ख़बर सुनें

कोरोना वायरस से दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित देश अमेरिका अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए देश को कोरोना संकट के बीच फिर से खोलने पर विचार कर रहा है।

इसी बीच व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का मानना है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के बीच जून के अंत में अमेरिका में संभावित रूप से होने जा रहे जी-7 सम्मेलन में व्यक्तिगत तौर पर उपस्थिति से अच्छा उदाहरण देश को फिर से खोलने का कुछ और नहीं हो सकता।

जी-7 सात विकसित अर्थव्यवस्थाओं का समूह है जिसमें अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और कनाडा शामिल हैं। जी-7 देशों की वार्षिक अध्यक्षता इस समय अमेरिका के पास है। कोरोना वायरस के कारण यह सम्मेलन वर्चुअल तरीके से कराए जाने की बात चल रही है।

लेकिन बीते एक हफ्ते से ट्रंप सुझाव दे रहे हैं कि आयोजन में व्यक्तिगत रूप से पेश होना चाहिए। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव केयलेग मैकेननी ने मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति चाहते हैं कि यह (जी-7) हो। अमेरिका फिर से खुल रहा है, ऐसे में हम सामान्य हालात बनाना चाहते हैं जिसमें लोग काम पर जाएं, सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मनोरंजक गतिविधियां करें। राष्ट्रपति का मानना है कि ऐसे वक्त में जी-7 से बढ़िया मिसाल कुछ हो ही नहीं सकती। जी-7 सम्मेलन यहां, जून के अंत तक हो सकता है।

उन्होंने कहा कि सम्मेलन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किए गए विश्व नेताओं से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन को अच्छी प्रतिक्रियाएं मिली हैं। उन्होंने कहा कि हम यहां आने वाले विश्व नेताओं की रक्षा करेंगे। हम चाहते हैं कि यह आयोजन हो, हमें लगता है कि यह होगा। विदेशी नेता इस विचार को पंसद कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने इस आयोजन की कोई निश्चित तारीख नहीं बताई।

कोरोना वायरस से दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित देश अमेरिका अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए देश को कोरोना संकट के बीच फिर से खोलने पर विचार कर रहा है।

इसी बीच व्हाइट हाउस ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का मानना है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के बीच जून के अंत में अमेरिका में संभावित रूप से होने जा रहे जी-7 सम्मेलन में व्यक्तिगत तौर पर उपस्थिति से अच्छा उदाहरण देश को फिर से खोलने का कुछ और नहीं हो सकता।

जी-7 सात विकसित अर्थव्यवस्थाओं का समूह है जिसमें अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, इटली, जापान और कनाडा शामिल हैं। जी-7 देशों की वार्षिक अध्यक्षता इस समय अमेरिका के पास है। कोरोना वायरस के कारण यह सम्मेलन वर्चुअल तरीके से कराए जाने की बात चल रही है।

लेकिन बीते एक हफ्ते से ट्रंप सुझाव दे रहे हैं कि आयोजन में व्यक्तिगत रूप से पेश होना चाहिए। व्हाइट हाउस की प्रेस सचिव केयलेग मैकेननी ने मंगलवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि राष्ट्रपति चाहते हैं कि यह (जी-7) हो। अमेरिका फिर से खुल रहा है, ऐसे में हम सामान्य हालात बनाना चाहते हैं जिसमें लोग काम पर जाएं, सामाजिक दूरी का पालन करते हुए मनोरंजक गतिविधियां करें। राष्ट्रपति का मानना है कि ऐसे वक्त में जी-7 से बढ़िया मिसाल कुछ हो ही नहीं सकती। जी-7 सम्मेलन यहां, जून के अंत तक हो सकता है।

उन्होंने कहा कि सम्मेलन में शामिल होने के लिए आमंत्रित किए गए विश्व नेताओं से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन को अच्छी प्रतिक्रियाएं मिली हैं। उन्होंने कहा कि हम यहां आने वाले विश्व नेताओं की रक्षा करेंगे। हम चाहते हैं कि यह आयोजन हो, हमें लगता है कि यह होगा। विदेशी नेता इस विचार को पंसद कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने इस आयोजन की कोई निश्चित तारीख नहीं बताई।

.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *