• पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान इयान चैपल ने कहा- कोरोनावायरस के बाद शिडब्यू नियम में भी बदलाव होने चाहिए
  • चैपल ने कहा- गेंद को चमकाने के लिए पारंपरिक विकल्प लाने होंगे, लॉकडाउन में प्रयोग करने का सही समय है

दैनिक भास्कर

12 मई, 2020, 09:38 AM IST

कोरोनावायरस के कारण क्रिकेट जगत में गेंद को चमकाने के लिए लार और पसीने के इस्तेमाल को लेकर बहस जारी है। इस बीच ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल ने कहा है कि कोरोना के बाद बॉल टेम्परिंग को मंजूरी मिलनी चाहिए। साथ ही लार की जगह इस्तेमाल करने के लिए कानूनी और गैरकानूनी चीजों की लिस्ट भी बनाई जानी चाहिए।

चैपल ने क्रिकेट वेबसाइट क्रिकइंफो के लिए एक कॉलम लिखा। इसमें कहा गया है, ‘गेंद फैन्स गेंदबाज और बैट की लड़ाई देखना चाहते हैं। कोरोना के कारण क्रिकेट भी रुक गया है। ऐसे में यह प्रयोग का सही समय है। लार और पसीने का उपयोग करना अब जोखिम से कम नहीं है, ऐसे में गेंद को चमकाने के लिए पारंपरिक उपायों के विकल्प देने जा रहे हैं। ” ‘

सभी टीम के कप्तान गेंदबाज चमकाने वाली चीजें लिस्ट क्रिएट करें
पूर्व ऑस्ट्रेलियाई लेजेंड ने कहा, म् म् बॉल टेम्परिंग हमेशा से एक विवादित मुद्दा रहा है। यह मंजूरी मिलनी चाहिए मैंने पहले भी कहा कि प्रशासन इंटरनेशनल टीम के कप्तानों से ऐसी चीजों की एक ऐसी सूची बनाने के बारे में कहे, जिनसे गेंद को स्विंग कराने में मदद मिले। इसकी मदद से प्रशासक बल को चमकाने में इस्तेमाल करने वाली कानूनी और गैरकानूनी चीजों की लिस्ट तैयार कर सकते हैं। ”

‘पांचीडब्ल्यू नियम में बदलाव किए जाने चाहिए’
चैपल ने कहा, ‘ीड शेयरीडब्ल्यू के भी नए नियम बनाने चाहिए। इसके मुताबिक, गेंदबाज़ों पर लगता है तो अंपायर का फैसला इस बात पर निर्भर होना चाहिए कि गेंद स्टंप पर लग रही है या नहीं चाहे खिलाड़ी ने गेंद को खेलने का प्रयास किया हो या नहीं। साथ ही गेंद की लाइन पर भी ध्यान नहीं होना चाहिए क्योंकि स्टंप के बाहर हो या नहीं हो, अगर यह स्टंप पर पड़ रहा है या बाहर हो रहा है। क्रिकेट प्रशासकों की कोशिश के खेल में बल्लेबाजी और गेंदबाजों के बीच संतुलन बनाए रखना चाहिए। ”

वॉर्नर ने कहा था कि लार के इस्तेमाल को रोकना जरूरी नहीं है
इससे पहले सचिनंदुलकर, हरभजन सिंह और आशीष नेहरा के अलावा टेइंडीज के पूर्व तेज गेंदबाज माइकल होल्डिंग और पाकिस्तान के गेंदबाजी कोच वकार यूनुस भी लार इस्तेमाल का समर्थन कर चुके हैं। ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डेविड वॉर्नर ने कहा था कि भविष्य में गेंद पर लार के इस्तेमाल को रोकने की जरूरत है। उन्हें लगता है कि इससे कहीं ज्यादा खतरनाक खिलाड़ियों का ड्रेसिंग रूम और अन्य चीजें शेयर करना है।

बॉल टेम्परिंग के कारण स्मिथ-वॉर्नर पर 1-1 साल का प्रतिबंध लगा था
दक्षिण अफ्रीका में स्टीव स्मिथ की कप्तानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम को मार्च 2018 में बॉल टेम्परिंग के कारण शर्मसार होना पड़ा था। इसको लेकर पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग सहित कई दिग्गजों ने खिलाड़ियों की आलोचना की थी। केपटाउन टेस्ट में हुई इस घटना के बाद स्मिथ और डेविड वॉर्नर पर 1 साल का प्रतिबंध लगा दिया गया था, जबकि कैमरून बेनक्रॉफ्ट को 9 महीने के लिए निलंबित किया गया था। यह तीनों खिलाड़ी सैंड वॉलपेपर का इस्तेमाल करके गेंद से छेड़छाड़ करने के दोषी पाए गए थे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *