ब्रिटेन में कोरोनावायरस
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

कोरोनावायरस महामारी की वजह से ब्रिटेन में सात लाख लोगों की मौत हो सकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के अध्ययन के अनुसार ब्रिटेन में सात लाख लोग इस जानलेवा वायरस से जान गंवा सकते हैं। यह संख्या द्वितीय विश्व युद्ध में हुई मौतों से बहुत ज्यादा है।

यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के अध्ययन में कहा गया है कि मूल्य, गरीबी और लापरवाही की स्थिति में यह आंकड़ा बढ़ सकता है। शोधकर्ताओं का अनुमान है कि बिना वैक्सीन के ब्रिटेन को को विभाजित -19 को हराने के लिए 2024 तक सोशल डिस्टेंसिंग के लिए अनिवार्य होना पड़ सकता है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से संदेह भी आ सकता है। ऐसे में कोरोना वायरस, खराब स्वास्थ्य प्रणाली और गरीबी की वजह से पांच साल में 6.75 लाख लोगों की मौत हो सकती है।

विश्वविद्यालय में रिस्क मैनेजमेंट के प्रोफेसर फिलिप थॉमस ने कहा कि लॉकडाउन से धीरे-धीरे बाहर आने की नीति तभी प्रभावी है जब हम संक्रमण की दर एक से नीचे रखने में कामयाब होंगे। संदेह की स्थिति में गरीबी से भी उतनी ही मौतें होंगी, जैसा कोरोना से।

बोरिस जॉन्सन ने ब्रिटेन में एक जून तक लॉकडाउन की स्थापना की
वहीं ब्रिटेन में लगातार बढ़ रही कोरोना के मामलों और मृतकों की संख्या में हो रही वृद्धि के बीच प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने नए दिशानिर्देश तैयार किए हैं। बोरिस ने देश में लॉकडाउन को आगे बढ़ाने के साथ-साथ नई सेटिंग भी तैयार की है।

प्रधानमंत्री ने रविवार को देश में लगे लॉकडाउन को एक जून तक बढ़ाने का फैसला किया, साथ ही सार्वजनिक स्थानों को खोलने के लिए जुलाई के पहले सप्ताह की समयसीमा रखी। हालांकि बोरिस ने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के मद्देनजर के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए। उन्होंने कहा कि जो लोग घर से काम कर रहे हैं, वह कर सकते हैं, लेकिन जो बाहर काम करने की जरूरत है, वे बाहर निकलकर काम कर सकते हैं।)

बोरिस ने साथ ही लोगों से कहा कि वे निकटतम पार्कों और घर के बाहर में अपने परिवार के साथ व्यायाम कर सकते हैं, खेल भी कर सकते हैं, जिन्हें कोई दूसरी जगह जाना, वे अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। हालाँकि इस दौरान कार्य को पूरा करने के लिए अनिवार्य होगा। जॉनसन ने साफ संकेत दिया है कि अगर मामला बढ़े तो पाबंदियां बढ़ाई जा सकती हैं।

जॉनसन ने कुछ छूट के साथ दिशानिर्देश जारी किए हैं।

  • आप स्थानीय पार्क में सूरज के नीचे बैठ सकते हैं, किसी दूसरी जगह जा सकते हैं, खेल सकते हैं लेकिन सिर्फ अपने परिवार के लोगों के साथ।
  • काम पर निकलने वाले लोग सार्वजनिक वाहनों का कम से कम इस्तेमाल करते हैं।
  • देश में आने वाले व्यक्ति को तुरंत क्वारंटीन होगा।
  • बायोसिक्योरिटी सेंटर द्वारा नई समीक्षा प्रणाली लगाई जाएगी।
  • प्राइमरी स्क्रीनल्स एक जून से खुल जाएगा, लेकिन उसका निर्णय परिस्थिति को देखकर होगा।
  • एक जुलाई से अधिक दुकानें और होटल खुलेंगे।
कोरोनावायरस महामारी की वजह से ब्रिटेन में सात लाख लोगों की मौत हो सकती है। यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के अध्ययन के अनुसार ब्रिटेन में सात लाख लोग इस जानलेवा वायरस से जान गंवा सकते हैं। यह संख्या द्वितीय विश्व युद्ध में हुई मौतों से बहुत ज्यादा है।

यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिस्टल के अध्ययन में कहा गया है कि मूल्य, गरीबी और लापरवाही की स्थिति में यह आंकड़ा बढ़ सकता है। शोधकर्ताओं का अनुमान है कि बिना वैक्सीन के ब्रिटेन को को विभाजित -19 को हराने के लिए 2024 तक सोशल डिस्टेंसिंग के लिए अनिवार्य होना पड़ सकता है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से संदेह भी आ सकता है। ऐसे में कोरोना वायरस, खराब स्वास्थ्य प्रणाली और गरीबी की वजह से पांच साल में 6.75 लाख लोगों की मौत हो सकती है।

विश्वविद्यालय में रिस्क मैनेजमेंट के प्रोफेसर फिलिप थॉमस ने कहा कि लॉकडाउन से धीरे-धीरे बाहर आने की नीति तभी प्रभावी है जब हम संक्रमण की दर एक से नीचे रखने में कामयाब होंगे। संदेह की स्थिति में गरीबी से भी उतनी ही मौतें होंगी, जैसा कोरोना से।

बोरिस जॉन्सन ने ब्रिटेन में एक जून तक लॉकडाउन की स्थापना की
वहीं ब्रिटेन में लगातार बढ़ रही कोरोना के मामलों और मृतकों की संख्या में हो रही वृद्धि के बीच प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने नए दिशानिर्देश तैयार किए हैं। बोरिस ने देश में लॉकडाउन को आगे बढ़ाने के साथ-साथ नई सेटिंग भी तैयार की है।

प्रधानमंत्री ने रविवार को देश में लगे लॉकडाउन को एक जून तक बढ़ाने का फैसला किया, साथ ही सार्वजनिक स्थानों को खोलने के लिए जुलाई के पहले सप्ताह की समयसीमा रखी। हालांकि बोरिस ने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के मद्देनजर के लिए कई महत्वपूर्ण फैसले लिए। उन्होंने कहा कि जो लोग घर से काम कर रहे हैं, वह कर सकते हैं, लेकिन जो बाहर काम करने की जरूरत है, वे बाहर निकलकर काम कर सकते हैं।)

बोरिस ने साथ ही लोगों से कहा कि वे निकटतम पार्कों और घर के बाहर में अपने परिवार के साथ व्यायाम कर सकते हैं, खेल भी कर सकते हैं, जिन्हें कोई दूसरी जगह जाना, वे अपनी गाड़ी से जा सकते हैं। हालाँकि इस दौरान कार्य को पूरा करने के लिए अनिवार्य होगा। जॉनसन ने साफ संकेत दिया है कि अगर मामला बढ़े तो पाबंदियां बढ़ाई जा सकती हैं।

जॉनसन ने कुछ छूट के साथ दिशानिर्देश जारी किए हैं।

  • आप स्थानीय पार्क में सूरज के नीचे बैठ सकते हैं, किसी दूसरी जगह जा सकते हैं, खेल सकते हैं लेकिन सिर्फ अपने परिवार के लोगों के साथ।
  • काम पर निकलने वाले लोग सार्वजनिक वाहनों का कम से कम इस्तेमाल करते हैं।
  • देश में आने वाले व्यक्ति को तुरंत क्वारंटीन होगा।
  • बायोसिक्योरिटी सेंटर द्वारा नई समीक्षा प्रणाली लगाई जाएगी।
  • प्राइमरी स्क्रीनल्स एक जून से खुल जाएगा, लेकिन उसका निर्णय परिस्थिति को देखकर होगा।
  • एक जुलाई से अधिक दुकानें और होटल खुलेंगे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *