देखभाल की रेटिंग: एमएसएमई क्षेत्र को तत्काल सहायता की आवश्यकता है, जिसमें कार्यशील पूंजी सीमा में वृद्धि और कर रिफंड की तत्काल रिहाई शामिल है, अन्यथा कई इकाइयां व्यवसाय से बाहर जा सकती हैं। सरकार MSME सेक्टर की तत्काल सहायता करे, नहीं तो कई यूनिट्स बिजनेस से बाहर हो जाएंगी


  • ये सेक्टर मुख्य रूप से संक्रमण से संचालित होता है, लेकिन इन दिनों ये वित्तीय संकट से गुजर रहा है
  • बैंक मौजूदा आर्थिक स्थिति को देखते हुए इन सेक्टर को हाई रिस्क पर लोन देने को तैयार नहीं हैं

दैनिक भास्कर

12 मई, 2020, 04:22 PM IST

नई दिल्ली। क्रेडिट रेटिंग एजेंसी कैर (CARE) रेटिंग्स की रिपोर्ट के अनुसार सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (MSME) सेक्टर को तत्काल सहायता की आवश्यकता है, जिसमें कार्यशील पूंजी की सीमा में वृद्धि और टैक्स रिफंड की रिलीज शामिल हो। नहीं तो कई यूनिट्स बिजनेस से बाहर हो सकते हैं।

एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि ये सेक्टर मुख्य रूप से पूरक से संचालित होता है, लेकिन इन दिनों ये वित्तीय संकट से गुजर रहा है। दरअसल, लॉकडाउन के चलते इसका परिचालन रूका हुआ है, लेकिन साथ ही ओवरहेड लागत कंपनियों द्वारा नेटवर्किंग की जा रही है।

डर की वजह से बैंक नहीं दे रहे लोन
रिपोर्ट के मुताबिक इनकम के बिना ये सेक्टर खर्चों को कवर नहीं कर पाएगा और कई कंपनियां बंद हो जाएंगी। कुछ तो बंद होने की कगार पर हैं। ऐसे में ज्यादातर छोटे व्यवसाय सरकार के समर्थन के बिना ये लंबे समय तक टिक नहीं करेंगे। सरकार जीएमएमई सेक्टर को ऋण दिलाने के लिए बैंकों को खाली कर रही है। हालांकि, बैंक मौजूदा आर्थिक स्थिति को देखते हुए इन सेक्टर को हाई रिस्क पर लोन देने को तैयार नहीं हैं।

कर रेटिंग्स में इंडस्ट्री रिसर्च के डिप्टी मैनेजर रश्मि रावत और भाग्यश्री सी भाटी ने कहा, “सरकार की क्रेडिट गारंटी स्कीम के तहत सरकार को छोटे कारोबारियों को 100 फीसदी रिटर्न देना चाहिए। इससे बैंकों के डर को कम करना होगा।”

बिजली bilive करने की सिफारिश
रिपोर्ट में इस बात का जोर दिया गया है कि जीएमएमई को कार्यशील पूंजी की सीमा बढ़ाने की आवश्यकता है, क्योंकि लॉकडाउन के कारण उन्हें कोई रेवेन्यू नहीं मिल रहा है। इसके बाद भी उन्हें अपने नियमित खर्च को पूरा करने के लिए फाइनेंस की आवश्यकता होती है। इसके अलावा, सार्वजनिक क्षेत्र की इकाई और बिजली वितरण कंपनियों द्वारा छोटे व्यवसायों को सभी बकाया राशि को क्लियर करने की मंजूरी भी दी जानी चाहिए। उन्होंने सरकार द्वारा जीएसटी (गुड्स एंड सर्विस टैक्स) और टैक्स रिफंड्स की तत्काल माफ करने की मांग की।

राज्य सरकारों को जीएमएमई की नाकाम इलेक्ट्रिसिटी चार्ज की डिमांड और मार्च-अप्रैल के बिजली बिल को माफी करने पर विचार करना चाहिए, क्योंकि लॉकडाउन से उनका प्रोडक्शन इन्फेंट हुआ है।

3 करोड़ कामगारों ने किया तनाव
रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन के दूसरे और तीसरे फेज में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स आराम मिल गई, लेकिन अब वे फिर से संचालित करने के लिए जिला प्रशासकों की तरफ से स्पष्ट मंजूरी मिलने में देरी हो रही है। मिल्स अभी भी सामान्य परिचालन दरों से नीचे काम शुरू कर रहे हैं। लॉकडाउन की वजह से इनकी मांग और आपूर्ति की गतिविधियों पर असर हुआ है। साथ ही, काम करने वाले श्रमिकों पर भी दबाव बना है। एमएसएमई निर्माण इकाइयों में लगभग 2.75 से 3 करोड़ श्रमिक तनाव शामिल हैं।

रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में 6.3 करोड़ से ज्यादा असिंचित गैर-कृषि एमएसएमई (निर्माण को छोड़कर) विभिन्न आर्थिक गतिविधियों में लगे हुए हैं। यह सेक्टर 11.1 करोड़ से अधिक लोगों को रोजगार प्रदान करता है। एमएसएमई सेक्टर में विनिर्माण, व्यापार और सेवा प्रोवाइडर शामिल हैं। बड़ी संख्या में एमएसएमई बड़े उद्योगों की जरूरतों को पूरा करने वाली सपोर्टिंग यूनिट हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *