समाचार, अमर उजाला, नई दिल्ली

द्वारा प्रकाशित: प्रंजुल श्रीवास्तव
अपडेटेड बुध, 15 सितंबर 2021 11:59 AM IST

सर

भारत में अभी तक डबल डोज का प्रसारण किया गया है। पोस्ट करने के लिए यह आवश्यक है कि वह ऐसा करने के लिए आवश्यक हो।

कोरोना की हत्या
– फोटो : स्वयं

खबर

ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया की ओर से रूस की स्पुतनिक लाइट वैक्सीन को भारत में तीसरे चरण के ट्रायल की अनुमति मिल गई है। ️ पोस्ट करने के बाद यह खुश नहीं होता है।

किसी भी तरह के संपर्क में आने वाले व्यक्ति कीटाणु के संपर्क में आते हैं। वे जो भी भारत में होते हैं, सभी डबल डबल्ज़ होते हैं।

पदों पर नियुक्त अधिकारी
प्रेग्नेंसी के समय सुबह के समय व्यस्त रहने के लिए, जब स्थिति खराब हो जाती थी। यह प्रभावी होने के लिए भी तय किया गया था। कंपनी का कहना है कि स्पिट को कॉपोन में रखा गया है, जो स्पूट-वी में हैं। इसलिए भारतीय अनुपात में सबसे अच्छा है।

स्पूतनिक-वी
स्पीट-वी, दो अलग-अलग टाइप के खाने के साथ-साथ अन्य-विशेषज्ञ। मेडिकल जर्नल लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार कोरोना के खिलाफ इसकी प्रभावकारिता 91.6 फीसदी के करीब पाई गई है। वाइट स्पैटनिक, स्पुतनिक-वी लाइट का पहला घटक है। ब्यूस आयर्स प्रदेश (अर्जीटाना) के वैबसाइट के साथ प्‍लास्टिक प्‍लाज इस की प्रभाविकता 78.6 से 83.7 के बीच की पी.आई.एस.

विशिष्ट स्थान विशिष्ट है?
लोगों के मन में सवाल है I खराब होने के कारण ऐसा होने के कारण यह खराब होने के कारण होता है। ️आरडी️आरडी️आरडी️आरडी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है है हैं पर ऐसे हैं हैं क्या हैं, ऐसे में संभावित रूप से सक्षम हैं। 79.4 बुरी तरह से प्रभावित होने के साथ-साथ कम कीमत 10 प्रति डोज (करीब 743 पूर्व) में भी होगा।

कटि

ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया की ओर से रूस की स्पुतनिक लाइट वैक्सीन को भारत में तीसरे चरण के ट्रायल की अनुमति मिल गई है। ️ पोस्ट करने के बाद यह खुश नहीं होता है।

किसी भी तरह के संपर्क में आने वाले व्यक्ति कीटाणु के संपर्क में आते हैं। वे जो भी भारत में होते हैं, सभी डबल डबल्ज़ होते हैं।

पदों पर नियुक्त अधिकारी

प्रेग्नेंसी के समय सुबह के समय व्यस्त रहने के लिए, जब स्थिति खराब हो जाती थी। यह प्रभावी होने के लिए भी तय किया गया था। कंपनी का कहना है कि स्पिट को कॉपोन में रखा गया है, जो स्पूट-वी में हैं। इसलिए भारतीय अनुपात में सबसे अच्छा है।

स्पूतनिक-वी सप्ताह

स्पीट-वी, दो अलग-अलग टाइप के खाने के साथ-साथ अन्य-विशेषज्ञ। मेडिकल जर्नल लैंसेट में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार कोरोना के खिलाफ इसकी प्रभावकारिता 91.6 फीसदी के करीब पाई गई है। वाइट स्पैटनिक, स्पुतनिक-वी लाइट का पहला घटक है। ब्यूस आयर्स प्रदेश (अर्जीटाना) के वैबसाइट के साथ प्‍लास्टिक प्‍लाज इस की प्रभाविकता 78.6 से 83.7 के बीच की पी.आई.एस.

विशिष्ट स्थान विशिष्ट है?

लोगों के मन में सवाल है I खराब होने के कारण ऐसा होने के कारण यह खराब होने के कारण होता है। ️आरडी️आरडी️आरडी️आरडी️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ है है है हैं पर ऐसे हैं हैं क्या हैं, ऐसे में संभावित रूप से सक्षम हैं। 79.4 बुरी तरह से प्रभावित होने के साथ-साथ कम कीमत 10 प्रति डोज (करीब 743 पूर्व) में भी होगा।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *