• ट्विटर ने गलत सूचनाओं को प्रसारित करने से रोकने के लिए एक नया फैक्ट चैकिंग सिस्टम शुरू किया है
  • ट्रम्प के मुताबिक- मेरे लिए जो भी बातें फैलाई जा रहीं, उनका फैक्ट चैक फेक मीडिया सीएनएन और वॉशिंगटन पोस्ट कर रहे

दैनिक भास्कर

May 27, 2020, 10:59 AM IST

वॉशिंगटन. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अपने बयानों को लेकर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से नाराजगी जताई है। ट्रम्प ने मंगलवार को कहा कि ट्विटर 2020 में होने वाले राष्ट्रपति चुनाव में दखलंदाजी कर रहा है। वे बोलने की आजादी का गला घोंटना चाहते हैं, लेकिन मैं ऐसा नहीं होने नहीं दूंगा।

ट्रम्प ने ट्वीट किया, ‘‘वे (ट्विटर) कहते हैं कि मेरा मेल-इन बैलेट्स पर दिया गया बयान गलत है। सच यह है कि मेल-इन बैलेट्स बड़े स्तर पर भ्रष्टाचार और झूठ फैलाएगा। ये फैक्ट चैक फेक मीडिया ग्रुप सीएनएन और अमेजन वॉशिंगटन पोस्ट ने किया है। ट्विटर फ्री स्पीच को पूरी तरह से रोकना चाहता है। राष्ट्रपति होने के नाते मैं ऐसा होने नहीं दूंगा।’’ ट्विटर ने अपने प्लेटफॉर्म पर गलत सूचनाओं को प्रसारित होने से रोकने के लिए नए फैक्ट चैकिंग सिस्टम की शुरुआत की है।

ट्रम्प का तर्क- मेल इन-बैलेट से धोखाधड़ी बढ़ेगी
ट्वीट ने एक और ट्वीट किया, ‘‘मेल इन-बैलेट्स के लिए कोई जगह नहीं है। मेलबॉक्स चोरी हो जाएंगे, बैलेट से धोखाधड़ी या फिर उन्हें अवैध तरीके से छपवा लिया जाएगा या उन पर कोई गलत दस्तखत कर देगा। कैलिफोर्निया के गवर्नर ने ऐसे ही बैलेट्स लाखों लोगों को भेजे, लेकिन किसी ने…।’’ 

मामला कहां से शुरू हुआ

कैलिफोर्निया के गवर्नर गेविन न्यूसम ने हाल ही में घोषणा की कि कोरोना संक्रमण के दौरान राज्य में पोस्टल बैलेट से चुनाव कराएं जाएं। ट्रम्प ने इस तरह से चुनाव कराए जाने को लेकर आशंकाएं जताईं। वहीं, सीएनएन और वॉशिंगटन पोस्ट ने कहा कि इस तरह की आशंकाओं को कोई आधार नहीं है। उधर, कई एक्सपर्ट्स का भी कहना है कि पोस्टल बैलेट से धोखाधड़ी की संभावनाएं बेहद कम हैं।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *