• अप्रैल में 2.05 करोड़ अमेरिकी लोग नौकरी से निकाले गए
  • कहते हैं कि सबको रोजगार मिलने में कई साल लग जाएंगे

दैनिक भास्कर

09 मई, 2020, 07:57 बजे IST

नई दिल्ली। कोरोनावायरस के कारण अमेरिका में बेरोजगारी की दर अप्रैल में 14.7 प्रतिशत से ऊपर पहुंच गई है। यह 1933 की महामंदी के बाद सबसे खराब आंकड़ा है। श्रम मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि वायरस को फैलाने से रोकने के लिए व्यावसायिक गतिविधियों पर रोक लगाए जाने के कारण अमेरिका में अप्रैल में 2.05 लोग बेरोजगार हो गए हैं। लगभग एक दशक में अमेरिका में जितना रोजगार बढ़ा था, वह सब सिर्फ एक महीने में बर्बाद हो गया। इससे पहले अगस्त 1932 में बेरोजगारी की दर 25.5 प्रति दर्ज की गई थी। बेरोजगारी की नवीनतम दर 2007-09 के संकट के दिनों में दर्ज की गई बेरोजगारी दर के मुकाबले लगभग दोगुनी है।

3.5% बेरोजगारी दर के स्तर पर फिर से आने में अमेरिका को लग जाएगा कई साल
मार्च और अप्रैल के दौरान अमेरिका के राष्ट्ररति डोनाल्ड ट्रम्प और कई प्रांतीय व स्थानीय लोगों ने लॉकडाउन के कदम उठाए थे, ताकि नए कोरोनावायरस (को विभाजित -19) को फैलाने से रोका जा सके। इसके कारण कंपनियों ने अचानक लाखों लोगों को नौकरी से निकाल दिया। अनुमान का अनुमान है कि फरवरी 2020 की 3.5 फीसदी बेरोजगारी दर के स्तर पर फिर से आने में अमेरिका को कई साल लग सकते हैं। ट्रम्प ने शुक्रवार को एक साक्षात्कार में कहा कि अर्थव्यवस्था में तेजी से सुधार होगा। जल्द ही सबको नौकरी मिल जाएगी।

2021 में भी बेरोजगारी की दर लगभग 10 प्रति रहने की आशंका
अमेरिका के विभिन्न प्रांतों के गवर्नर इस बात पर बहस कर रहे हैं कि उनके प्रांत की अर्थव्यवस्था को कब से खोला जाए। माना जा रहा है कि जल्दी अर्थव्यवस्था को खोलने देने से लोगों को नौकरी मिलनी शुरू हो जाएगी। लेकिन बेरोजगारी का स्तर इतना व्यापक है कि सभी कर्मचारियों के तुरंत काम पर आ जाने की उम्मीद नहीं की जा सकती है। स्टीफेल के मुख्य अर्थशास्त्री लिंडसे पिग्जा ने कहा कि 2021 में भी बेरोजगारी की दर लगभग 10 प्रतिशत कम हो सकती है।

भोजन के लिए लाखों लोग खाद्य बैंक्स पर आश्रित थे
अचानक बेरोजगारी बढ़ने से लाखों लोग भोजन के लिए खाद्य बैंक्स पर आश्रित हो गए हैं और पहली बार सरकारी सहायता की मांग कर रहे हैं।) कई लाख लोगों ने किराया देना बंद कर दिया है। कइयो का स्वास्थ्य बीमा बंद हो गया है और कई लाख लोग घर बेचने के लिए मजबूर हो गए हैं।

आतिथ्य उद्योग में 77 लाख लोग बेरोजगार हुए
बेरोजगारी की शुरुआत आतिथ्य सेक्टर से हुई। आतिथ्य क्षेत्र में अप्रैल में 77 लाख लोग बेरोजगार हुए। अन्य उद्योग भी बुरी तरह से प्रभावित हुए हैं। रिटेल सेक्टर में 21 लाख लोगों की नौकरी चली गई। परिचालन क्षेत्र में 13 लाख लोग बेरोजगार हुए। व्हाइट हाउस के श्रमिक और सरकारी कर्मचारियों को भी बेरोजगारी का सामना करना पड़ा। इस तरह की कंपनियों ने 21 लाख लोगों को नौकरी से निकाल दिया है। प्रांतीय और स्थानीय सरकारों ने लगभग 10 लाख को नौकरी से हटा दिया है। आने वाले समय में सरकारी क्षेत्र में और संबंधित हो सकते हैं, क्योंकि अधिकारियों को बजट में कमी का सामना करना पड़ रहा है। यहां तक ​​कि स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में भी पिछले महीने 14 लाख कर्मचारी बेरोजगार हो गए।

अर्थशास्त्रियों के मुताबिक आम बेरोजगारी सरकारी आंकड़े से ज्यादा है
अप्रैल की बेरोजगारी का आंकड़ा हालांकि भयावह है, लेकिन अर्थशास्त्रियों का मानना ​​है कि सरकारी आंकड़ा वास्तविकता से काफी कम है। श्रम मंत्रालय ने कहा कि जिन कर्मचारियों ने कहा है कि वे किसी अन्य कारण से काम पर नहीं पहुंच पा रहे हैं, अगर उन्हें भी बेरोजगार मान लिया जाए, तो बेरोजगारी की दर करीब 20 फीसदी है।

महिलाओं में बेरोजगारी की दर पुरुषों के मुकाबले 3 फीसदी ज्यादा है
इतना स्पष्ट है कि हस्पैनिक्स, अफ्रीकन-ब्रिटेन और रेस्तरां व रिटेल सेक्टरों में कम मजदूरी पर काम करने वाले लोग बेरोजगारी से सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं। अप्रवासी समुदाय में बेरोजगारी की दर अप्रैल में 18.9 प्रतिशत से ऊपर पहुंच गई। अफ्रीकी-अमेरिकी समुदायर में यह दर्रा 16.7 प्रतिशत रहा। श्वेत लोगों में बेरोजगारी की दर 14.2 प्रतिशत दर्ज की गई। महिला वर्ग में बेरोजगारी की दर पुरुषों की बेरोजगारी के मुकाबले करीब 3 फीसदी अंक ज्यादा है।

कम शिक्षितों में रिकॉर्ड 21.2 प्रतिशत बेरोजगारी
उच्च शिक्षित सफेद श्रमिक श्रमिक तो घर से काम कर रहे हैं, लेकिन कम मजदूरी वाले लोगों के पास यह सुविधा नहीं है। जिन श्रमिकों के पास हाई स्कूल से नीचे की डिग्री है, उनमें बेरोजगारी की दर 21.2 प्रतिशत पर पहुंच गई। यह दर महामंदी के बाद दर्ज की गई दर से बहुत अधिक है। अमेरिकी कांग्रेस ने लगभग 3 लाख करोड़ डॉलर की राहत योजना को मंजूरी दी है, लेकिन इसका लाभ बहुत लोगों तक नहीं पहुंच पाया है। वेबसाइट के फेल होने और इमेजिंग लाइन व्यस्त होने से लाखों लोग बेरोजगारी भत्ता हासिल नहीं कर पा रहे हैं।

अर्थव्यवस्था में तुरंत तेजी नहीं आ रही है
विशेषज्ञों के बीच आम सहमति बन रही है कि अर्थव्यवस्था में तुरंत तेजी नहीं आ रही है। रिचमोंड के फेडरल रिजर्व के प्रेसिडेंट थोमस बार्किन ने गुरुवार को कहा कि तेज गिरावट के बाद तेज उछाल वाली नहीं है। यह तेज गिरावट और डायमे-डायमे उछाल वाली स्थिति है। डार्टमौथ में इकॉनोमिक्स के प्रोफेसर डैनी ब्लैंशफलावर ने कहा कि यह बहुत बड़ी विधाता है।) जब पहाड़ी की ऊंचाई से कुछ गिरता है, तो तुरंत नहीं संभलता है।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *