• 16 मई को किया गया था टेस्ट, नौसेना ने टेस्ट करने की जगह नहीं बताई
  • लेजर हथियार की पॉवर भी नहीं बताई गई, 150 किलोवाट होने की उम्मीद

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 01:29 PM IST

हॉन्गकॉन्ग. अमेरिकी नौसेना ने एक हाई-एनर्जी लेजर हथियार का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है। यह परीक्षण प्रशांत महासागर में एक वॉरशिप में किया गया है। नौसेना की पैसिफिक फ्लीट ने कहा कि यह हथियार इतना ताकतवर है कि उड़े रहे एयरक्राफ्ट को हवा में ही नष्ट कर सकता है। 
नैवी ने इस परीक्षण के फोटो और विडियो भी जारी किए हैं। फोटो में दिख रहा है कि वॉरशिप के डेक से एक तेज लेजर निकल रही है। जारी किए गए वीडियो में दिखता है कि इस लेजर लाइट के सामने आने वाला ड्रोन जलने लगता है। नौसेना का कहना है कि लेजर हथियार ड्रोन या हथियारों वाली छोटी नावों के खिलाफ भी काम आ सकता है। 

16 मई को प्रशांत महासागर में हुआ टेस्ट
नौसेना ने अभी यह नहीं बताया है कि लेजर हथियार का टेस्ट कहां किया गया है। उन्होंने सिर्फ यह बताया है कि यह 16 मई को प्रशांत महासागर में हुआ था।
अभी इस लेजर हथियार की पॉवर के बारे में भी कोई जानकारी नहीं दी गई है, लेकिन इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट फॉर स्ट्रैटेजिक स्टडीज की 2018 की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस हथियार की पॉवर 150 किलोवाट हो सकती है।  पोर्टलैंड के कमांडिंग ऑफिसर कैप्टन कैरी सैंडर्स ने कहा, ‘‘समुद्र में यूएवी और छोटे एयरक्राफ्ट पर इस टेस्ट को करके हमें इस लेजर हथियार के ताकत के बारे में बहुत महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। नई पॉवर के साथ, हम नौसेना के लिए समुद्र में युद्ध को नए सिरे से परिभाषित कर रहे हैं। ’’

इस तर काम करता है लेजर हथियार
2017 में सीएनएन से बात करते हुए लेजर वीपन सिस्टम ऑफिसर लेफ्टिनेंट केल ह्यूज ने लेजर हथियारों के बारे में बताया था। उन्होंने बताया कि यह हथियार किसी भी चीज पर भारी मात्रा में फोटॉन डालते हैं। इससे उस चीज में आग लग जाती है। लेजर हथियार में हवा और रेंज का कोई प्रभाव नहीं पड़ता। केवल टार्गेट सेट करना पड़ता है और काम हो जाता है।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *