ख़बर सुनता है

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के आगे दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिकाने टेकते हुए नजर आ रहा है। वहीं, अमेरिका में कोरोनावायरस के हस्तक्षेप के लिए गठित व्हिट हाउस टास्क फोर्स के दो सदस्यों ने कोरोनाबन व्यक्ति के साथ संपर्क में आने पर खुद को क्वारंटीन कर लिया है।

यह एक कड़वी सच्चाई है कि देश की सबसे सुरक्षित मानी जाने वाली इमारत भी कोरोना से सुरक्षित नहीं है। अमेरिका में कोरोना से हालात बेहद खराब हैं। सबसे ज्यादा महान स्थिति न्यूयॉर्क की है, जहां देश में सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं।

सीडीसी ने शनिवार शाम एक बयान जारी करते हुए कहा कि ‘सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन’ के निदेशक डॉ रॉबर्ट रेडफील्ड अगले कुछ हफ्तों तक टेलीवर्किंग (फोन और कंप्यूटर की मदद से घर से काम करना) करेंगे, क्योंकि वह व्हाइट हाउस में एक गंभीर व्यक्ति है। के साथ संपर्क में आए थे। बयान में कहा गया है कि वह अभी ठीक महसूस कर रहे हैं और उनमें कोई लक्षण नहीं है।

इससे कुछ घंटे पहले ही, ‘फूड एंड ड्रगिस्ता’ (एफडीए) ने पुष्टि की कि एफडीए के आयुक्त स्टीफनिन एक ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आए हैं, जो कोरोनाबर्ट थे। इसके बाद एहतियातन उन्होंने खुद को दो सप्ताह तक क्वारंटीन कर लिया है। हालांकि, उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

गौरतलब हो कि शुक्रवार को उपराष्ट्रपति माइक पेंस की प्रेस सचिव भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी। इस तरह वह व्हाइट हाउस कॉम्पलैक्स में काम करने वाली दूसरी किस्मों हैं, जो कोरोनावायरस से पॉजिटिव पाया गया। वहीं, इससे पहले व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने गुरुवार को इस बात की पुष्टि की थी कि ट्रंप के निजी सहायक के रूप में सेवरत एक सैन्य सदस्य बुधवार को को विभाजित -19 से भिन्न पाया गया था।

बता दें कि दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना के कहर से लगातार जूझ रही है। इस वायरस से मरने वालों की संख्या दो लाख 76 हजार से ज्यादा हो गई है और टाइपों की संख्या 40 लाख 12 हजार से ज्यादा हो गई है। जबकि 13 लाख 85 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं।

दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित देश अमेरिका में मृतकों की संख्या 78 हजार को पार कर गई है और 13 लाख 21 हजार से ज्यादा लोग भिन्न हैं।

वैश्विक महामारी कोरोनावायरस के आगे दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश अमेरिकाने टेकते हुए नजर आ रहा है। वहीं, अमेरिका में कोरोनावायरस के हस्तक्षेप के लिए गठित व्हिट हाउस टास्क फोर्स के दो सदस्यों ने कोरोनाबन व्यक्ति के साथ संपर्क में आने पर खुद को क्वारंटीन कर लिया है।

यह एक कड़वी सच्चाई है कि देश की सबसे सुरक्षित मानी जाने वाली इमारत भी कोरोना से सुरक्षित नहीं है। अमेरिका में कोरोना से हालात बेहद खराब हैं। सबसे ज्यादा महान स्थिति न्यूयॉर्क की है, जहां देश में सबसे ज्यादा मामले सामने आए हैं।

सीडीसी ने शनिवार शाम एक बयान जारी करते हुए कहा कि ‘सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन’ के निदेशक डॉ रॉबर्ट रेडफील्ड अगले कुछ हफ्तों तक टेलीवर्किंग (फोन और कंप्यूटर की मदद से घर से काम करना) करेंगे, क्योंकि वह व्हाइट हाउस में एक गंभीर व्यक्ति है। के साथ संपर्क में आए थे। बयान में कहा गया है कि वह अभी ठीक महसूस कर रहे हैं और उनमें कोई लक्षण नहीं है।

इससे कुछ घंटे पहले ही, ‘फूड एंड ड्रगिस्ता’ (एफडीए) ने पुष्टि की कि एफडीए के आयुक्त स्टीफनिन एक ऐसे व्यक्ति के संपर्क में आए हैं, जो कोरोनाबर्ट थे। इसके बाद एहतियातन उन्होंने खुद को दो सप्ताह तक क्वारंटीन कर लिया है। हालांकि, उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई है।

गौरतलब हो कि शुक्रवार को उपराष्ट्रपति माइक पेंस की प्रेस सचिव भी कोरोना पॉजिटिव पाई गई थी। इस तरह वह व्हाइट हाउस कॉम्पलैक्स में काम करने वाली दूसरी किस्मों हैं, जो कोरोनावायरस से पॉजिटिव पाया गया। वहीं, इससे पहले व्हाइट हाउस के अधिकारियों ने गुरुवार को इस बात की पुष्टि की थी कि ट्रंप के निजी सहायक के रूप में सेवरत एक सैन्य सदस्य बुधवार को को विभाजित -19 से भिन्न पाया गया था।

बता दें कि दुनिया वैश्विक महामारी कोरोना के कहर से लगातार जूझ रही है। इस वायरस से मरने वालों की संख्या दो लाख 76 हजार से ज्यादा हो गई है और टाइपों की संख्या 40 लाख 12 हजार से ज्यादा हो गई है। जबकि 13 लाख 85 हजार से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं।

दुनिया में सबसे ज्यादा प्रभावित देश अमेरिका में मृतकों की संख्या 78 हजार को पार कर गई है और 13 लाख 21 हजार से ज्यादा लोग भिन्न हैं।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *