कोरोनावायरस को लेकर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग और विश्व स्वास्थ्य संगठन की मिलीभगत को लेकर एक बड़ा खुलासा हुआ है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने जनवरी में डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ टेड्रोस को निजी रूप से कोरोनावायरस को लेकर वैश्विक चेतावनी देर से देने के लिए कहा था।

जर्मनी के डेर स्पाइजेल में इस रिपोर्ट को छापा गया है। रिपोर्ट में कहा गया है कि देश के इंटेलीजेंस सेवाओं से यह सूचना मिली है। इंटेलीजेंस के मुताबिक 21 जनवरी को चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने डब्ल्यूएचओ से प्रमुख से बात कर कहा कि इस महामारी के बारे में दुनिया को देरी से बताएं।

इस रिपोर्ट के छपने के बाद ही विश्व स्वास्थ्य संगठन ने एक बयान जारी किया और कहा कि ये रिपोर्ट पूरी तरह से भ्रामक और निराधार है। इसमें लिखा है कि 21 जनवरी को डॉ टेड्रोस और शी जिनपिंग नहीं मिले थे और ना ही फोन पर कोई बात हुई थी।

बयान में यह भी लिखा गया था कि इस तरह की भ्रामक खबरों से संगठन का मनोबल कम होता है, जो कि कोरोना जैसी महामारी को लड़ने के लिए लगातार प्रयास कर रहा है। बयान में कहा गया है कि चीन ने 20 जनवरी को ही कोरोनावायरस के इंसान से इंसान में संक्रमण फैलने की खबर दे दी थी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी 22 जनवरी को इस बात की पुष्टि कर दी थी कि वुहान में इंसान से इंसान में संक्रमण फैल रहा है। अप्रैल में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर आरोप लगाया था कि संगठन चीनी प्रोपोगेंडा के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है और इसके बाद अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को देने वाली फंडिंग रोक दी थी।

अभी पिछले सप्ताह ही राष्ट्रपति ट्रम्प ने डब्ल्यूएचओ पर एक और आरोप लगाया था कि विश्व स्वास्थ्य संगठन एक आपदा है, जो भी यह संगठन कह रहा है कि सब गलत बताया जा रहा है। ट्रंप ने कहा कि यह संगठन चीन को केंद्र में रखकर काम करता है।

ट्रंप ने कहा कि चीन जो कहता है डब्ल्यूएचओ वही करता है। हमारा देश संगठन को सालाना 450 मिलियन डॉलर का अनुदान करता है और वहीं चीन केवल 38 मिलियन डॉलर की राशि ही योगदान देता है।

इस सप्ताह की शुरुआत में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन पर आरोप लगाते हुए कहा था कि अमेरिका के पास पुख्ता सबूत हैं कि चीन ने किस तरह दुनिया को कोरोनावायरस को लेकर गलत सूचनाएं दी हैं और बहकाया है।

रविवार यानि नौ मई को डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हम तहकीक करना चाहते हैं लेकिन चीन करने वाला नहीं है। ट्रंप ने कहा कि निजी तौर पर उन्हें लगता है कि चीन और विश्व स्वास्थ्य संगठन से बहुत बड़ी गलती हुई है और ये दोनों इस गलती को स्वीकार नहीं कर रहे हैं।

ट्रम्प का बयान तब आया जब होमलैंड सिक्योरिटी के डिपार्टमेंट ने एक रिपोर्ट साझा की जिसमें कहा गया कि अमेरिका के मुताबिक चीन ने कहाकर महावीर के परिणामों को स्पष्ट तौर पर नहीं बताया और चुपके से मेडिकल दवाइयों का कोष तैयार कर लिया।

एक पांच देशों के इंटेलीजेंस समूह ने जानकारी दी कि किस तरह चीन ने कोरोनावायरस पर अपने मुखबिर को गायब कर दिया था। वायरस के पहले के सैंपलों को नष्ट कर दिया गया और इंटरनेट से वायरस से जुड़ी सारी जानकारियों को खत्म कर दिया गया था।

इस पांच देशों के इंटेलीजेंस समूह में अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और न्यूजीलैंड शामिल है। कोरोनावायरस से अब तक खोज में लगभग 40 लाख लोग प्रभावित हैं और 2 लाख 70 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है।

अकेले अमेरिका में 13 लाख लोग कोरोनावायरस से आशंकित हैं और लगभग 80 हजार लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। पिछले महीने ब्रिटेन के एक सांसद ने चीन को चेतावनी दी थी कि चीन को कोरोना की वजह से होने वाली मौतों की कीमत चुकानी होगी।

इस समूह की रिपोर्ट में मुख्य रूप से यह आरोप लगाया गया है कि चीन के डॉ ली वेनल और जिन्होंने सबसे पहले कोरोनावायरस को लेकर अभिव्यक्ति की थी, उन्हें फरवरी में यह कहलवाया गया कि उन्होंने गलत जानकारी साझा की है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना को लेकर गलत जानकारी देने से कम लोगों की जान जा चुकी है। ये जरूरी है कि सरकार साफ और पारदर्शी संदेश दे ताकि आगे उचित कदम उठाकर लोगों की जानें बचाई जा सकें।





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *