सुरेश रैना ने बोला झूठ?

सुरेश रैना (सुरेश रैना) ने जुलाई 2018 में आखिरी इंटरनेशनल मैच खेला था, लगभग 2 साल का वक्त बीत चुका है लेकिन उनकी टीम में बदलाव नहीं हुआ है।

नई दिल्ली। बाएं हाथ के आगंतुक सुरेश रैना (सुरेश रैना) ने हाल ही में सोशल मीडिया पर कहा था कि राष्ट्रीय चयन समिति ने उनके साथ नाइंसाफी की है और उन्हें फिट होने के बावजूद टीम इंडिया में नहीं चुना गया था। यही नहीं रैना ने दावा किया था कि उन्हें ये भी नहीं बताया गया कि आखिर वे टीम इंडिया से बाहर क्यों हैं? सुरेश रैना के इन आरोपों पर टीम इंडिया के पूर्व चीफ सेलेक्टर एमएसके प्रसाद (एमएसके प्रसाद) ने जवाब दिया है। प्रसाद ने कहा कि वर्ष 2018-19 के घरेलू सीजन में रैना का फार्म वापसी के लायक नहीं था। भारत के लिए 226 वनडे और 78 टी 20 के अलावा 18 टेस्ट मैचों में 33 साल के रैना ने आखिरी अंतरराष्ट्रीय मैच जुलाई 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था।

रैना कोिलाके प्रसाद का जवाब

पिछले साल नीदरलैंड में घुटने का ऑपरेशन कराने वाले रैना (सुरेश रैना) भारतीय प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेलकर वापसी करना चाहते थे लेकिन अब लीग नाराज हो गई है। प्रसाद ने कहा, ‘वीवीएस लक्ष्मण को 1999 में भारतीय टेस्ट टीम से बाहर किया गया था जिसके बाद उन्होंने घरेलू क्रिकेट में 1400 रन बनाए थे, सीनियर खिलाड़ियों से यही उम्मीद की जाती है।’ रैना ने 2018-19 के घरेलू सत्र में पांच रणजी मैचों में 243 रन बनाए। वहीं आईपीएल 2019 में 17 मैच में 383 रन ही बना पाए।

‘चयन समिति रणजी मैच देखती है’प्रसाद ने कहा, ‘घरेलू क्रिकेट में रैना (सुरेश रैना) का फॉर्म नहीं दिखा जबकि दूसरे युवाओं ने शानदार प्रदर्शन किया। रैना ने YouTube शो ोट स्पोटर्स तक ’में चयनकर्ताओं को उन्हें बाहर करने के कारण बताने का कोई आरोप नहीं लगाया जबकि प्रसाद ने कहा कि यह सही नहीं है। उन्होंने कहा, ‘यह दुखद है कि उन्होंने ऐसा कहा कि चयनकर्ता रणजी मैच नहीं देखते हैं। बीसीसीआई के रिकॉर्ड चेक कर लीजिये कि राष्ट्रीय चयन समिति ने पिछले चार वर्षों में कितने मैच देखे। ‘

रैना से की बात थी- प्रसाद

प्रसाद ने कहा कि उन्होंने खुद रैना (सुरेश रैना) को बाहर करने के बारे में बताया था। उन्होंने कहा, ‘मैंने निजी तौर पर उससे बात की थी, उन्हें अपने कमरे में बुलायाकर भविष्य में संशोधन के लिए उनसे अपेक्षाओं के बारे में बताया था। उस समय उन्होंने मेरे प्रयासों की सराहना की थी, अब उनकी बातें सुनकर मैं हैरान हूं। ‘ उन्होंने कहा, ‘मैंने खुद लखनऊ और कानपुर में पिछले चार साल में उत्तर प्रदेश के चार रणजी मैच देखे। हमारी चयन समिति ने चार साल में 200 से ज्यादा रणजी मैच देखे। ‘

उन्होंने कहा कि टीम से बाहर होने वाले सीनियर खिलाड़ी रैना (सुरेश रैना) को मोहिंदर अमरनाथ का उदाहरण देखना चाहिए जो 20 साल के करियर में कई टीम के बाहर से हुए और वापसी की। उन्होंने कहा, ‘आप मोहिंदर अमरनाथ को देखिए, बहुत बार वह बाहर हुए और घरेलू क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन करके वापसी की।’ मिलके प्रसाद का अगर ये दावा सही है तो क्या सुरेश रैना झूठ बोल रहे हैं? सच क्या है, इसके बारे में जल्द ही पता चलेगा।

लार पर बैन की आशंका पर बोले हरभजन सिंह, न मिली ऐसी तस्वीर तो मशीन बनकर रही होगी सिपाही

400 रन बनाने से डिफ़ॉल्ट हुआ पाकिस्तान का ये दिग्गज बल्लेबाज, कहा- मैं वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाता हूं

News18 हिंदी सबसे पहले हिंदी समाचार हमारे लिए पढ़ना यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर । फोल्ट्स। देखिए क्रिकेट से संलग्न लेटेस्ट समाचार।

प्रथम प्रकाशित: 5 मई, 2020, 4:35 PM IST


इस दिवाली बंपर अधिसूचना
फेस्टिव सीजन 75% की एक्स्ट्रा छूट। केवल 289 में एक साल के लिए सब्सक्राइब करें करें मनी कंट्रोल प्रो।कोड कोड: DIWALI ऑफ़र: 10 नवंबर, 2019 तक

->





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *