ख़बर सुनता है

आरोग्य सेतु की तर्ज पर विकसित सि को विभाजित सिम्प्टम ट्रैकर एप्स ’ब्रिटेन और अमेरिका में कोरोना मार्टियन को हॉटस्पाट और उससे संबंधित लक्षणों की पहचान करने में मददगार साबित हो रहा है। अमेरिका और ब्रिटेन में 25 लाख से ज्यादा लोगों द्वारा इसका उपयोग किया जा रहा है। इससे मिलने वाला भारी डेटा वहाँ के सरकारी कर्मचारियों, वैज्ञानिकों और चिकित्सकों के लिए मददगार साबित हो रहा है।

अमेरिका स्थित मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल (एमजीएच) के वरिष्ठ लेखक नवीन टी चान के मुताबिक एप के समुदाय के लोगों से दैनिक जानकारी एकत्र करता है कि क्या वे स्वस्थ महसूस कर रहे हैं या नहीं, और नहीं तो क्या कोई विशिष्ट लक्षण दिखाई दे रहे हैं? क्या उनका सह -19 का परीक्षण हुआ है? उन्होंने बताया कि इस महामारी से सामना में यह बेहतर प्रबंधन और योजना बनाने में मददगार साबित हो सकता है। इससे वह सेल्फ आइसोलेशन, क्षेत्र की पहचान, अतिरिक्त वेंटिलेटर की जरूरत आदि की तैयारी के समय से कर सकते हैं। ब्रिटेन में यह 24 मार्च और अमेरिका में 29 मार्च को लॉन्च किया गया था।

आरोग्य सेतु की तर्ज पर विकसित सि को विभाजित सिम्प्टम ट्रैकर एप्स ’ब्रिटेन और अमेरिका में कोरोना मार्टियन को हॉटस्पाट और उससे संबंधित लक्षणों की पहचान करने में मददगार साबित हो रहा है। अमेरिका और ब्रिटेन में 25 लाख से ज्यादा लोगों द्वारा इसका उपयोग किया जा रहा है। इससे मिलने वाला भारी डेटा वहाँ के सरकारी कर्मचारियों, वैज्ञानिकों और चिकित्सकों के लिए मददगार साबित हो रहा है।

अमेरिका स्थित मैसाचुसेट्स जनरल अस्पताल (एमजीएच) के वरिष्ठ लेखक नवीन टी चान के मुताबिक एप के समुदाय के लोगों से दैनिक जानकारी एकत्र करता है कि क्या वे स्वस्थ महसूस कर रहे हैं या नहीं, और नहीं तो क्या कोई विशिष्ट लक्षण दिखाई दे रहे हैं? क्या उनका सह -19 का परीक्षण हुआ है? उन्होंने बताया कि इस महामारी से सामना में यह बेहतर प्रबंधन और योजना बनाने में मददगार साबित हो सकता है। इससे वह सेल्फ आइसोलेशन, क्षेत्र की पहचान, अतिरिक्त वेंटिलेटर की जरूरत आदि की तैयारी के समय से कर सकते हैं। ब्रिटेन में यह 24 मार्च और अमेरिका में 29 मार्च को लॉन्च किया गया था।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed