• पहली बार कोर्ट में डेरेक चॉविन को पेश किया गया, सुनवाई के दौरान कुछ नहीं बोला
  • जॉर्ज के अंतिम संस्कार से पहले ह्यूस्टन में ताबूत रखा गया, छह हजार से ज्यादा लोग जुटे

दैनिक भास्कर

Jun 09, 2020, 01:44 PM IST

वॉशिंगटन. अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड के हत्यारे पुलिस अफसर डेरेक चॉविन को सोमवार को कोर्ट में पेश किया गया। टेलिकॉन्फ्रेंसिंग के जरिए 15 मिनट चली सुनवाई के दौरान आरोपी चुप रहा। कोर्ट ने शर्त और बिना शर्त जमानत के विकल्प दिए। बिना शर्त जमानत के लिए डेरेक को 1.25  डॉलर ( करीब 9.5 करोड़ रुपए) देने होंगे। दूसरे विकल्प में चार शर्तें हैं।
डेरेके के वकील एरिक नेल्सन ने जमानत राशि या शर्तों पर कोई आपत्ति नहीं जताई। अगली सुनवाई 29 जून को होगी। इसमें उसकी तरफ से अपील दायर की जा सकती है।

सशर्त जमानत में 7.5 करोड़ देने होंगे
बर्खास्त पुलिस अफसर अगर सशर्त जमानत के लिए तैयार होता है तो उसे 10 लाख डॉलर (करीब 7.5 करोड़ रुपए) देने होंगे। इसके अलावा चार शर्तें माननी होंगी। मिनेपोलिस शहर छोड़ने पर पाबंदी रहेगी, फ्लॉयड के परिवार से दूर रहना होगा, सिक्योरिटी एजेंसी में काम नहीं कर सकेगा और हथियार सरेंडर करने होंगे। 

जॉर्ज के अंतिम संस्कार से पहले 6 हजार लोग इकट्‌ठा हुए
फ्लायड के अंतिम संस्कार से पहले ह्यूस्टन में 6 हजार से ज्यादा लोग इकट्‌ठा हुए। यहां फाउंटेन ऑफ प्राइज चर्च में छह घंटे तक उसका ताबूत रखा गया। ह्यूस्टन में ही जॉर्ज का बचपन बीता था।  

अटार्नी जनरल ने कहा- एंटीफा की जांच चल रही
अमेरिका में हुए प्रदर्शनों में एंटीफा की मिलीभगत होने की जांच चल रही है। एंटीफा का मतलब एंटी फॉसिस्ट मूवमेंट होता है। यह एक कट्टर वामपंथी संगठन है। एंटीफा जर्मनी के साथ अमेरिका में भी सक्रिय है। ट्रम्प के राष्ट्रपति बनने के बाद से एंटीफा उनकी आलोचना करता रहा है। अटार्नी जनरल विलियम बार ने कहा- इस मामले में तेजी से जांच चल रही है। पिछले हफ्ते बार ने कहा था कि हिंसक घटनाओं में एंटीफा के सदस्य शामिल थे। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प भी एंटीफा को आतंकी संगठन घोषित करने की मांग कर चुके हैं।

25 मई को जॉर्ज की मौत हुई थी
मिनेसोटा राज्य की मिनेपोलिस शहर की पुलिस ने 25 मई को जॉर्ज फ्लॉयड को धोखाधड़ी के आरोप में पकड़ा था। इस दौरान पुलिस अधिकारियों ने उसे हथकड़ी पहनाई और जमीन पर उल्टा लिटाकर उसकी गर्दन को घुटने से करीब 9 मिनट तक दबाए रखा। इससे जॉर्ज की सांसें रुक गईं और उसकी मौत हो गई। घटना का वीडियो वायरल होते ही प्रदर्शन शुरू हो गए।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed