• हांगकांग में लोकतंत्र की मांग को लेकर पिछले साल जोरदार प्रदर्शन हुए थे
  • हाल ही में हांगकांग पुलिस ने 14 प्रमुख लोगों को गिरफ्तार किया है

दैनिक भास्कर

06 मई, 2020, 10:03 PM IST

बीजिंग। चीन ने हांगकांग के प्रदर्शनकारियों को ‘पॉलिटिकल वायरस’ के बारे में बताया है। प्रदर्शनकारियों को जहारीला और हिसंक बताते हैं कि जब तक वे समाप्त नहीं हो जाते तब तक शहर में शांति नहीं आ सकती। बुधवार को चीन के हांगकांग और मकाओ मामलों के कार्यालय (एचकेएमएओ) की ओर से चेतावनी दी गई। हांगकांग में हुए प्रदर्शनों पर चेतावनी जारी करते हुए कहा गया कि चीन इस पर चुप नहीं बैठेगा।
चेतावनी में कहा गया, ‘‘ प्रदर्शनकारियों का मंत्र “अगर हम जलेगें हैं, तो आप भी हमारे साथ जलेंगे” एक राजनीतिक वायरस है। आंदोलन के आयोजक फेंग को ऊंचाई से खींचकर नीचे पटकना चाहते हैं। इसके साथ ही कई हांगकांग वासियों के दिमाग में उनके प्रति सहानुभूति है। अत्याचारियों के प्रति जितनी सहानुभूति होगी, हांगकांग को उतनी ही बड़ी कीमत चुकानी होगी। ” एचकेएमएओ का यह बयानगत में सितंबर में होने वाले चुनाव से पहले आ गया है। इसमें साफ तौर पर लोकतंत्र समर्थक नेताओं को मजबूती दी गई है।

जून से अब तक सात हजार प्रदर्शनकारी गिरफ्तार हुए हैं
हांगकांग में विरोध प्रदर्शन जून 2019 में शुरू हुए थे। तब से लेकर अब तक सात हजार प्रदर्शनकारी गिरफ्तार किए जा चुके हैं। कोरोनावायरस के कारण यहां प्रदर्शन थम गया था। अब फिर से यहां छिटपुट प्रदर्शन शुरू हुए हैं। कुछ सप्ताह पहले ही हांगकांग की पुलिस ने लोकतंत्र समर्थक 14 प्रमुख नेताओं को गिरफ्तार किया है।

प्रत्यर्पण बिल के खिलाफ शूरू हुआ था प्रदर्शन
हांगकांग के मौजूदा प्रत्यर्पण कानून में कई देशों के साथ इसका समझौता नहीं है। इसके कारण यदि कोई व्यक्ति अपराध कर हांगकांग वापस आ जाता है तो उसे मामले की सुनवाई के लिए ऐसे देश में प्रत्यर्पित नहीं किया जा सकता है। चीन भी इस लिस्ट से बाहर था। पिछले साल हांगकांग प्रशासन एक प्रत्यर्पण बिल के बारे में आया था, जिसमें कहा गया है कि यदि काँग का कोई व्यक्ति चीन में कोई अपराध नहीं करता है तो उसके खिलाफ हांगकांग में नहीं बल्कि चीन में मुकदमा चलाया जाएगा। इसके विरोध में प्रदर्शन शुरू हो गए थे। बिल वापस लेने के बाद भी ये प्रदर्शन नहीं थमे और लोकतंत्र की मांग की जाने लगी।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *