पवन सेठी, अमर उजाला, गुरुग्राम
Updated Mon, 11 मई 2020 01:22 PM IST

गुरुग्राम में मिस्त्री ने की आत्महत्या
– फोटो: सुदर्शन झा

ख़बर सुनता है

लॉकडाउन में घर न जाने से परेशान राजमिस्त्री गंगा राम उर्फ ​​गंगू (50) ने गुरुग्राम की सनसिटी के पास अरावली में पेड़ पर फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक 8 मई को गांव घाटे से घूमने के बहाने घर से निकला था। उसने कई बार पैदल ही घर जाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने रोककर वापस भेज दिया।

मूल रूप से मध्यप्रदेश के छतरपुर के गांव बुढ़ा निवासी गंगाराम गांव घाटे में पत्नी व बच्चों के साथ रहते थे। 3 महीने से क्षेत्र में एक ठेकेदार के पास काम कर रहे थे। ठेकेदार ने लॉकडाउन में उन्हें राशन तो दे दिया था, लेकिन वह परिवार सहित अपने गांव जाकर खेतीबाड़ी संभालना चाहते थे।

8 मई की सुबह गंगा राम घूमने जाने की बात बोलकर घर से निकले थे, लेकिन वह वापस नहीं आया। परिजनों ने काफी तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं लगा। 8 मई को परिजनों ने इसकी शिकायत सेक्टर 56 थाने को दी।

पुलिस ने परिजनों को ये कहकर वापस भेज दिया कि वह ढूंढने के लिए कर्मियों को भेज रही हैं। रविवार शाम को कुछ महिलाओं को अरावली में लकड़ी चुनने गए थे। महिलाओं ने गंगा राम को पेड़ से लटका देख उसके परिजनों को सूचना दी।

रात करीब 12 बजे पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। थाना क्षेत्र सेक्टर 53 का होने के कारण क्षेत्र की पुलिस मौके पर पहुंची। लगभग 3 घंटे की खोज के बाद सोमवार सुबह 3 बजे शव बरामद हुआ।

पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंप दिया है। मृतक के भांजे रोशन ने बताया कि गंगा राम वापस मध्यप्रदेश जाने को लेकर तनाव में था। मामले की जांच कर रहे सहायक उप निरीक्षक जगदीश चंद ने बताया कि मामले में सीआरपीसी की धारा 174 के तहत कार्रवाई की जा रही है।

सार

  • अरावली में पेड़ से लटका मिला शव
  • 8 मई को घूमने के बहाने निकले थे मृतक

विस्तार

लॉकडाउन में घर न जाने से परेशान राजमिस्त्री गंगा राम उर्फ ​​गंगू (50) ने गुरुग्राम की सनसिटी के पास अरावली में पेड़ पर फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। मृतक 8 मई को गांव घाटे से घूमने के बहाने घर से निकला था। उसने कई बार पैदल ही घर जाने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस ने रोककर वापस भेज दिया।

मूल रूप से मध्यप्रदेश के छतरपुर के गांव बुढ़ा निवासी गंगाराम गांव घाटे में पत्नी व बच्चों के साथ रहते थे। 3 महीने से क्षेत्र में एक ठेकेदार के पास काम कर रहे थे। ठेकेदार ने लॉकडाउन में उन्हें राशन तो दे दिया था, लेकिन वह परिवार सहित अपने गांव जाकर खेतीबाड़ी संभालना चाहते थे।

8 मई की सुबह गंगा राम घूमने जाने की बात बोलकर घर से निकले थे, लेकिन वह वापस नहीं आया। परिजनों ने काफी तलाश की, लेकिन कुछ पता नहीं लगा। 8 मई को परिजनों ने इसकी शिकायत सेक्टर 56 थाने को दी।

पुलिस ने परिजनों को ये कहकर वापस भेज दिया कि वह ढूंढने के लिए कर्मियों को भेज रही हैं। रविवार शाम को कुछ महिलाओं को अरावली में लकड़ी चुनने गए थे। महिलाओं ने गंगा राम को पेड़ से लटका देख उसके परिजनों को सूचना दी।

रात करीब 12 बजे पुलिस कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। थाना क्षेत्र सेक्टर 53 का होने के कारण क्षेत्र की पुलिस मौके पर पहुंची। लगभग 3 घंटे की खोज के बाद सोमवार सुबह 3 बजे शव बरामद हुआ।

पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंप दिया है। मृतक के भांजे रोशन ने बताया कि गंगा राम वापस मध्यप्रदेश जाने को लेकर तनाव में था। मामले की जांच कर रहे सहायक उप निरीक्षक जगदीश चंद ने बताया कि मामले में सीआरपीसी की धारा 174 के तहत कार्रवाई की जा रही है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *