जानिए श्रम कानूनों के बारे में राज्य सरकारों और उसके गुणों में परिवर्तन – तीन राज्यों द्वारा श्रम कानून में किए गए बदलाव से क्या फायदा होगा?

Bytechkibaat7

May 9, 2020 , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,


ख़बर सुनता है

देश में आर्थिक विकास को बढ़ाने के उद्देश्य से तीन राज्यों की सरकारों ने श्रम कानून में बदलाव किया है। कोरोनावायरस को फैलाने से रोकने के लिए देश में 25 मार्च से लॉकडाउन जारी है। ऐसे में कई कंपनियों ने छंटनी शुरू कर दी है। इसके कारण अर्थव्यवस्था थम सी गई है। इसलिए रोजगार और निवेश को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकारों में श्रम कानून में बदलाव किया गया है।

उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और गुजरात में श्रम कानून बदला गया है। राज्य सरकार इसे निवेश, नौकरी और अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने के लिए अच्छा फैसला बता रही है।

उत्तर प्रदेश
उत्तर प्रदेश सरकार ने अगले तीन साल के लिए श्रम कानूनों से छूट देने का फैसला किया है। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि सरकार ने एक अध्यादेश को मंजूरी दी है, जिसमें कोरोनावायरस संक्रमण के बाद प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था और निवेश को पुनर्जीवित करने के लिए उद्योगों को श्रम कानूनों से छूट का प्रावधान है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बैठक में हुई राज्य मंत्री परिषद की बैठक में चुन उत्तर प्रदेश चुनिंदा श्रम कानूनों से अस्थाई छूट का अध्यादेश 2020 ’को मंजूरी दी गई, ताकि फैक्ट्रियों और उद्योगों को तीन श्रम कानूनों और एक अन्य कानून के प्रावधान को छोड़ बाकी सभी श्रम कानूनों से छूट दी जा सकती है। महिलाओं और बच्चों से जुड़े श्रम कानून के प्रावधान और कुछ अन्य श्रम कानून लागू रहेंगे।

मध्यप्रदेश

मध्यप्रदेश सरकार ने औद्योगिक विवाद अधिनियम और कारखाने अधिनियम सहित प्रमुख अधिनियमों में संशोधन किए हैं। साथ ही कंपनियों को कोविड -19 परिस्थिति से तेजी से उबरने में मदद करने के लिए कागजी कार्रवाई को कम किया जाता है। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने विभिन्न कदमों की घोषणा करते हुए कहा कि प्रदेश में सभी कार्यों में कार्य करने की पाली 8 घंटे से बढ़कर 12 घंटे की होगी। सप्ताह में 72 घंटे के ओवरटाइम को मंजूरी दी गई है। कारखाना नियोजक उत्पादकता बढ़ाने के लिए सुझाव के रूप में शिफ़्टों में परिवर्तन कर सकता है।

गुजरात
उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की राह पर हुए गुजरात ने भी श्रम कानूनों को आसान बनाने की घोषणा की। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने कहा कि, ‘कम से कम 1,200 दिन के लिए काम करने वाली सभी नई परियोजनाएं या पिछले 1,200 दिनों से काम कर रही परियोजनाओं को श्रम कानूनों के सभी प्रावधानों से छूट दी जाएगी। हालांकि तीन प्रावधान लागू रहेंगे। राज्य सरकार ने वैश्विक कंपनियों के लिए 33,000 हेक्टेयर जमीन की भी पहचान की है, जो चीन से अपना कारोबार स्थानांतरित करना चाहता है। ‘ न्यूनतम मजदूरी के भुगतान से संबंधित कानून, सुरक्षा नियमों का पालन करना और औद्योगिक दुर्घटना के मामले में श्रमिकों को पर्याप्त मुआवजा देना जैसे कानून के अलावा कंपनियों पर श्रम कानून का कोई अन्य प्रावधान लागू नहीं होगा।

केंद्र ने सुधारों का समर्थन किया है

केंद्र सरकार ने आर्थिक विकास को बढ़ाने के लिए संरचनात्मक श्रम सुधारों का समर्थन किया। राज्य सरकार द्वारा लाए गए व्यापक श्रम कानून में बदलाव और छूट का समर्थन किया गया। केंद्र सरकार और मध्यप्रदेश व उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकारों को विश्वास है कि सुधारवादीता और श्रम अनुपालन अवकाश अधिक निवेश को आकर्षित करेंगे और इसके कारण सुनिश्चित होंगे।

संघ विरोध कर रहा है
हालांकि, मजदूर यूनियनों और कुछ अर्थशास्त्रियों का तर्क है कि इस परिवर्तन से श्रम बाजार में अराजकता फैल सकती है और श्रमिकों की उत्पादकता को नुकसान हो सकता है। कानून में बदलाव से ट्रेड यूनियन इसलिए परेशान हैं, क्योंकि ऐसी स्थिति में उन्हें लेबर का शोषण होने का शक है। अभी नियम काफी सख्त हैं, लेकिन फिर भी कई कंपनियों में मजदूरों का शोषण होता है, जिससे मजदूर परेशान हैं।

अन्य राज्यों में भी परिवर्तन हो सकता है
बाकी राज्य भी जल्द ही इसी तरह से चल सकते हैं। वह भी अपने यहाँ नियमों में ढील देने पर विचार कर रहे हैं। हरियाणा ने इस ओर कदम बढ़ाना शुरू भी कर दिया है। पंजाब सरकार राज्य में आर्थिक गतिविधियों को शुरू कर रही है और इसे प्रवासी मजदूरों के लिए आकर्षक सशक्त बनाने के लिए श्रम कानून व आबकारी नीति में बदलाव पर विचार कर रही है। सरकार की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह की बैठक में हुई राज्यसभा की बैठक में राज्य में श्रम कानून और असहनीय नीति में बदलाव पर विचार किया गया।

देश में आर्थिक विकास को बढ़ाने के उद्देश्य से तीन राज्यों की सरकारों ने श्रम कानून में बदलाव किया है। कोरोनावायरस को फैलाने से रोकने के लिए देश में 25 मार्च से लॉकडाउन जारी है। ऐसे में कई कंपनियों ने छंटनी शुरू कर दी है। इसके कारण अर्थव्यवस्था थम सी गई है। इसलिए रोजगार और निवेश को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकारों में श्रम कानून में बदलाव किया गया है।

उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और गुजरात में श्रम कानून बदला गया है। राज्य सरकार इसे निवेश, नौकरी और अर्थव्यवस्था को प्रोत्साहित करने के लिए अच्छा फैसला बता रही है।

उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश सरकार ने अगले तीन साल के लिए श्रम कानूनों से छूट देने का फैसला किया है। राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि सरकार ने एक अध्यादेश को मंजूरी दी है, जिसमें कोरोनावायरस संक्रमण के बाद प्रभावित हुई अर्थव्यवस्था और निवेश को पुनर्जीवित करने के लिए उद्योगों को श्रम कानूनों से छूट का प्रावधान है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की बैठक में हुई राज्य मंत्री परिषद की बैठक में चुन उत्तर प्रदेश चुनिंदा श्रम कानूनों से अस्थाई छूट का अध्यादेश 2020 ’को मंजूरी दी गई, ताकि फैक्ट्रियों और उद्योगों को तीन श्रम कानूनों और एक अन्य कानून के प्रावधान को छोड़ बाकी सभी श्रम कानूनों से छूट दी जा सकती है। महिलाओं और बच्चों से जुड़े श्रम कानून के प्रावधान और कुछ अन्य श्रम कानून लागू रहेंगे।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *