न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जे
अपडेटेड सत, 09 मई 2020 07:17 PM IST

ख़बर सुनता है

जम्मू-कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन के रणर रियाज केू जाने के मारे सिर्फ घाटी में आतंकवादियों की कमर टूट गई है, बल्कि पाकिस्तान में बैठे उसके आका सैयद सलाहुद्दीन को भी बड़ा झटका लगा है। अमेरिका द्वारा घोषित वैश्विक आतंकवादी और हिज्बुल मुजाहिद्दीन के प्रमुख सलाहुद्दीन ने रियाज आकू के मारे के बाद पाकिस्तान में खुलेआम एक सभा की।

इस सभा में सलाहुद्दीन व अन्य आतंकी मौजूद थे। इस वीडियो में सलाहुद्दीन की बातों से साफ झलक रही थी कि आकू के मारे से हिजबुल मुजाहिद्दीन की घाटी में कमर टूट गई है।

इस दौरान सलाहुद्दीन ने इमरान खान सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पाकिस्तान हुकूमत कमजोर है, जबकि भारत मजबूत स्थिति में है।

वहीं, सलाहुद्दीन की इस आतंकी सभा से यह भी साफ होता है कि आतंकवाद पर लगाम लगाने में पाकिस्तान न केवल कमजोर है, बल्कि आतंकवादियों के लिए उसकी सरजमीं एक सुरक्षित पनाहगा भी है।

गृह मंत्रालय की ओर से जारी आतंकवादियों की बर्फ़ में रियाज आकू को ए प्लस प्लस श्रेणी (सबसे ऊपर) में रखा गया था। मोस्टथेड की सूची में सबसे पहला नाम आकू का था जिस पर 12 लाख रुपये का इनाम भी रखा गया था।

नायकू के मारे जाने से अब हिजबुल के साथ दूसरे आतंकी संगठनों का हौसला भी पस्त होना लाजमी है। बताया जा रहा है कि नई भर्ती से लेकर आतंकी ठिकाने बनाने और हमले को अंजाम देने की इनपुट रचने में आकू को समर्थन माना जाता था।

  • कश्मीर के स्थानीय युवाओं के हिजबुल से जुड़ने पर ब्रेक लगेगा
  • टेरिक्लिरिंगों की प्लानिंग
  • हिजबुल के आतंकियों को कमान देने वाला कोई नहीं रहा
  • बचे आतंकवादियों का मनोबल टूटना

100 से अधिक युवाओं को जोड़ा गया था
हिजबुल मुजाहिदीन के लिए कश्मीर के स्थानीय युवाओं की भर्ती करने का जिम्मा रियाज आकू पर ही था। नायकू कश्मीर के 100 से अधिक स्थानीय युवाओं को अपने साथ जोड़ दिया था। वह अभी भी कश्मीरी युवाओं को बरगला कर अपने साथ जोड़ रहा था।

जम्मू-कश्मीर में हिज्बुल मुजाहिद्दीन के रणर रियाज केू जाने के मारे सिर्फ घाटी में आतंकवादियों की कमर टूट गई है, बल्कि पाकिस्तान में बैठे उसके आका सैयद सलाहुद्दीन को भी बड़ा झटका लगा है। अमेरिका द्वारा घोषित वैश्विक आतंकवादी और हिज्बुल मुजाहिद्दीन के प्रमुख सलाहुद्दीन ने रियाज आकू के मारे के बाद पाकिस्तान में खुलेआम एक सभा की।

इस सभा में सलाहुद्दीन व अन्य आतंकी मौजूद थे। इस वीडियो में सलाहुद्दीन की बातों से साफ झलक रही थी कि आकू के मारे से हिजबुल मुजाहिद्दीन की घाटी में कमर टूट गई है।

इस दौरान सलाहुद्दीन ने इमरान खान सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पाकिस्तान हुकूमत कमजोर है, जबकि भारत मजबूत स्थिति में है।

वहीं, सलाहुद्दीन की इस आतंकी सभा से यह भी साफ होता है कि आतंकवाद पर लगाम लगाने में पाकिस्तान न केवल कमजोर है, बल्कि आतंकवादियों के लिए उसकी सरजमीं एक सुरक्षित पनाहगा भी है।


आगे पढ़ें

नायकू पर 12 लाख का इनाम था





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *