• भारत में कोरोनाटे महिलाओं की मृत्युदर 3.1% है, जबकि पुरुषों की 2.6% है
  • पाकिस्तान में कोरोनाटे महिलाओं की मृत्युदर 2.8% है, पुरुषों की 2.0% है
  • इन 33 देशों में मेल और फीमेल मृत्युदर के अनुपात में भी 1% से ज्यादा का अंतर है

दैनिक भास्कर

07 मई, 2020, 05:46 AM IST

रिसर्च डेस्क। कोरोनावायरस से महिलाओं की तुलना में पुरुषों की ज्यादा जान जा रही है। दुनिया के 35 देशों में कोरोनावायरस टाइपों के आंकड़े देखें तो पता चलता है कि 33 देशों में पुरुषों की मृत्युदर महिलाओं से ज्यादा है। इतना ही नहीं, इन 33 देशों में मेल और फीमेल मृत्युदर के अनुपात में भी एक प्रति से ज्यादा का अंतर है। यानी जो पुरुष कोरोना पॉजिटिव आ रहे हैं, उनमें महिलाओं से ज्यादा जान का खतरा है।
हालांकि सिर्फ भारत और पाकिस्तान में कोरोना से महिलाओं की पुरुषों से ज्यादा मौत हो रही है। भारत में कोरोना और महिलाओं की मृत्युदर 3.1% है। जबकि पुरुषों की मृत्युदर 2.6% है। इसी तरह पाकिस्तान में कोरोनाटे महिलाओं की मृत्युदर 2.8% है, जबकि पुरुषों की 2.0% है।

  • नीदरलैंड और इटली में पुरुषों की महिलाओं से दोगुना ज्यादा मौत हो रही है

नीदरलैंड में कोरोनावायरस से पुरुषों की महिलाओं से दोगुना ज्यादा मौतें हो रही हैं। यहां कोरोनाटे पुरुषों की मृत्युदर 18.1% है, जबकि महिलाओं की मृत्युदर 8.1% है। इटली में कोरोना टाइप पुरुषों की मृत्युदर 17.1% है, जबकि महिलाओं की मृत्युदर 9.3% है। बेल्जियम में कोरोना टाइप पुरुषों की मृत्युदर 15.3% है, जबकि महिलाओं की मृत्युदर 8.6% है। इसी तरह स्वीडन में कोरोनाटे पुरुषों की मृत्युदर 15.1% है, जबकि महिलाओं की मृत्युदर 9.1% है।

  • पहली बार चीन में दिखाई दिया था ट्रेंड पर, वैज्ञानिक अभी तक कारण नहीं पा सके हैं

महिलाओं से ज्यादा पुरुषों की मौत का यह ट्रेंड पहली बार वैज्ञानिकों ने चीन में देखा था। उसके बाद जर्मनी, इटली, स्पेन, दक्षिण कोरिया सहित दुनिया के तमाम देशों में भी इसी तरह का ट्रेंड दिखाई दे रहा है। लेकिन वैज्ञानिक अभी तक इसके पीछे की वजह नहीं जान पाए हैं। कुछ रिसर्च में कहा जा रहा है कि ऐसा बॉयोलॉजिकल लाइट्स से हो रहा है। कुछ सेल्स और हार्मोन्स को जिम्मेदार बता रहे हैं।

  • एक्सपर्ट्स कहते हैं कि महिलाओं का इम्युन सिस्टम पुरुषों से ज्यादा मजबूत होता है

यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफ़ोर्ड में डेमोग्राफी और सूर्यमुखी स्वास्थ्य के प्रोफेसर जेनिफर सैड कहते हैं कि महिलाओं का एडापटिव इम्युन सिस्टम पुरुषों से ज्यादा मजबूत होता है। इसीलिए पूरी जिंदगी महिलाओं में संक्रमण से जुड़ी बीमारियां काफी होती हैं, इनसे उनकी मौत भी कम ही होती है। महिलाएं इसकी शुरुआत बच्चे को जन्म देने के साथ ही करती हैं। सामान्य तौर पर भी महिलाओं के शरीर पुरुषों की तुलना में बैक्टीरिया और वायरल बीमारियों को ज्यादा तेजी से दूर भगाते हैं। वैक्सीन भी महिलाओं में पुरुषों से बेहतर काम करते हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *