन बढ़ सकता है।

सशस्त्र क्षेत्रों में एसआरपीएफ तैनात हो
मुख्यमंत्री को कोरोना पर सलाह देने वालों में महाराष्ट्र नव निर्माण सेना (एमटीसी) प्रमुख राज ठाकरे भी शामिल थे। उन्होंने कहा कि संरक्षण क्षेत्रों में एसआरपीएफ को तैनात किया जाना चाहिए, खासतौर पर मुंबई में।

कुछ अन्य प्रमुखों ने फंसे हुए प्रवासियों और प्रशासन में समन्वय की कमी की बात कही जिसके परिणामस्वरूप शराब की दुकानों और स्टैंडअलोन स्टोर्स को खोलने को लेकर संशोधित आदेश दिए गए हैं।

शराब की दुकानों को खोलने का निर्णय सही नहीं: देवेंद्र फडणवीस
पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने मुंबई के हालात को लेकर कहा कि शहर में स्थिति विकट है। उन्होंने सायन अस्पताल में कोविद -19 वार्ड में भर्ती मरीजों के करीब ही मृत शरीरों को बनाए रखने का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि मुंबई में शराब की दुकानों को खोले जाने का फैसला सही नहीं था।

पूर्व सीएम ने कहा कि एसिम्टोमैटिक रोगियों की भी जांच की जानी चाहिए। औद्योगिक क्षेत्र को फिर से पुनर्जीवित करने के लिए वित्तीय पैकेज की घोषणा की जानी चाहिए। अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करने के लिए बनाई गई योजनाओं पर काम फिर से शुरू हो जाना चाहिए।

राज ठाकरे ने बैठक में नहीं लगाया था
वहीं, राज ठाकरे सीएम के सामने अपनी बात रखने के बाद चले गए। बैठक में वह एकमात्र ऐसे नेता थे, जिन्होंने स्पष्ट नहीं किया था। राज ने कहा कि राज्य को अपनी निकास योजना की घोषणा 10-15 दिन पहले ही कर देनी चाहिए ताकि लोग इस बात से अवगत हों कि किन चीजों की अनुमति मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि यह लोगों के बीच भ्रम को खत्म करेगा।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *