प्रवासी मजदूरों के लिए दिल्ली से रवाना होगी विशेष ट्रेन (फाइल फोटो)
– फोटो: पीटीआई

ख़बर सुनता है

देश में जारी लॉकडाउन के बीच देश के विभिन्न भागों में फंसे प्रवासी कामगारों को उनके गृह राज्य वापस भेजने के लिए विशेष ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। इसी कड़ी में दिल्ली से प्रवासी कामगारों के लिए पहली विशेष ट्रेन गुरुवार को मध्यप्रदेश के लिए रवाना होगी। यह ट्रेन लगभग 1,200 प्रवासियों को उनके गृह राज्य के मध्यप्रदेश में जाएगी। यह जानकारी एक अधिकारी ने दी है। इसके अलावा दिल्ली सरकार बिहार और उत्तर प्रदेश सरकार के साथ भी बातचीत कर रही है। इन राज्यों के कामगारों को भी वापस भेज दिया जाएगा।

अधिकारियों के अनुसार, 12 हजार लोग जिनमें बहुत से प्रवासी मजदूर, पर्यटक, श्रद्धालु और छात्रों ने बुधवार तक अपने गृह राज्य वापस जाने की व्यक्त एक्सप्रेस की। इन अस्थायी और रैन के निवासियों में फंसे 2,100 प्रवासी शामिल हैं। अधिकारियों ने कहा कि प्रक्रिया अभी जारी है और उन्हें ट्रेनों से वापस भेजने की व्यवस्था की जाएगी।

एक अधिकारी ने कहा, ‘मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और शीर्ष नौकरशाह मध्यप्रदेश सरकार और रेलवे मंत्रालय में सभी हितधारकों के साथ विचार-विमर्श कर रहे हैं और हम उन प्रवासियों को वापस भेजने की प्रक्रिया शुरू करना चाहते हैं जो जल्द ही जल्द ही घर जाना चाहते हैं। । ‘

अधिकारियों ने कहा कि पहली ट्रेन में मध्यप्रदेश जाने वाले यात्रियों की अंतिम सूची तैयार कर ली गई है। अधिकारी ने कहा, ‘यात्रियों की पहले जांच की जाएगी और प्रोटोकॉल के अनुसार केवल टचोन्मुख लोगों को ट्रेन में चढ़ने की अनुमति दी जाएगी। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा उन्हें अपने गांवों तक पहुंचने के लिए परिवहन प्रदान करने से पहले उनकी पुनः जांच की जाएगी। इन लोगों को आवश्यक रूप से दो हफ्तों के होम क्वारंटीन (एकांतवास) में रहना होगा। ‘

विभिन्न स्कूलों और खेल परिसरों में बने रैन वासियों और अस्थायी आवासों में रहने वाले ऐसे लोगों की पहचान करने के अलावा, दिल्ली सरकार ने ऑनलाइन आवेदन मांगे थे। दिल्ली में फंसे अन्य राज्यों के लोगों को सरकार की जानकारी उपलब्ध कराने में मदद करने के लिए www.delhishelterboard.in पर एक नंबर मिला है। सरकार के अनुसार, केवल उन लोगों को उनके गृहनगर वापस भेजा जाएगा जो काफी परेशान हैं।

देश में जारी लॉकडाउन के बीच देश के विभिन्न भागों में फंसे प्रवासी कामगारों को उनके गृह राज्य वापस भेजने के लिए विशेष ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। इसी कड़ी में दिल्ली से प्रवासी कामगारों के लिए पहली विशेष ट्रेन गुरुवार को मध्यप्रदेश के लिए रवाना होगी। यह ट्रेन लगभग 1,200 प्रवासियों को उनके गृह राज्य के मध्यप्रदेश में जाएगी। यह जानकारी एक अधिकारी ने दी है। इसके अलावा दिल्ली सरकार बिहार और उत्तर प्रदेश सरकार के साथ भी बातचीत कर रही है। इन राज्यों के कामगारों को भी वापस भेज दिया जाएगा।

अधिकारियों के अनुसार, 12 हजार लोग जिनमें बहुत से प्रवासी मजदूर, पर्यटक, श्रद्धालु और छात्रों ने बुधवार तक अपने गृह राज्य वापस जाने की व्यक्त एक्सप्रेस की। इन अस्थायी और रैन के निवासियों में फंसे 2,100 प्रवासी शामिल हैं। अधिकारियों ने कहा कि प्रक्रिया अभी जारी है और उन्हें ट्रेनों से वापस भेजने की व्यवस्था की जाएगी।

एक अधिकारी ने कहा, ‘मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और शीर्ष नौकरशाह मध्यप्रदेश सरकार और रेलवे मंत्रालय में सभी हितधारकों के साथ विचार-विमर्श कर रहे हैं और हम उन प्रवासियों को वापस भेजने की प्रक्रिया शुरू करना चाहते हैं जो जल्द ही जल्द ही घर जाना चाहते हैं। । ‘

अधिकारियों ने कहा कि पहली ट्रेन में मध्यप्रदेश जाने वाले यात्रियों की अंतिम सूची तैयार कर ली गई है। अधिकारी ने कहा, ‘यात्रियों की पहले जांच की जाएगी और प्रोटोकॉल के अनुसार केवल टचोन्मुख लोगों को ट्रेन में चढ़ने की अनुमति दी जाएगी। मध्यप्रदेश सरकार द्वारा उन्हें अपने गांवों तक पहुंचने के लिए परिवहन प्रदान करने से पहले उनकी पुनः जांच की जाएगी। इन लोगों को आवश्यक रूप से दो हफ्तों के होम क्वारंटीन (एकांतवास) में रहना होगा। ‘

विभिन्न स्कूलों और खेल परिसरों में बने रैन वासियों और अस्थायी आवासों में रहने वाले ऐसे लोगों की पहचान करने के अलावा, दिल्ली सरकार ने ऑनलाइन आवेदन मांगे थे। दिल्ली में फंसे अन्य राज्यों के लोगों को सरकार की जानकारी उपलब्ध कराने में मदद करने के लिए www.delhishelterboard.in पर एक नंबर मिला है। सरकार के अनुसार, केवल उन लोगों को उनके गृहनगर वापस भेजा जाएगा जो काफी परेशान हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *