न्यूयॉर्क में बीमार हो रहे बच्चे (प्रतीकात्मक)
– फोटो: सोशल मीडिया

ख़बर सुनता है

कोरोनावायरस की वजह से दुर्लभ इन्फ्लेमेट्री सिंड्रम से पीड़ित होने के पांच साल के लड़के की न्यूयॉर्क में मौत हो गई। यह चिंताजनक पहला मामला नहीं है, सात साल के एक बच्चे की भी इसी रहस्यमी बाल रोग से हुई मौत की जांच अभी चल रही है। इन लक्षणों को वर्तमान में कोविद -19 संबंधित पीडियाट्रिक मल्टी-सिस्टम इन्फ्लेमेट्री सिंड्रम नाम दिया गया है।

इन मामलों में कावासाकी रोग और टॉक्सिक शॉक सिंड्रम जैसे लक्षण नजर आ रहे हैं। इसकी वजह भी कोरोनावायरस को बताया गया है। अब तक ऐसे 73 मामले सामने आ चुके हैं। न्यूयॉर्क सिटी के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 17 अप्रैल से 1 मई के बीच अस्पतालों में कावासाकी रोग और टॉक्सिक शॉक सिंड्रम से पीड़ित 15 बच्चे लाए गए। इनकी उम्र दो से 15 वर्ष थी। पाँच में कोटि -19 रोग मिला। 8 बच्चों को ब्लड प्रेशर सपोर्ट व पांच को वेंटिलेटर पर रखा गया। पिछले सप्ताह सात वर्षीय लड़के की मौत वालहाला के मारिया फेरेरी बाल चिकित्सालय में हुई थी। यहां के फिजिशियन इन शेफ माइकल ग्विट्ज के अनुसार बच्चे में न्यूरोलॉजिकल समस्याएं भी पैदा हो गई थीं। उन्हाेंने रहस्यमी इंफ्लेमेट्री सिंड्रम को मौत की वजह बताया और कहा कि ज्यादातर बच्चों में संक्रमण होने पर भी लक्षण सामने नहीं आते, ऐसे में यह दुर्लभ, लेकिन घातक है।

  • न्यूयॉर्क में हुई इस तरह की दूसरी मौत, अब तक 73 बच्चों में मिले ऐसे घातक लक्षण हैं

कोरोनावायरस से इसलिए जोड़ रहा है

इस इन्फ्लेमेट्री सिंड्रम को कोरोनावायरस से जोड़ने की वजह अमेरिकी हंगियाई में मिले अनुभव हैं। यहां इन्फ्लेमेट्री सिंड्रम में कावासाकी रोग और टॉक्सिक शॉक सिंड्रम जैसे, लेकिन कुछ नए लक्षण भी मिले। बच्चों में लगातार बुखार, पेट दर्द, त्वचा में रैश और हृदय व धमनी रोग के लक्षण थे। इन बच्चों को आईसीयू में रखा गया था।

लक्षण: 5 दिन बुखार से भांपें

न्यूयॉर्क प्रशासन ने अभिभावकों को यह लक्षण मिलने पर बच्चों को तुरंत सेललात पहुंचने के लिए कहा है …

  • पांच दिन से फं। हालांकि यह लंबी अवधि है, इसलिए फू होने पर शुरू में ही सतर्क रहें
  • नवजात शिशु को स्तनपान या तरल भोजन लेने में भी परेशानी
  • उल्टी-दस्त, त्वचा का रंग बदलना
  • सांस लेने में कठिनाई, थकान, चिड़चिड़ापन

घर में मिला था

न्यूयॉर्क की वेस्टचेस्टर काउंटी के स्वास्थ्य विभाग के डॉ। डायल हेवलेट के अनुसार जिन बच्चों में इन्फ्लेमेट्री रोग के लक्षण मिले, उनके घर में पहले भी कोई न कोरोनावायरस से संक्रमित है। अस्पताल लाने से दो-चार दिन पहले तक बच्चों में कोई लक्षण नहीं थे।

वायरस से संघर्ष का नया अध्याय
फ्रेंच कूमा, गर्वनर, यॉर्क

कोरोनावायरस की वजह से दुर्लभ इन्फ्लेमेट्री सिंड्रम से पीड़ित होने के पांच साल के लड़के की न्यूयॉर्क में मौत हो गई। यह चिंताजनक पहला मामला नहीं है, सात साल के एक बच्चे की भी इसी रहस्यमी बाल रोग से हुई मौत की जांच अभी चल रही है। इन लक्षणों को वर्तमान में कोविद -19 संबंधित पीडियाट्रिक मल्टी-सिस्टम इन्फ्लेमेट्री सिंड्रम नाम दिया गया है।

इन मामलों में कावासाकी रोग और टॉक्सिक शॉक सिंड्रम जैसे लक्षण नजर आ रहे हैं। इसकी वजह भी कोरोनावायरस को बताया गया है। अब तक ऐसे 73 मामले सामने आ चुके हैं। न्यूयॉर्क सिटी के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार 17 अप्रैल से 1 मई के बीच अस्पतालों में कावासाकी रोग और टॉक्सिक शॉक सिंड्रम से पीड़ित 15 बच्चे लाए गए। इनकी उम्र दो से 15 वर्ष थी। पाँच में कोटि -19 रोग मिला। 8 बच्चों को ब्लड प्रेशर सपोर्ट व पांच को वेंटिलेटर पर रखा गया। पिछले सप्ताह सात वर्षीय लड़के की मौत वालहाला के मारिया फेरेरी बाल चिकित्सालय में हुई थी। यहां के फिजिशियन इन शेफ माइकल ग्विट्ज के अनुसार बच्चे में न्यूरोलॉजिकल समस्याएं भी पैदा हो गई थीं। उन्हाेंने रहस्यमी इंफ्लेमेट्री सिंड्रम को मौत की वजह बताया और कहा कि ज्यादातर बच्चों में संक्रमण होने पर भी लक्षण सामने नहीं आते, ऐसे में यह दुर्लभ, लेकिन घातक है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed