प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
– फोटो: हॉलीवुड

ख़बर सुनता है

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को संबोधित करते हुए कोरोना संक्रमण को लेकर कहा कि हमने ऐसी परिस्थिति ना देखी है और ना ही सुना है, निश्चित तौर पर मानव जाति के लिए अकल्पनीय है। हमें सर्तक रहना है और आगे भी बढ़ना है। पीएम मोदी ने लॉकडाउन के बीच पांचवीं बार राष्ट्र के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की।

साथ ही लॉकडाउन -4 के संकेत भी दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना से पहले भारत में एक ही बोसाई किट और एन 95 फेस बनाने वाली कंपनियां नहीं थीं, लेकिन अब हर रोज दो लाख बैगे किट्टी और 2 लाख एन -95 फेस बनाए जा रहे हैं। आइए जानते हैं पीएम मोदी के इस संबोधन पर देश के तमाम प्रमुखों और उद्योगपतियों ने क्या प्रतिक्रिया दी है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण- अटल आश्रित भारत अभियान के लिए एक विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा की गई है जो कि जीडीपी का 10 प्रतिशत यानी लगभग 20 लाख करोड़ रुपये है। इससे मध्यम वर्ग और एसएमएमई यानी सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग काफी को काफी फायदा पहुंचेगा। यदि हमारा संकल्प #selfreliantIndia है तो हमारे पास वह सब कुछ है जिसकी मदद से हम लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। कौशल, उद्यम और भावना की मदद से हमने कच्छ के भूकंप से हुई तबाह हुई धरती को एक समृद्ध क्षेत्र में संशोधित कर दिया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ- प्रधानमंत्री जी ने 20 लाख करोड़ रुपये के जिस आर्थिक पैकेज की घोषणा की है, उसके लिए मैं उत्तर प्रदेश की जनता की तरफ से प्रधानमंत्री जी का अभिनंदन हूं। वैश्विक महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस प्रकार आगे बढ़ाया है, भारत आज पूरी दुनिया के लिए एक रोल मॉडल बना।]

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह- यह विशेष आर्थिक पैकेज, परिस्थिति की इस घड़ी में भारत में एक नई आत्म विश्वास पैदा करेगा। समर्थन और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री जी की इस घोषणा से देश की 130 करोड़ जनता में एक विश्वास और भरोसे का भाव जग जाएगा।]

रेल मंत्री पीयूष गोयल- आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए ल वोकल ‘बनना है, न सिर्फ लोकल उत्पादों को खरीदना है, बल्कि उनका प्रचार भी करना है। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारा देश ऐसा कर सकता है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन- 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज, #AmanmanbharBharat अभियान को एक नई गति देगा। राष्ट्र के नाम संबोधन में आज फिर देश के श्रमिकों, किसानों व देश के मध्यम वर्ग के प्रति पीएम मोदी की जी की चिंता झलकी।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला- वैश्विक महामारी कोरोना से महायुद्ध में पीएम ने उत्कृष्ट राहत पैकेज की घोषणा की है। देश के श्रमिकों, किसानों, रेहड़ी वालों से लेकर मध्यम वर्ग और उद्योग व व्यापार जगत तक के विकास के लिए 20 लाख करोड़ के ऐतिहासिक पैकेज से आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार होगा।

मध्य प्रदेश कांग्रेस- केवल 20 लाख करोड़ ..? मोदी जी, ये महामारी है, सब कुछ चौपट हो चुका है। जीडीपी का केवल 10% नहीं, कम से कम जीडीपी का 50% तो दें।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फदनवीस- किसानों, एमएसएमई, आम आदमी, उद्योगों और हर वर्ग के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा के लिए माननीय पीएम मोदी का बहुत धन्यवाद।

महंद्रा और महिंद्रा के सहायक निदेशक पवन कुमार गोका- 20 लाख करोड़ के पैकेज के अलावा पीएम मोदी के भाषण से दो बातें सामने आती हैं, पहली बात यह है कि हमें कोरोना के बंधन में बंधकर नहीं रहना होगा। हमें अपना जीवन शुरू करना होगा। दूसरी बात यह है कि हमें स्थानीय चीजों को खरीदने शुरू करना होगा और इसके बारे में बातें करनी चाहिए।

मनु कुमार जैन- शाओमी इंडिया के कार्यकारी निदेशक मनु कुमार जैन ने कहा कि पीएम द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ का प्रोत्साहन पैकेज का अपना स्वागत है। मुझे यकीन है कि भारत के जीडीपी के 10 प्रतिशत के बराबर यह पैकेज भारतीय अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने और हमें आत्मनिर्भर बनाने में मदद करेगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश को संबोधित करते हुए कोरोना संक्रमण को लेकर कहा कि हमने ऐसी परिस्थिति ना देखी है और ना ही सुना है, निश्चित तौर पर मानव जाति के लिए अकल्पनीय है। हमें सर्तक रहना है और आगे भी बढ़ना है। पीएम मोदी ने लॉकडाउन के बीच पांचवीं बार राष्ट्र के नाम संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की।

साथ ही लॉकडाउन -4 के संकेत भी दिए गए हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना से पहले भारत में एक ही बोसाई किट और एन 95 फेस बनाने वाली कंपनियां नहीं थीं, लेकिन अब हर रोज दो लाख बैगे किट्टी और 2 लाख एन -95 फेस बनाए जा रहे हैं। आइए जानते हैं पीएम मोदी के इस संबोधन पर देश के तमाम प्रमुखों और उद्योगपतियों ने क्या प्रतिक्रिया दी है।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण- अटल आश्रित भारत अभियान के लिए एक विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा की गई है जो कि जीडीपी का 10 प्रतिशत यानी लगभग 20 लाख करोड़ रुपये है। इससे मध्यम वर्ग और एसएमएमई यानी सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग काफी को काफी फायदा पहुंचेगा। यदि हमारा संकल्प #selfreliantIndia है तो हमारे पास वह सब कुछ है जिसकी मदद से हम लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। कौशल, उद्यम और भावना की मदद से हमने कच्छ के भूकंप से हुई तबाह हुई धरती को एक समृद्ध क्षेत्र में संशोधित कर दिया।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ- प्रधानमंत्री जी ने 20 लाख करोड़ रुपये के जिस आर्थिक पैकेज की घोषणा की है, उसके लिए मैं उत्तर प्रदेश की जनता की तरफ से प्रधानमंत्री जी का अभिनंदन हूं। वैश्विक महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस प्रकार आगे बढ़ाया है, भारत आज पूरी दुनिया के लिए एक रोल मॉडल बना।]

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह- यह विशेष आर्थिक पैकेज, परिस्थिति की इस घड़ी में भारत में एक नई आत्म विश्वास पैदा करेगा। समर्थन और आत्मनिर्भर भारत के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री जी की इस घोषणा से देश की 130 करोड़ जनता में एक विश्वास और भरोसे का भाव जग जाएगा।]

रेल मंत्री पीयूष गोयल- आज से हर भारतवासी को अपने लोकल के लिए ल वोकल ‘बनना है, न सिर्फ लोकल उत्पादों को खरीदना है, बल्कि उनका प्रचार भी करना है। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारा देश ऐसा कर सकता है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ। हर्षवर्धन- 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज, #AmanmanbharBharat अभियान को एक नई गति देगा। राष्ट्र के नाम संबोधन में आज फिर देश के श्रमिकों, किसानों व देश के मध्यम वर्ग के प्रति पीएम मोदी की जी की चिंता झलकी।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला- वैश्विक महामारी कोरोना से महायुद्ध में पीएम ने उत्कृष्ट राहत पैकेज की घोषणा की है। देश के श्रमिकों, किसानों, रेहड़ी वालों से लेकर मध्यम वर्ग और उद्योग व व्यापार जगत तक के विकास के लिए 20 लाख करोड़ के ऐतिहासिक पैकेज से आत्मनिर्भर भारत का सपना साकार होगा।

मध्य प्रदेश कांग्रेस- केवल 20 लाख करोड़ ..? मोदी जी, ये महामारी है, सब कुछ चौपट हो चुका है। जीडीपी का केवल 10% नहीं, कम से कम जीडीपी का 50% तो दें।

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फदनवीस- किसानों, एमएसएमई, आम आदमी, उद्योगों और हर वर्ग के लिए 20 लाख करोड़ के पैकेज की घोषणा के लिए माननीय पीएम मोदी का बहुत धन्यवाद।

महंद्रा और महिंद्रा के सहायक निदेशक पवन कुमार गोका- 20 लाख करोड़ के पैकेज के अलावा पीएम मोदी के भाषण से दो बातें सामने आती हैं, पहली बात यह है कि हमें कोरोना के बंधन में बंधकर नहीं रहना होगा। हमें अपना जीवन शुरू करना होगा। दूसरी बात यह है कि हमें स्थानीय चीजों को खरीदने शुरू करना होगा और इसके बारे में बातें करनी चाहिए।

मनु कुमार जैन- शाओमी इंडिया के कार्यकारी निदेशक मनु कुमार जैन ने कहा कि पीएम द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ का प्रोत्साहन पैकेज का अपना स्वागत है। मुझे यकीन है कि भारत के जीडीपी के 10 प्रतिशत के बराबर यह पैकेज भारतीय अर्थव्यवस्था को पुनर्जीवित करने और हमें आत्मनिर्भर बनाने में मदद करेगा।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed